लौकिक संस्कृत – लौकिक संस्कृत का अर्थ

लौकिक संस्कृत

लौकिक संस्कृत (800 ई.पू. से 500 ई.पू. तक) – लौकिक संस्कृत ‘प्राचीन-भारतीय-आर्य-भाषा‘ का वह रूप जिसका पाणिनि की ‘अष्टाध्यायी’ में विवेचन किया गया है, वह ‘लौकिक संस्कृत’ कहलाता है। संस्कृत में 48 ध्वनियाँ ही शेष रह गई। वैदिक संस्कृत की 4 ध्वनियाँ ळ, ळह, जिह्वमूलीय और उपध्मानीय के लुप्त होने से लौकिक संस्कृत की 48 ध्वनियाँ शेष बच गयी।

वैदिक संस्कृत

प्राचीन भारतीय आर्य भाषा का प्राचीनतम नमूना वैदिक-साहित्य (2000 ई.पू. से 800 ई.पू. तक) में दिखाई देता है। वैदिक साहित्य का सृजन वैदिक संस्कृत में हुआ है। वैदिक संस्कृत को वैदिकी, वैदिक, छन्दस, छान्दस् आदि भी कहा जाता है। वैदिक साहित्य को तीन विभागों में वर्गीकृत किया जा सकता है- संहिता, ब्राह्मण, एवं उपनिषद् ।

संहिता

संहिता-विभाग में ‘ऋक् संहिता’, ‘यजुः संहिता’, ‘साम संहिता’ एवं ‘अथर्व संहिता’ आते हैं।

ऋक् संहिता – महत्त्व की दृष्टि से प्रधान ‘ऋक् संहिता’ है। ‘ऋक्’ का शाब्दिक अर्थ है स्तुति करना

ऋग्वेद में 10 मण्डल, 1028 सूक्त एवं 10580 ऋचाएँ हैं।

इसके सूक्त प्रायः यज्ञों के अवसरों पर पढ़ने के लिए देवताओं की स्तुतियों से सम्बन्ध रखने वाले गीतात्मक काव्य हैं।

यजुः संहिता – यजुः संहिता में यज्ञों के कर्मकाण्ड में प्रयुक्त मन्त्र पद्य एवं गद्य दोनों रूपों में संगृहीत हैं। यजुः संहिता’, कृष्ण एवं शुक्ल इन दो रूपों में सुरक्षित है। ‘कृष्ण यजुर्वेद संहिता’ में मंत्र भाग एवं गद्यमय व्याख्यात्मक भाग साथ-साथ संकलित किये गये हैं। परन्तु शुक्ल यजुर्वेद संहिता में केवल मन्त्र भाग संगृहीत है।

साम संहिता – ‘सामवेद’ में सोम यागों में वीणा के साथ गाये जाने वाले सूक्तों को गेय पदों के रूप में सजाया गया है। सामवेद में केवल 75 मन्त्र ही मौलिक हैं शेष ऋग्वेद से लिए गए हैं। अथर्ववेद संहिता’ जन साधारण में प्रचलित मन्त्र-तन्त्र, टोने-टोटकों का संकलन है।

ब्राह्मण

ब्राह्मण-भाग में कर्मकाण्ड की व्याख्या की गई है। प्रत्येक संहिता के अपने-अपने ब्राह्मण ग्रंथ हैं। इनमें ऋग्वेद का ‘ऐतरेय ब्राह्मण’, सामवेद का ‘ताण्डव अथवा पंचविंश
ब्राह्मण’, शुक्ल यजुर्वेद का ‘शतपथ ब्राह्मण’, कृष्ण यजुर्वेद का तैत्तिरीय-ब्राह्मण’ ग्रन्थ महत्त्वपूर्ण हैं।

उपनिषद

ब्राह्मण ग्रन्थों के परिशिष्ट या अन्तिम भाग उपनिषदों के नाम से प्रसिद्ध हुए। इनमें वैदिक मनीषियों के आध्यात्मिक एवं पारमार्थिक चिन्तन के दर्शन होते हैं। उपनिषदों की संख्या 108 बताई गई है किन्तु 12 उपनिषद् ही मुख्य हैं-(1) ईश, (2) केन, (3) कठ, (4) प्रश्न, (5) बृहदारण्यक, (6) ऐतरेय, (7) छान्दोग्य, (8) तैत्तरीय, (9) मुण्डक, (10) माण्डूक्य, (11) कौषीतकी, (12) श्वेताश्वेतर उपनिषद् ।

