संस्कृत में गिनती – Sanskrit mein 1 se 100 tak Ginti – Sanskrit Counting

Sanskrit Me Ginti - Sanskrit Counting
Sanskrit Counting

संस्कृत गिनती: संस्कृत में 1 से 100 तक की गिनती इस प्रष्ठ में दी हुई है। जिसे आप आसानी से एक से सौ के बाद एक लाख तक बढ़ा सकते हैं। यह गिनती TGT, PGT, UGC -NET/JRF, CTET, UPTET, DSSSB, GIC and Degree College Lecturer, M.A., B.Ed. and Ph.D आदि एवं केंद्र एवं राज्य बोर्ड परीक्षाओं में पूछी जाती है।

संस्कृत की गिनती हमारे संस्कृत के पाठयक्रम में कक्षा 5, कक्षा 6, कक्षा 7, कक्षा 8, कक्षा 9, कक्षा 10, कक्षा 11, कक्षा 12 में भी आती है।

संस्कृत में 1 से लेकर 100 तक की गिनती (Sanskrit Counting)

क्रम संस्कृत
(पुँल्लिंग, स्त्रीलिंग, नपुंसकलिंग)
हिंदी अंग्रेजी
1 एकः, एका, एकम् (प्रथमः) एक (पहला) One (first)
2 द्वौ (द्वितीयः) दो (दूसरा) Two (second)
3 त्रयः, तिस्रः, त्रीणि (तृतीयः) तीन (तीसरा) Three (third)
4 चत्वारः, चतस्रः, चत्वारि (चतुर्थः) चार (चौथा) Four (fourth)
5 पञ्च (पंचमः) पाँच (पाँचवाँ) Five (fifth)
6 षट् (षष्टः) छः (छठा) Six (sixth)
7 सप्त (सप्तमः) सात (सातवाँ) Seven (seventh)
8 अष्टौ, अष्ट (अष्टमः) आठ (आठवाँ) Eight (eighth)
9 नव (नवमः) नौ (नौवाँ) Nine (nineth)
10 दश (दशमः) दस (दशवाँ) Ten (tenth)
11 एकादश (एकादशः) ग्यारह Eleven
12 द्वादश (द्वादशः) बारह Twelve
13 त्रयोदश (त्रयोदशः) तेरह Thirteen
14 चतुर्दश (चतुर्दशः) चौदह Fourteen
15 पञ्चदश (पंचदशः) पन्द्रह Fifteen
16 षोडश (षोड़शः) सोलह Sixteen
17 सप्तदश (सप्तदशः) सत्रह Seventeen
18 अष्टादश (अष्टादशः) अठारह Eighteen
19 ऊनविंशतिः, एकोनविंशतिः, नवदश, उन्नीस Nineteen
20 विंशतिः बीस Twenty
21 एकविंशतिः इक्कीस Twenty One
22 द्वाविंशतिः, द्वाविंशः बाइस Twenty Two
23 त्रयोविंशतिः, त्रयोविंशः तेइस Twenty Three
24 चतुर्विंशतिः, चतुर्विंशः चौबीस Twenty Four
25 पञ्चविंशतिः, पञ्चविंशः पच्चीस Twenty Five
26 षड्विंशतिः, षड्विंशः छब्बीस Twenty Six
27 सप्तविंशतिः, सप्तविंशः सत्ताईस Twenty Seven
28 अष्टविंशतिः, अष्टाविंशः अट् ठाईस Twenty Eight
29 ऊनत्रिंशत्, एकोनत्रिंशत्, नवविंशः, नवविंशतिः उनतीस Twenty Nine
30 त्रिंशत् तीस Thirty
31 एकत्रिंशत् इकत्तीस Thirty One
32 द्वात्रिंशत् बत्तीस Thirty Two
33 त्रयस्त्रिंशत् तेतीस Thirty Three
34 चतुर्त्रिंशत् चौतीस Thirty Four
35 पञ्चत्रिंशत् पैंतीस Thirty Five
36 षट्त्रिंशत् छत्तीस Thirty Six
37 सप्तत्रिंशत् सैंतीस Thirty Seven
38 अष्टात्रिंशत् अड़तीस Thirty Eight
39 ऊनचत्वारिंशत्, एकोनचत्वारिंशत्, नवत्रिंशत् उनतालीस Thirty Nine
40 चत्वारिंशत् चालीस Forty
41 एकचत्वारिंशत् इकतालीस Forty One
42 द्वाचत्वारिंशत्, द्वाचत्वारिंशत् बियालीस Forty Two
43 त्रिचत्वारिंशत्, त्रयश्चत्वारिंशत् तेतालीस Forty Three
44 चतुश्चत्वारिंशत् चबालीस Forty Four
