बोली, उपभाषा और भाषा – अंतर एवं परिभाषा

बोली, उपभाषा और भाषा

Boli
Boli

बोली- किसी छोटे क्षेत्र में स्थानीय व्यवहार में प्रयुक्त होने वाली भाषा का वह अल्पविकसित रूप बोली कहलाता है, जिसका कोई लिखित रूप अथवा साहित्य नहीं होता। अतएव क्षेत्र-विशेष में साधारण सामाजिक व्यवहार में आने वाला बोलचाल का भाषा-रूप ही ‘बोली‘ है। पढ़ें- हिन्दी कि बोलियाँ

Upbhasha
Upbhasha

उपभाषा– ‘उपभाषा’ अपेक्षाकृत विस्तृत क्षेत्र अथवा प्रदेश में बोल-चाल में प्रयुक्त आता है तथा उसमें साहित्य रचना भी की जाती है। उपभाषा क्षेत्र में एकाधिक बोलियाँ हो सकती हैं।

Bhasha
Bhasha

भाषा– ‘भाषा‘ एक विशाल-विस्तृत क्षेत्र में बोलने, लिखने, साहित्य रचना करने तथा संचारमाध्यमों के परस्पर आदान-प्रदान में प्रयुक्त होती है। भाषा में परिवर्तन के कारण-कई पीढियों के अन्तर, स्थान-विशेष की जलवायु, दैहिक भिन्नता, भौगोलिक विभिन्नता, जातीय और मानसिक अवस्था में अन्तर, रुचि और प्रवृत्ति में परिवर्तन एवं बदलाव तथा प्रयत्न साधन आदि कारणों से भाषा में परिवर्तन होते हैं।

अन्य महत्वपूर्ण टॉपिक-

Related Posts

भारत की भाषाएं – संवैधानिक और आधिकारिक भाषाएं

भारत की भाषाएं (Languages of India) : भारत में ऐसी भाषाएं लगभग 121 है, जो 10,000 या उससे अधिक लोगों द्वारा बोली जाती हैं। संख्या के मामले में भारत में...Read more !

हिन्दी की बोलियां – उपभाषा और उनका बोली क्षेत्र – Hindi ki Upbhasha

हिन्दी की बोलियां हिन्दी विशाल भू-भाग की भाषा होने के कारण इसकी अनेक बोलियाँ अलग-अलग क्षेत्रों में प्रयुक्त होती हैं। जिनमें से अवधी, ब्रजभाषा, कन्नौजी, बुंदेली, बघेली, हड़ौती, भोजपुरी, हरयाणवी,...Read more !

निबंध और निबंधकार – लेखक और रचनाएँ, हिन्दी

हिन्दी के निबंध और निबंधकार निबन्ध शब्द हिन्दी में संस्कृत से ग्रहण किया गया है, परन्तु आज इससे अंग्रेजी ‘ऐसे‘ (Essay) का बोध होता है, फ्रेंच में इसे ‘एसाई‘ (Essie) कहते...Read more !

Animals Name in Hindi (janvaro ke naam), Sanskrit and English- List & table, 50 animals name

Animals Name in Hindi (जानवरों के नाम) In this chapter you will know the names of animal in Hindi, Sanskrit and English, We are going to discuss animals name’s List...Read more !

सरस्वती देवी – माँ सरस्वती मंत्र, माँ सरस्वती के नाम, सरस्वती विवाह, सरस्वती वंदना

सरस्वती देवी सरस्वती का जन्म: भगवान विष्णु जी की आज्ञा से जब ब्रह्मा जी ने सृष्टि की रचना की तो पृथ्वी पूरी तरह से निर्जन थी व चारों ओर उदासी का...Read more !