संधि विच्छेद, संस्कृत में संधि, संस्कृत व्याकरण

SANDHI in SANSKRIT GRAMMAR - SANDHI VICHED
SANDHI

Sanskrit Sandhi- संस्कृत में संधि विच्छेद

दो वर्णों के निकट आने से उनमें जो विकार होता है उसे ‘सन्धि’ कहते है। इस प्रकार की सन्धि के लिए दोनों वर्णो का निकट होना आवश्यक है, क्योकि दूरवर्ती शब्दो या वर्णो में सन्धि नहीं होती है। वर्णो की इस निकट स्थिति को ही सन्धि कहते है। अतः संक्षेप में यह समझना चाहिए कि दो वर्णो के पास-पास आने से उनमें जो परिवर्तन या विकार होता है उसे संस्कृत व्याकरण में सन्धि कहते है। उदाहरण –

  • हिम + आलयः = हिमालयः
  • रमा + ईशः = रमेंशः
  • सूर्य + उदयः = सूर्योदयः

संस्कृत संधि के भेद/प्रकार

संस्कृत भाषा में संधियां तीन प्रकार की होती है-

  1. स्वर संधि
  2. व्यंजन संधि
  3. विसर्ग संधि

1. स्वर संधि – अच् संधि

नियम – दो स्वरों के मेल से होने वाले विकार (परिवर्तन) को स्वर-संधि कहते हैं। उदाहरण-

  • हिम+आलय= हिमालय।
  • रवि + इंद्र = रवींद्र
  • मुनि + इंद्र = मुनींद्र
  • नारी + इंदु = नारींदुई
  • मही + ईश = महीश
  • भानु + उदय = भानूदय
  • लघु + ऊर्मि = लघूर्मि
  • वधू + उत्सव = वधूत्सव
  • भू + ऊर्ध्व = भूर्ध्व

संस्कृत में स्वर-संधि आठ प्रकार की होती हैं-

  1. दीर्घ संधि – अक: सवर्णे दीर्घ:
  2. गुण संधि – आद्गुण:
  3. वृद्धि संधि – ब्रध्दिरेचि
  4. यण् संधि – इकोऽयणचि
  5. अयादि संधि – एचोऽयवायाव:
  6. पूर्वरूप संधि – एडः पदान्तादति
  7. पररूप संधि – एडि पररूपम्
  8. प्रकृति भाव संधि – ईदूद्विवचनम् प्रग्रह्यम्

2. व्यंजन संधि – हल् संधि

व्यंजन का स्वर या व्यंजन के साथ मेल होने पर जो परिवर्तन होता है, उसे व्यंजन संधि कहते है। उदाहरण-

  • उत + उल्लास = उल्लास
  • अप + ज = अब्ज

व्यंजन संधि (हल् संधि) के प्रकार –

  1. श्चुत्व संधि – स्तो श्चुनाश्चु
  2. ष्टुत्व संधि – स्तो ष्टुनाष्टु
  3. जश्त्व संधि – झालम् जशोऽन्ते

3. विसर्ग संधि

विसर्ग का स्वर या व्यंजन के साथ मेल होने पर जो परिवर्तन होता है ,उसे विसर्ग संधि कहते है। उदाहरण–

  • निः + चय = निश्चय
  • दुः + चरित्र = दुश्चरित्र
  • ज्योतिः + चक्र = ज्योतिश्चक्र
  • निः + छल = निश्छल

विसर्ग संधि के प्रकार –

  1. सत्व संधि
  2. उत्व् संधि
  3. रुत्व् संधि
  4. विसर्ग लोप संधि

अन्य महत्वपूर्ण प्रष्ठ:

Related Posts

Sanskrit translation – Learn, how to translate a sentence from Hindi to Sanskrit?

Translation of simple sentences of Sanskrit language into Hindi अनुवाद हेतु भाषा, शब्द तथा व्याकरण के ज्ञान की आवश्यकता किसी भी भाषा का ज्ञान होना, उस व्यक्ति के ज्ञान संग्रह...Read more !

स्वभावोक्ति अलंकार – Svabhavokti Alankar परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी

स्वभावोक्ति अलंकार परिभाषा– बालकादि की अपनी स्वाभाविक क्रिया अथवा रूप का वर्णन ही स्वभावोक्ति अलंकार है। अर्थात किसी वस्तु के स्वाभाविक वर्णन को स्वभावोक्ति अलंकार कहते हैं। यह अलंकार, हिन्दी...Read more !

कर्म कारक (को) – द्वितीया विभक्ति – संस्कृत, हिन्दी

कर्म कारक परिभाषा वह वस्तु या व्यक्ति जिस पर वाक्य में की गयी क्रिया का प्रभाव पड़ता है वह कर्म कारक कहलाता है। कर्म कारक का विभक्ति चिन्ह ‘को’ होता...Read more !

व्यतिरेक अलंकार – Vyatirek Alankar परिभाषा और उदाहरण – हिन्दी & संस्कृत

व्यतिरेक अलंकार परिभाषा: जहाँ कारण बताते हुए उपमेय की श्रेष्ठता उपमान से बताई जाए वहाँ व्यतिरेक अलंकार होता है। व्यतिरेक का शाब्दिक अर्थ होता है आधिक्य। व्यतिरेक में कारण का...Read more !

सनन्त प्रकरण – इच्छा सूचक क्रिया एवं अनिट् प्रत्यय प्रकरण – संस्कृत

सनन्त प्रकरण (Desiderative Verbs) सनन्त प्रकरण को इच्छासूचक क्रिया के रूप में जाना जाता है। इच्छा के अर्थ में धातु के आगे ‘सन् ‘ प्रत्यय लगता है। इस प्रत्यय का अंत...Read more !