Important Verbs of Sanskrit Grammar For Sanskrit Translation

Verbs of Sanskrit Grammar

संस्कृत व्याकरण में संस्कृत अनुवाद (Sanskrit translation) करने के लिए संस्कृत क्रियाए याद रखना वहुत जरूरी होता है । अत इस प्रष्ठ पर संस्कृत की अक्सर प्रयोग होने वाली और बहुत ही महत्वपूर्ण क्रियाओ को लेकर आए हैं। (To translate Sanskrit into Sanskrit grammar it is necessary to remember Sanskrit verbs. Hence, we have come here with very often used and very important verbs of Sanskrit.)

(Learn: How to translate into Sanskrit?)

Verbs of Sanskrit Grammar For Sanskrit Translation

संस्कृत में अनुवाद करने के लिए महत्त्वपूर्ण क्रियाएँ

Sr. Sanskrit Verb Meaning in Hindi
1. पठति पढ़ता है।
2. भू होना।
3. भवति होता है।
4. अनुभवति अनुभव करता।
5. आविर्भवति प्रकट होता है।
6. अभिभवति दबाता है।
7. तिरोभवति छिपता है।
8. उद्भवति उत्पन्न होता है।
9. प्रादुर्भवति उत्पन्न होता है।
10. पराभवति पराभव करता है।
11. सम्भवति हो सकता है।
12. परिभवति तिरस्कार करता है।
13. वद् बोलना।
14. वदति बोलता है।
15. गम् जाना।
16. अपवदति अपवाद करता है।
17. गच्छति जाता है।
18. अनुवदति अनुवाद करता है।
19. आगच्छति आता है।
20. उपवदति प्रार्थना करता है।
21. अवगच्छति समझता है।
22. विवदते झगड़ा करता है।
23. निर्गच्छति निकलता है।
24. विप्रवदन्ते विरुद्ध बोलते हैं।
25. अधिगच्छति प्राप्त करता है।
26. पत् गिरना।
27. प्रतिवदति जवाब देता है।
28. उपाहरति लाता है।
29. संलपति वार्तालाप करता है।
30. उदाहरति उदाहरण देता है।
31. प्रत्युदाहरति दूसरा उदाहरण देता है।
32. वितरति देता है।
33. उद्धरति निकालता है, उद्धार करता है।
34. पतति गिरता है।
35. सन्तरति तैरता है।
36. प्रणिपतति प्रणाम करता है।
37. क्रमु पैरो पर चलता है ।
38. निपतति गिरता है।
39. प्रपतति गिरता है।
40. रूह जगना।
41. रोहति उगता है।
42. प्ररोहति उत्पन्न होता है।
43. आक्राभति ऊपर जाता है।
44. अधिरोहति चढ़ता है।

(Learn: How to translate into Sanskrit?)

सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण:

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।

You may like these posts

काव्यलिंग अलंकार – Kavyalinga Alankar परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी

काव्यलिंग अलंकार परिभाषा: हेतु का वाक्यार्थ अथवा पदार्थ रूप में कथन करना ही काव्यलिङ्गालङ्कार है। अर्थात जहाँ पर किसी युक्ति से समर्थित की गयी बात को काव्यलिंग अलंकार कहते हैं...Read more !

संदेह और भ्रांतिमान अलंकार युग्म में अंतर

संदेह और भ्रांतिमान जहां समानता के कारण अनिश्चय की स्थिति बनी रहती है वहां सन्देह अलंकार होता है। यथा- कैघों व्योम बीथिका भरे हैं भूरि धूमकेतु वीर रस वीर तरवारि...Read more !

नञ् समास – Na, Nav Tatpurush/Bahubrihi Samas – संस्कृत, हिन्दी

नञ् समास की परिभाषा नञ् (न) का सुबन्त के साथ समास ‘नञ् समास‘ कहलाता है। यदि उत्तर पद का अर्थ प्रधान हो तो ‘नञ् तत्पुरुष‘ और यदि अन्य पद की प्रधानता...Read more !