Latest Articles

मुक्तक काव्य (Muktak Kavya)

मुक्तक-काव्य महाकाव्य और खण्डकाव्य से भिन्न प्रकार का होता है। इस काव्य में एक अनुभूति, एक भाव या कल्पना का चित्रण किया जाता है। इसमें महाकाव्य या खण्डकाव्य जैसी धारावाहिता नहीं होती। फिर भी वर्ण्य-विषय अपने में पूर्ण हो...Read More !

नाट्यशास्त्र (Natya Shastra)

नाट्यशास्त्र (Natya Shastra) में नाटक से संबंधित शास्त्रीय जानकारी होती है। यह नाटकों से संबंधित सबसे प्राचीनतम् ग्रंथ है। नाट्य शास्त्र को 300 ई०पू० भरतमुनि ने लिखा था। जिनका जन्म 400 से 100 ईशा पूर्व के मध्य हुआ था। ना...Read More !

प्रबन्ध काव्य (Prabandh Kavya)

प्रबन्ध काव्य (Prabandh Kavya) में कोई प्रमुख कथा काव्य के आदि से अंत तक क्रमबद्ध रूप में चलती है। कथा का क्रम बीच में कहीं नहीं टूटता और गौण कथाएँ बीच-बीच में सहायक बन कर आती हैं। जैसे- रामचरित मानस। प्रबन्ध काव्य के भे...Read More !

काल – हिन्दी में काल क्या होते हैं, काल की परिभाषा, भेद, प्रकार और उदाहरण

काल (Tense) : Kaal Hindi Grammar काल किसे कहते है, काल की परिभाषा क्या है, काल के उदाहरण क्या हैं, काल के सभी भेदों और उपभेदों के बारे में सम्पूर्ण जानकारी उनके उदाहरण सहित इस पोस्ट में दी गई है। इस चैप्टर को पढ़नें के बा...Read More !

अंग्रेजी वर्णमाला – English Alphabet और chart, pdf, printable | Angreji varnamala

अंग्रेजी वर्णमाला (Angreji Varnamala) अंग्रेजी वर्णमाला (English Alphabet) एक लैटिन आधारित वर्णमाला है। जिसमें 26 वर्ण होते हैं: ए, बी, सी, डी, ई, एफ, जी, एच, आई, जे, के, एल, एम, एन, ओ, पी, क्यू, आर, एस, टी, यू, वी, डब्ल...Read More !

दृश्य काव्य (Drishya Kavya)

जिस काव्य या साहित्य को आँखों से देखकर, प्रत्यक्ष दृश्यों का अवलोकन कर रस भाव की अनुभूति की जाती है, उसे दृश्य काव्य (Drishya Kavya) कहा जाता है। इस आधार पर दृश्य काव्य की अवस्थिति मंच और मंचीय होती है। दृश्य काव्य के भे...Read More !

Popular Posts

अलंकार – अलंकार की परिभाषा, भेद, उदाहरण – Alankar in Hindi

अलंकार (Figure of Speech) परिभाषा: अलंकार का शाब्दिक अर्थ होता है- 'आभूषण', जिस प्रकार स्त्री की शोभा आभूषण से उसी प्रकार काव्य की शोभा अलंकार से होती है अर्थात जो किसी वस्तु को अलंकृत करे वह अलंकार कहलाता है। संक्षेप मे...Read More !

समास – परिभाषा, भेद और उदाहरण- Samas In Hindi

Samas (समास) समास (Samas In Hindi): समास का तात्पर्य है ‘संक्षिप्तीकरण’। हिन्दी व्याकरण में समास का शाब्दिक अर्थ होता है छोटा रूप; अर्थात जब दो या दो से अधिक शब्दों से मिलकर जो नया और छोटा शब्द बनता है उस शब्द को हिन्दी...Read More !

सर्वनाम – सर्वनाम के भेद, परिभाषा, उदाहरण – Sarvanam ke bhed

Sarvanam (Pronoun) सर्वनाम: वह शब्द जो संज्ञा के बदले में आए उसे सर्वनाम कहते हैं। जैसे – मैं, तुम, हम, वह, आप, उसका, उसकी आदि। यह संज्ञा के स्थान पर आता है। संज्ञा और संज्ञा वाक्यांशों को आम तौर पर वह, यह, उसका और इसका...Read More !

Vilom Shabd in Hindi (Antonyms) विलोम शब्द | विपरीतार्थक शब्द : हिन्दी व्याकरण

विलोम शब्द जिन शब्दों के अपने निश्चित अर्थ होते हैं, उन अर्थों के विपरीत अर्थ देने वाले शब्द विलोम शब्द या विपरीतार्थक शब्द (Antonyms) कहलाते हैं। उदाहरण के लिए जैसे- भाई-बहन, राजा-रानी, वर-वधू, लड़का-लडकी गाय-बैल, कुत्त...Read More !

विशेषण – परिभाषा, भेद और उदाहरण, Visheshan in Hindi

विशेषण (Visheshan in Hindi) संज्ञा अथवा सर्वनाम शब्दों की विशेषता (गुण, दोष, संख्या, परिमाण आदि) बताने वाले शब्द विशेषण कहलाते हैं। जैसे - बड़ा, काला, लंबा, दयालु, भारी, सुन्दर, कायर, टेढ़ा-मेढ़ा, एक, दो आदि। महत्वपूर्ण...Read More !

रस – परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी व्याकरण, Ras in Hindi

Ras (रस)- रस क्या होते हैं? रस की परिभाषा रस : रस का शाब्दिक अर्थ है 'आनन्द'। काव्य को पढ़ने या सुनने से जिस आनन्द की अनुभूति होती है, उसे रस कहा जाता है। काव्य में रस का वही स्थान है, जो शरीर में आत्मा का है। जिस प्रकार...Read More !

Profiles

Stay updated via social profiles, and get fresh content from us.