स्त्री प्रत्यय (Stree Pratyay) – परिभाषा, भेद और उनके उदाहरण – संस्कृत व्याकरण

स्त्री प्रत्यय

स्त्रीलिंग बनानेवाले प्रत्ययों को ही स्त्री प्रत्यय कहते हैं। स्त्री प्रत्यय धातुओं को छोड़कर अन्य शब्दों संज्ञा विशेषण आदि सभी के अंत में जुड़े होते हैं।

Stree Pratyay
स्त्री प्रत्यय

स्त्री प्रत्यय के भेद

1. टाप् प्रत्यय

टाप् प्रत्यय के प्रयोग होने के बाद इसके अन्त में सिर्फ़् कीमात्रा शेष बचती हैं। इस प्रत्यय के ट् और प् का लोप हो जाता है। इसका प्रयोग प्रयोग अजादिगण में जैसे अज् , या अत् अन्त वाले शब्दों में होता है।

टाप् प्रत्यय के उदाहरण

शब्द प्रत्यय नया शब्द
अज टाप् अजा
कोकिल टाप् कोकिला
याचक टाप् याचिका
बालक टाप् बालिका

2. डाप् प्रत्यय

इसमें ड् और प् का लोप होकर अन्त में सिर्फ़् शेष बचता है। मन् तथा अन् अन्त वाले शब्दों में डाप् प्रत्यय का प्रयोग होता है।

 डाप् प्रत्यय के उदाहरण:

  • सीमन् + डाप् = सीमा।

3. चाप् प्रत्यय

इस प्रत्यय में च् और प् का लोप होकर अन्त में सिर्फ़् की मात्रा शेष बचती है। सूर्य शब्द से देवतार्थ में चाप प्रत्यय का प्रयोग होता है।

चाप प्रत्यय के उदाहरण:

  • सूर्य + चाप् = सूर्या।

4. डीप् प्रत्यय

और न् अन्तवाले शब्दो में डीप् प्रत्यय का प्रयोग होता है। इस प्रत्यय का प्रयोग होने पर ड् और प् का लोप होकर अन्त में सिर्फ़् की मात्रा शेष बचती है। का अर् हो जाता है और न् में कोइ परिवर्तन नही होता है।

डीप् प्रत्यय के उदाहरण:

  • कर्तृ + डीप् = कर्त्री
  • दातृ + डीप् = दात्री
  • धनी + डीप् = धनिनी
  • राजन् + डीप् = राज्ञी

5. डीष् प्रत्यय

इस प्रत्यय का भी प्रयोग होने पर ड् और ष् का लोप होकर अन्त में सिर्फ़् शेष बचता है। षित् और गौर शब्दों में डीष् प्रत्यय का प्रयोग होता है।

डीष् प्रत्यय के उदाहरण:

  • नर्तक + डीष् = नर्तकी
  • गौर + डीष् = गौरी
  • मंगल + डीष् = मंगली

6. डीन् प्रत्यय

डीन् प्रत्यय का प्रयोग होने पर ड् और न् का लोप होकर अन्त में सिर्फ़् शेष बचता है। नृ और नर शब्दों में डीन् प्रत्यय का प्रयोग होता है।

डीन् प्रत्यय के उदाहरण:

  • नृ + डीन् = नारी
  • नर + डीन् = नारी

7. आनी प्रत्यय

इन्द्र, वरुण, भव, शर्व, रूद्र, मृड, हिम, अरण्य, यव, यवन, मातुल और आचार्य शब्दों में डीष् प्रत्यय होता है, और इनके मध्य में आनुक् का आगमन हो जात है। ‘आनूक्’ में ‘उक्’ का लोप हो जाता है, और डीष् के ड् और ष् का लोप होकर अन्त में सिर्फ़् शेष बचता है।

“आनुक् = आन + डीष् = ई”

आनी प्रत्यय के उदाहरण:

  • इन्द्र + आनुक् + डीष् = इन्द्राणी
  • हिम + आनुक् + डीष् = हिमानी
  • यव + आनुक् + डीष् = यवानी
  • यवन + आनुक् + डीष् = यवनी
  • मातुल + आनुक् + डीष् = मातुलानी
  • आचार्य + आनुक् + डीष् = आचार्यानी
  • क्षत्रिय + आनुक् + डीष् = क्षत्रियाणी

8. ति प्रत्यय

युवन शब्द के स्त्रीलिन्ग में ति प्रत्यय होता है, और इस ति के लगने पर न् का लोप हो जाता है।

ति प्रत्यय के उदाहरण:

  • युव + ति = युवति: (युवती)

You may like these posts

स्वर संधि – अच् संधि, परिभाषा, उदाहरण, प्रकार और नियम – Swar Sandhi, Sanskrit Vyakaran

स्वर संधि (अच् संधि) दो स्वरों के मेल से होने वाले विकार (परिवर्तन) को स्वर-संधि कहते हैं। स्वर संधि को अच् संधि भी कहते हैं। उदाहरण – हिम+आलय= हिमालय, अत्र...Read more !

Vegetables name in Hindi (sabjiyo ke naam), Sanskrit and English – With Chart, List

Vegetables (सब्जियों) name in Hindi, Sanskrit and English In this chapter you will know the names of Vegetable (Vegetable) in Hindi, Sanskrit and English. We are going to discuss Vegetables name’s...Read more !

करण कारक (से) – तृतीया विभक्ति – संस्कृत, हिन्दी

करण कारक परिभाषा जिसकी सहायता से कोई कार्य किया जाए, उसे करण कारक कहते हैं। इसके विभक्ति-चिह्न ‘से’ के ‘द्वारा’ है। अथवा – वह साधन जिससे क्रिया होती है, वह...Read more !