45 पंचचत्वारिंशत् पैंतालीस Forty Five
46 षट्चत्वारिंशत् छियालीस Forty Sic
47 सप्तचत्वारिंशत् सैंतालीस Forty Seven
48 अष्टचत्वारिंशत्, अष्टाचत्वारिंशत् अड़तालीस Forty Eight
49 ऊनपञ्चाशत्, एकोनपञ्चाशत्, नवचत्वारिंशत् उडनचास Forty Nine
50 पञ्चाशत् पचास Fifty
51 एकपञ्चाशत् इकक्यावन Fifty One
52 द्वापञ्चाशत्, द्वापञ्चाशत् बाबन Fifty Two
53 त्रिपञ्चाशत्, त्रयःपञ्चाशत् तिरेपन Fifty Three
54 चतुःपञ्चाशत् चौबन Fifty Four
55 पञ्चपञ्चाशत् पच्पन Fifty Five
56 षट्पञ्चाशत् छप्पन Fifty Six
57 सप्तपञ्चाशत् सत्तावन Fifty Seven
58 अष्टपञ्चाशत्, अष्टापञ्चाशत् अट् ठावन Fifty Eight
59 ऊनषष्ठिः, एकोनषष्टिः, नवपञ्चाशत् उनसठ Fifty Nine
60 षष्टिः साठ Sixty
61 एकषष्टिः इकसठ Sixty One
62 द्विषष्टिः, द्वाषष्ठिः बासठ Sixty Two
63 त्रिषष्टिः, त्रयःषष्ठिः तिरेसठ Sixty Three
64 चतुःषष्टिः चौसठ Sixty Four
65 पंचषष्टिः पैसठ Sixty Five
66 षट्षष्टिः छियासठ Sixty Six
67 सप्तषष्टिः सडसठ Sixty Seven
68 अष्टषष्टिः, अष्टाषष्ठिः अडसठ Sixty Eight
69 ऊनसप्ततिः, एकोनसप्ततिः, नवषष्ठिः उनहत्तर Sixty Nine
70 सप्ततिः सत्तर Seventy
71 एकसप्ततिः इकहत्तर Seventy One
72 द्विसप्ततिः, द्विसंप्ततिः बहत्तर Seventy Two
73 त्रिसप्ततिः, त्रयःसप्ततिः तिहत्तर Seventy Three
74 चतुःसप्ततिः चौहत्तर Seventy Four
75 पंचसप्ततिः पिचत्तर Seventy Five
76 षट्सप्ततिः छियत्तर Seventy Six
77 सप्तसप्ततिः सतत्तर Seventy Seven
78 अष्टसप्ततिः, अष्टासप्ततिः अठत्तर Seventy Eight
79 नवसप्ततिः, एकोनाशीतिः, ऊनाशीतिः उनयासी Seventy Nine
80 अशीतिः अस्सी Eighty
81 एकाशीतिः इक्यासी Eighty One
82 द्वाशीतिः, बियासी Eighty Two
83 त्रयाशीतिः तिरासी Eighty Three
84 चतुराशीतिः चौरासी Eighty Four
85 पंचाशीतिः पिच्चासी Eighty Five
86 षडशीतिः छियासी Eighty Six
87 सप्ताशीतिः सत्तासी Eighty Seven
88 अष्टाशीतिः अट् ठासी Eighty Eight
89 नवाशीतिः, एकोननवतिः, ऊननवतिः नवासी Eighty Nine
90 नवतिः नब्बे Ninety
91 एकनवतिः इक्यानवे Ninety One
92 द्वानवतिः, द्वानवतिः बानवे Ninety Two
93 त्रिनवतिः तिरानवे Ninety Three
94 चतुर्नवतिः चौरानवे Ninety Four
95 पंचनवतिः पिचानवे Ninety Five
96 षण्णवतिः छियानवे Ninety Six
97 सप्तनवतिः सतानवे Ninety Seven
98 अष्टनवतिः, अष्टानवतिः अठानवे Ninety Eight
99 नवनवतिः, एकोनशतम्, ऊनशतम् निन्यानवे Ninety Nine
100 शतम्, एकशतम् सौ, एक सौ Hundred, One hundred
101 एकाधिक शतम्, एकाधिकशतकम् एक सौ एक One hundred one
102 द्वयधिक शतम्, द्वयधिकशतकम् एक सौ दो One hundred two
103 त्रयधिक शतम् एक सौ तीन One hundred three
200 द्विशतम्, द्वे शते, दो सौ Two hundred
300 त्रिशतम्, त्रीणि शतानि तीन सौ Three hundred one
1,000 सहस्रम् एक हजार One Thousand
10,000 अयुतम् दस हजार Ten Thousand
1,00,000 लक्षम् एक लाख One Lakh

