संधि विच्छेद, संस्कृत में संधि, संस्कृत व्याकरण

SANDHI in SANSKRIT GRAMMAR - SANDHI VICHED
SANDHI

Sanskrit Sandhi- संस्कृत में संधि विच्छेद

दो वर्णों के निकट आने से उनमें जो विकार होता है उसे ‘सन्धि’ कहते है। इस प्रकार की सन्धि के लिए दोनों वर्णो का निकट होना आवश्यक है, क्योकि दूरवर्ती शब्दो या वर्णो में सन्धि नहीं होती है। वर्णो की इस निकट स्थिति को ही सन्धि कहते है। अतः संक्षेप में यह समझना चाहिए कि दो वर्णो के पास-पास आने से उनमें जो परिवर्तन या विकार होता है उसे संस्कृत व्याकरण में सन्धि कहते है। उदाहरण –

  • हिम + आलयः = हिमालयः
  • रमा + ईशः = रमेंशः
  • सूर्य + उदयः = सूर्योदयः

संस्कृत संधि के भेद/प्रकार

संस्कृत भाषा में संधियां तीन प्रकार की होती है-

  1. स्वर संधि
  2. व्यंजन संधि
  3. विसर्ग संधि

1. स्वर संधि – अच् संधि

नियम – दो स्वरों के मेल से होने वाले विकार (परिवर्तन) को स्वर-संधि कहते हैं। उदाहरण-

  • हिम+आलय= हिमालय।
  • रवि + इंद्र = रवींद्र
  • मुनि + इंद्र = मुनींद्र
  • नारी + इंदु = नारींदुई
  • मही + ईश = महीश
  • भानु + उदय = भानूदय
  • लघु + ऊर्मि = लघूर्मि
  • वधू + उत्सव = वधूत्सव
  • भू + ऊर्ध्व = भूर्ध्व

संस्कृत में स्वर-संधि आठ प्रकार की होती हैं-

  1. दीर्घ संधि – अक: सवर्णे दीर्घ:
  2. गुण संधि – आद्गुण:
  3. वृद्धि संधि – ब्रध्दिरेचि
  4. यण् संधि – इकोऽयणचि
  5. अयादि संधि – एचोऽयवायाव:
  6. पूर्वरूप संधि – एडः पदान्तादति
  7. पररूप संधि – एडि पररूपम्
  8. प्रकृति भाव संधि – ईदूद्विवचनम् प्रग्रह्यम्

2. व्यंजन संधि – हल् संधि

व्यंजन का स्वर या व्यंजन के साथ मेल होने पर जो परिवर्तन होता है, उसे व्यंजन संधि कहते है। उदाहरण-

  • उत + उल्लास = उल्लास
  • अप + ज = अब्ज

व्यंजन संधि (हल् संधि) के प्रकार –

  1. श्चुत्व संधि – स्तो श्चुनाश्चु
  2. ष्टुत्व संधि – स्तो ष्टुनाष्टु
  3. जश्त्व संधि – झालम् जशोऽन्ते

3. विसर्ग संधि

विसर्ग का स्वर या व्यंजन के साथ मेल होने पर जो परिवर्तन होता है ,उसे विसर्ग संधि कहते है। उदाहरण–

  • निः + चय = निश्चय
  • दुः + चरित्र = दुश्चरित्र
  • ज्योतिः + चक्र = ज्योतिश्चक्र
  • निः + छल = निश्छल

विसर्ग संधि के प्रकार –

  1. सत्व संधि
  2. उत्व् संधि
  3. रुत्व् संधि
  4. विसर्ग लोप संधि

अन्य महत्वपूर्ण प्रष्ठ:

You may like these posts

Sanskrit Abhyas (संस्कृत अभ्यास) – महत्वपूर्ण प्रश्न और उनके उत्तर

इस संस्कृत अभ्यास में हम CTET, UPTET एवं अन्य State-TET, बिहार बोर्ड, उ०प्र० बोर्ड, राजस्थान बोर्ड एवं C.B.S.E के लिए उपयोगी एवं महत्वपूर्ण प्रश्न और उनके उत्तर जानेंगे। अभ्यासार्थ प्रश्न...Read more !

उपसर्ग प्रकरण – संस्कृत में उपसर्ग – संस्कृत व्याकरण

संस्कृत उपसर्ग (उपसर्ग प्रकरण) “उपस्रज्यन्ते धतुनाम् समीपे क्रियन्ते इत्युपसर्गा” अर्थात जो धातुओ के समीप रखे जाते है उपसर्ग कहलाते हैं। परंतु उपसर्गों से केवल क्रियाओ का ही निर्माण नही होता,...Read more !

दीर्घ संधि – अकः सवर्णे दीर्घः – Deergh Sandhi, Sanskrit Vyakaran

दीर्घ स्वर संधि दीर्घ संधि का सूत्र अक: सवर्णे दीर्घ: होता है। यह संधि स्वर संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में स्वर संधियां आठ प्रकार की होती...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *