LATEST ARTICLES

Hindi Diwas – हिन्दी दिवस एवं विश्व हिंदी दिवस कब एवं क्यों मनाया जाता है?

हिंदी दिवस (Hindi Diwas) हिंदी दिवस कब एवं क्यों मनाया जाता है? भारत की आजादी के समय भारतीय संविधान में किसी भी भाषा को राजभाषा का दर्जा प्राप्त नहीं था।...Read more !

अपेक्षित अधिगम स्तर (Expected Learning Outcome) – शिक्षा शास्त्र

अपेक्षित अधिगम स्तर की संकल्पना Concept of Expected Learning Outcome राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 1986 की संस्तुति के अनुसार विद्यालयीन शिक्षा के प्रत्येक स्तर हेतु अधिगम के न्यूनतम स्तर निर्धारित किये...Read more !

छात्र सहभागिता कौशल – अर्थ एवं परिभाषा, विचारात्मक प्रश्न, छात्र सहभागिता बढ़ाने के उपाय

छात्र सहभागिता कौशल (Student’s Participation Skill) छात्र सहभागिता क्या है? छात्र सहभागिता को समझने की दृष्टि से यदि प्राथमिक स्तर से लेकर उच्च स्तर तक के शैक्षणिक परिदृश्य पर दृष्टि डाली...Read more !

पाठ प्रस्तावना कौशल – अर्थ, परिभाषा, प्रस्तावना, लक्षण, मूल्यांकन

पाठ प्रस्तावना कौशल (Skill of Introducing a Lesson) प्रस्तावना का अर्थ– प्रस्तावना कक्षा में प्रथम कार्य है। पढ़ाने के लिये अध्यापक की प्रस्तावना अच्छी रही तो पाठ की सफलता सुनिश्चित...Read more !

श्यामपट्ट कौशल – अर्थ, आवश्यकता, उपयोग, विशेषताएँ, सावधानियाँ

श्यामपट्ट कौशल (Black Board Skill) श्यामपट्ट शिक्षण एवं शिक्षक का घनिष्ठ मित्र होता है। यह अध्यापक के शिक्षण का अभिन्न अंग होता है। हम किसी ऐसे कक्षा-कक्ष की कल्पना भी नहीं...Read more !

प्रश्न कौशल – अर्थ, परिभाषा, उद्देश्य एवं प्रकार

प्रश्न कौशल (Skill of Questioning) शिक्षण प्रक्रिया की शुरुआत आदि काल से ही प्रश्न उत्तर के रूप में शुरू हुई थी और आज भी जिज्ञासु छात्र प्रश्न पूछता है तथा...Read more !

उद्दीपन परिवर्तन कौशल – अर्थ, परिभाषा एवं घटक

उद्दीपन परिवर्तन कौशल (Stimulus Variation Skill) यदि शिक्षण को प्रभावी तथा अधिगम को अधिकतम बनाना है तो शिक्षक को चाहिये कि वह जिन शब्दों अथवा अशाब्दिक शारीरिक क्रियाओं का उपयोग...Read more !

पुनर्बलन कौशल – परिभाषा, पुनर्बलन के प्रकार, घटक

पुनर्बलन कौशल (Reinforcement Skill) पुनर्बलन का अर्थ है शिक्षक का वह व्यवहार जिससे छात्रों को पाठ के विकास में भाग लेने हेतु एवं प्रश्नों का सही उत्तर देने हेतु प्रोत्साहन...Read more !

जीवन कौशल आधारित शिक्षण अधिगम – शिक्षण कौशल

जीवन कौशल आधारित शिक्षण अधिगम Life Skill Based Teaching Learning जीवन कौशल आधारित शिक्षण अधिगम की अवधारणा प्राचीनकाल से वर्तमान समय तक भारतीय शिक्षा व्यवस्था में उपलब्ध रही है। वर्तमान...Read more !