इसके आगे की संख्याओं के लिए:-

संस्कृत संख्या हिन्दी कुल शून्य
प्रयुतम्, नियुतम् 10,00,000 दस लाख 6
कोटिः (स्त्रीलिङ्ग) 1,00,00,000 एक करोड़ 7
दसकोटि: 10,00,00,000 दस करोड़ 8
अर्बुदम् 1,00,00,00,000 एक अरब 9
दशार्बुदम् 10,00,00,00,000 दस अरब 10
खर्वम् 1,00,00,00,00,000 एक खरब 11
दशखर्वम् 10,00,00,00,00,000 दस खरब 12
नीलम् 1,00,00,00,00,00,000 एक नील 13
दशनीलम् 10,00,00,00,00,00,000 दस नील 14
पद्मम् 1,00,00,00,00,00,00,000 एक पदुम 15
दशपद्मम् 10,00,00,00,00,00,00,000 दस पदुम 16
शङ्खम् 1,00,00,00,00,00,00,00,000 एक शंख 17
दशशङ्खम् 10,00,00,00,00,00,00,00,000 दस शंख 18
महाशङ्खम् 1,00,00,00,00,00,00,00,00,000 महाशंख 19

संस्कृत भाषा दुनिया की सबसे प्राचीन भाषा मानी जाती है। भारतीय इसे सीधे परमात्मा के मुख से निसृत भाषा या वाक्यप्रवाह मानते हैं, इसीलिए इसे देवभाषा भी कहते हैं। ‘संस्कृत’ शब्द ‘सम् + सुट् + कृ + क्त’ रूप में बना है। इसका अर्थ है ‘प्रकृतिप्रत्ययदि से संस्कृत की गई भाषा’। इस प्रष्ठ में “संस्कृत में गिनती” लिखी हुई है जो आपकी परीक्षा की द्रष्टी से बहुत उपयोगी सिद्ध होगी। यदि आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने मित्रो के साथ अवश्य शेयर करें।

Related Posts

छेकानुप्रास अलंकार (Chhekanupras Alankar)

छेकानुप्रास अलंकार की परिभाषा  जहाँ पर स्वरुप और क्रम से अनेक व्यंजनों की आवृति एक बार हो वहाँ छेकानुप्रास अलंकार होता है वहाँ छेकानुप्रास अलंकार होता है। यह Alankar, शब्दालंकार...Read more !

उपसर्ग प्रकरण – संस्कृत में उपसर्ग – संस्कृत व्याकरण

संस्कृत उपसर्ग (उपसर्ग प्रकरण) “उपस्रज्यन्ते धतुनाम् समीपे क्रियन्ते इत्युपसर्गा” अर्थात जो धातुओ के समीप रखे जाते है उपसर्ग कहलाते हैं। परंतु उपसर्गों से केवल क्रियाओ का ही निर्माण नही होता,...Read more !

रुत्व् संधि – Rutva Sandhi, संस्कृत व्याकरण

रुत्व् संधि रुत्व् संधि का सूत्र ससजुषोरु: होता है। यह संधि विसर्ग संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में विसर्ग संधियां कई प्रकार की होती है। इनमें से...Read more !

वृद्धि संधि – ब्रध्दिरेचि – Vriddhi Sandhi, Sanskrit Vyakaran

वृद्धि संधि वृद्धि संधि का सूत्र ब्रध्दिरेचि होता है। यह संधि स्वर संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में स्वर संधियां आठ प्रकार की होती है। दीर्घ संधि,...Read more !

अनुप्रास अलंकार – परिभाषा, भेद एवं उदाहरण – hindi, sanskrit

अनुप्रास अलंकार अनुप्रास शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है – अनु + प्रास। यहाँ पर अनु का अर्थ है- बार -बार और प्रास का अर्थ होता है – वर्ण।...Read more !