पद (Pad Parichay) – Phrases – पद क्या होता है ?

पद परिचय

वाक्य में प्रयुक्त शब्द को पद कहा जाता है वाक्य में प्रयुक्त शब्दों में संज्ञा , सर्वनाम , विशेषण , क्रिया विशेषण , संबंधबोधक आदि अनेक शब्द होते हैं। पद परिचय में यह बताना होता है कि इस वाक्य में व्याकरण की दृष्टि से क्या-क्या प्रयोग हुआ है।

पद परिचय के आवश्यक संकेत

  1. संज्ञा – संज्ञा के भेद (जातिवाचक व्यक्तिवाचक भाववाचक) ,
  2. लिंग – पुल्लिंग, स्त्रीलिंग
  3. वचन – एकवचन बहुवचन
  4. कारक तथा क्रिया के साथ संबंध
  5. सर्वनाम – सर्वनाम के भेद (पुरुषवाचक , निश्चयवाचक , अनिश्चयवाचक , प्रश्नवाचक , संबंधवाचक , निजवाचक)
  6. लिंग वचन कारक क्रिया के साथ संबंध
  7. विशेषण – विशेषण का भेद (गुणवाचक ,संख्यावाचक ,परिमाणवाचक,सार्वनामिक)
  8. विशेष्य – लिंग, वचन
  9. क्रिया – क्रिया का भेद (अकर्मक , सकर्मक , प्रेरणार्थक , संयुक्त , मुख्य सहायक)
  10. वाक्य – लिंग, वचन, काल, धातु
  11. अवयव – अवयव का भेद( क्रिया , विशेषण , संबंधबोधक, समुच्चयबोधक, विस्मयादिबोधक, निपात) जिस क्रिया की विशेषता बताई जा रही है उसका निर्देश , समुच्चयबोधक , संबंधबोधक , विस्मयादिबोधक , भेद तथा उसका संबंध निर्देश आदि बताना होगा।

पद परिचय कुछ उदाहरण के साथ 

1-श्याम स्कूल जाता है
श्याम – व्यक्तिवाचक संज्ञा पुलिंग एकवचन कर्ता कारक
स्कूल – जातिवाचक संज्ञा पुलिंग एकवचन कर्म कारक
जाता है – क्रिया सकर्मक क्रिया पुलिंग एकवचन वर्तमान काल

2- वह सेब खाता है
वह -पुरुषवाचक सर्वनाम अन्य पुरुष एकवचन पुल्लिंग कर्ता कारक
सेब – जातिवाचक संज्ञा एकवचन पुल्लिंग कर्म कारक
खाता है – सकर्मक क्रिया एकवचन पुल्लिंग कृत वाच्य वर्तमान काल

3- राजेश वहां दसवीं कक्षा में बैठा है
राजेश – संज्ञा व्यक्तिवाचक संज्ञा पुलिंग एकवचन कर्ता कारक
वहां – स्थानवाचक क्रिया विशेषण बैठा है क्रिया का स्थान निर्देश
दसवीं – संख्यावाचक विशेषण स्त्रीलिंग एकवचन
कक्षा में – जातिवाचक संज्ञा स्त्रीलिंग एकवचन अधिकरण कारक बैठा क्रिया से संबंध
बैठा है – अकर्मक क्रिया पुलिंग एकवचन अन्य पुरुष कृत वाच्य

केवल रेखांकित पदों का व्याकरणिक परिचय दीजिए

1- यह पुस्तक मेरी है।
यह – सार्वनामिक विशेषण , एकवचन , स्त्रीलिंग
2- ‘कल’ हमने ‘ताजमहल’ देखा ।
कल -कालवाचक क्रिया विशेषण
ताजमहल – जातिवाचक संज्ञा , एकवचन , पुल्लिंग , कर्म कारक
3- गीता ने पुस्तक ‘पढ़ ली
सकर्मक क्रिया , स्त्रीलिंग , एकवचन , भूतकाल
4- ‘जल्दी’ चलो गाड़ी जाने वाली है
अवयव , क्रिया विशेषण , ‘चलो’ क्रिया की विशेषता
5- उपवन में ‘सुंदर’ फूल खिले हैं
गुणवाचक विशेषण , पुल्लिंग , बहुवचन , फूल विशेष्य

Pad - Pad Parichay

Related Posts

अतिश्योक्ति अलंकार – Atisanyokti Alankar परिभाषा उदाहरण अर्थ हिन्दी एवं संस्कृत

अतिश्योक्ति अलंकार  परिभाषा- जहाँ किसी वस्तु का इतना बढ़ा-चढ़ाकर वर्णन किया जाए कि सामान्य लोक सीमा का उल्लंघन हो जाए वहाँ अतिशयोक्ति अलंकार होता है। अर्थात जब किसी व्यक्ति या वस्तु...Read more !

प्रश्नवाचक सर्वनाम – Prashn Vachak Sarvanam : हिन्दी व्याकरण

प्रश्नवाचक सर्वनाम वाक्य में प्रयुक्त वह शब्द जिससे किसी व्यक्ति , वस्तु अथवा स्थान के विषय में प्रश्न उत्पन्न हो, उसे प्रश्नवाचक कहते हैं। जैसे- क्या, कौन, कहां ,  कब, ...Read more !

संबंधवाचक सर्वनाम – Sambandh Vachak Sarvanam : हिन्दी व्याकरण

संबंधवाचक सर्वनाम वह सर्वनाम शब्द जो किसी वाक्य में प्रयुक्त संज्ञा अथवा सर्वनाम के संबंध का बोध कराएं उसे संबंधवाचक सर्वनाम कहते हैं जैसे – ‘ जो’ , ‘सो’ ,...Read more !

Paryayvachi Shabd (पर्यायवाची शब्द) – Synonyms in Hindi, समानार्थी शब्द – Hindi

Hindi के Paryayvachi Shabd – Hindi Paryayvachi Shabd जिन शब्दों के अर्थ में समानता होती है, उन्हें समानार्थक या पर्यायवाची शब्द कहते है। या किसी शब्द-विशेष के लिए प्रयुक्त समानार्थक...Read more !

विशेषोक्ति अलंकार – Visheshokti Alankar परिभाषा, उदाहरण – हिन्दी

विशेषोक्ति अलंकार  परिभाषा: संपूर्ण कारणों के होने पर भी फल का न कहना विशेषोक्ति है। अर्थात काव्य में जहाँ कार्य सिद्धि के समस्त कारणों के विद्यमान रहते हुए भी कार्य...Read more !