ऋषियों द्वारा निर्मित सूक्त दीर्घकाल तक श्रुति-परम्परा में ऋषि-परिवारों में सुरक्षित रखे जाते रहे। परन्तु शनैः-शनै: बोलचाल की भाषा से सूक्त की भाषा (साहित्यिक भाषा) की भिन्नता बढ़ती गई। सूक्तों के प्राचीन रूप को सुरक्षित रखने के लिए संहिता के प्रत्येक पद को सन्धि रहित अवस्था में अलग-अलग कर ‘पद-पाठ’ बनाया गया तथा पद। पाठ से संहिता पाठ बनाने के नियम निर्दिष्ट किये गये और इस प्रकार वेद की विभिन्न शाखाओं के ‘प्रतिशाख्यों’ की रचना हुई। वेद की 1130 शाखाएँ मानी गयी हैं किन्तु वर्तमान में छह प्रातिशाख्य ग्रन्थ ही उपलब्ध हैं-

  1. शौनक कृत ऋक्-प्रातिशाख्य,
  2. कात्यायन कृत शुक्ल-यजु:-प्रातिशाख्य,
  3. तैत्तिरीय संहिता का तैत्तिरीय-प्रातिशख्य,
  4. मैत्रायणी-संहिता का मैत्रायणी-प्रातिशाख्य (कृष्ण यजुर्वेद के प्रातिशाख्य),
  5. सामवेद का पुष्प सूत्र,
  6. अथर्ववेद का शौनक कृत अथर्व प्रातिशख्य

इन प्रातिशाख्यों में अपनी-अपनी शाखा से सम्बन्धित वर्ण विचार, उच्चारण, पद पाठ आदि पर विस्तार से प्रकाश डाला गया है। ये ग्रन्थ वैदिक काल के सैद्धान्तिक एवं प्रायोगिक ध्वनि विज्ञान के ग्रन्थ हैं।

लौकिक संस्कृत

Related Posts

समासोक्ति अलंकार – Samasokti Alankar परिभाषा उदाहरण अर्थ हिन्दी एवं संस्कृत

समासोक्ति अलंकार ‘परोक्तिभेदकैः श्लिष्टैः समासोक्तिः‘ – श्लेषयुक्त विशेषणों के द्वारा दो अर्थों का संक्षेप होने से समासोक्ति अलंकार होता है। यह अलंकार, Hindi Grammar के Alankar के भेदों में से...Read more !

एकांकी और एकांकीकार – लेखक और रचनाएँ, हिन्दी

हिन्दी की एकांकी और एकांकीकार हिन्दी की प्रथम एकांकी ‘जयशंकर प्रसाद‘ द्वारा रचित “एक घूँट” है। एक अंक वाले नाटक को एकांकी कहा जाता है। हिन्दी में ‘एकांकी’ जो अंग्रेजी...Read more !

लेखक

लेखक (Writer) उस व्यक्ति को कहते हैं जो किसी विचारोत्तेजक विषय पर लिखता है या जो कविताओं, कहानियों, उपन्यासों, कविताओं, नाटकों, और पटकथाओं आदि के रूप में रचनाएँ लिखता है। एक...Read more !

आदिकाल की रचनाएँ एवं रचनाकार, कवि list & table

आदिकाल की रचनाएँ आदिकाल का साहित्य अनेक अमूल्य रचनाओं का सागर है, इतना समृद्ध साहित्य किसी भी दूसरी भाषा का नहीं है और न ही किसी अन्य भाषा की परम्परा...Read more !

नञ् समास – Na, Nav Tatpurush/Bahubrihi Samas – संस्कृत, हिन्दी

नञ् समास की परिभाषा नञ् (न) का सुबन्त के साथ समास ‘नञ् समास‘ कहलाता है। यदि उत्तर पद का अर्थ प्रधान हो तो ‘नञ् तत्पुरुष‘ और यदि अन्य पद की प्रधानता...Read more !