शिक्षण के आधारभूत कौशल (Fundamental Skills of Teaching) – शिक्षा शास्त्र

शिक्षण कौशल की आवश्यकता (Need of Teaching Skills) एक योग्य अध्यापक अपने छात्रों को अनेक शिक्षण कौशलों का ज्ञान कराता है। एक छात्राध्यापक के लिये यह आवश्यक हो जाता है...Read more !

शिक्षण के नवीन उपागम (विधाएँ) – New Approaches of Teaching

उपागम प्रणाली (Approach System) उपागम प्रणाली एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसका उपयोग करके अधिगम के नीति निर्धारकों द्वारा ध्यानपूर्वक और क्रमबद्ध अध्ययन करने के पश्चात् अधिगम की किसी समस्या को...Read more !

निदानात्मक शिक्षण एवं उपचारात्मक शिक्षण – अधिगम उपागम

निदानात्मक शिक्षण एवं उपचारात्मक शिक्षण Diagnostic Teaching and Remedial Teaching यदि कोई छात्र लगातार किसी विषय में अनुत्तीर्ण होता है या पढ़ने में कमजोर होता है तो छात्र की असफलता...Read more !

TRENDING NOW

सर्वनाम – सर्वनाम के भेद, परिभाषा, उदाहरण – Sarvanam ke bhed

Sarvanam (Pronoun) सर्वनाम: वह शब्द जो संज्ञा के बदले में आए उसे सर्वनाम कहते हैं। जैसे – मैं, तुम, हम, वह, आप, उसका, उसकी आदि। यह संज्ञा के स्थान पर आता है। संज्ञा और संज्ञा वाक्यांशों को आम तौर पर वह, यह, उसका...Read More !

प्रदूषण : कारण एवं निवारण – निबंध

"प्रदूषण का कारण एवं निवारण" नामक निबंध के निबंध लेखन (Nibandh Lekhan) से अन्य सम्बन्धित शीर्षक, अर्थात "प्रदूषण का कारण एवं निवारण" से मिलता जुलता हुआ कोई शीर्षक आपकी परीक्षा में पूछा जाता है तो इसी प्रकार से निबंध लिख...Read More !

विशेषण – परिभाषा, भेद और उदाहरण : हिन्दी व्याकरण, Visheshan in Hindi

विशेषण (Visheshan in Hindi) संज्ञा अथवा सर्वनाम शब्दों की विशेषता (गुण, दोष, संख्या, परिमाण आदि) बताने वाले शब्द विशेषण कहलाते हैं। जैसे - बड़ा, काला, लंबा, दयालु, भारी, सुन्दर, कायर, टेढ़ा-मेढ़ा, एक, दो आदि। महत्वपूर्...Read More !

अलंकार – अलंकार की परिभाषा, भेद, उदाहरण – Alankar in Hindi

अलंकार (Figure of Speech) परिभाषा: अलंकार का शाब्दिक अर्थ होता है- 'आभूषण', जिस प्रकार स्त्री की शोभा आभूषण से उसी प्रकार काव्य की शोभा अलंकार से होती है अर्थात जो किसी वस्तु को अलंकृत करे वह अलंकार कहलाता है। संक्षे...Read More !

संज्ञा (Sangya) – परिभाषा, भेद और उदाहरण : Noun in hindi

संज्ञा (Sangya in Hindi) संज्ञा (Sangya):- संज्ञा वह शब्द है जो किसी व्यक्ति ,प्राणी ,वस्तु ,स्थान, भाव आदि के नाम के स्वरूप में प्रयुक्त होते हैं। अत: सभी नामपदों को संज्ञा कहते हैं। पद:- सार्थक वर्ण-समूह शब्द कहलात...Read More !

रस – परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी व्याकरण, Ras in Hindi

Ras (रस)- रस क्या होते हैं? रस की परिभाषा रस : रस का शाब्दिक अर्थ है 'आनन्द'। काव्य को पढ़ने या सुनने से जिस आनन्द की अनुभूति होती है, उसे रस कहा जाता है।रस को काव्य की आत्मा माना जाता है। प्राचीन भारतीय वर्ष में रस का ब...Read More !

JOIN US

Stay updated via social channels or Get fresh content from us.