भारतीय आर्य भाषाओं के प्रकार

विकास क्रम की दृष्टि से भारतीय आर्य भाषा को तीन प्रकार में / कालों में विभाजित किया गया है । भारतीय आर्य भाषा समूह को काल-क्रम की दृष्टि से निम्न भागों में बांटा (वर्गीकृत किया) गया है –

  1. प्राचीन भारतीय आर्य भाषा (2000 ई.पू. से 500 ई.पू. तक)
    1. वैदिक संस्कृत (2000 ई.पू. से 800 ई.पू. तक)
    2. संस्कृत अथवा लौकिक संस्कृत (800 ई.पू. से 500 ई.पू. तक)
  2. मध्यकालीन भारतीय आर्यभाषा (500 ई.पू. से 1000 ई. तक) यद्यपि इससे पहले भी प्राकृतें थी ।
    1. पालि (500 ई.पू. से 1 ई. तक)
    2. प्राकृत (1 ई. से 500 ई. तक)
    3. अपभ्रंश (500 ई. से 1000 ई. तक)
  3. आधुनिक भारतीय आर्यभाषा(1000 ई. से अब तक) (हिंदी और हिंदीतर बंगला, गुजराती, मराठी, सिंधी, पंजाबी आदि ।)
भारतीय आर्य भाषा क्या है? हिन्दी का इतिहास वस्तुत: वैदिक काल से प्रारंभ होता है । उससे पहले भारतीय आर्यभाषा का स्वरूप क्या था इसका कोई लिखित प्रमाण नहीं मिलता । साथ ही भारत में आर्यों का आगमन किस काल से हुआ इसका भी कोई प्रमाण नहीं मिलता । साधारणतया यह माना जाता है कि 2000 से 1500 ई. पूर्व भारत के उत्तर पश्चिम सीमांत प्रदेश में आर्यों के दल आने लगे । यहीं पहले से बसी हुई अनार्य जातियों को परास्त कर आर्यों ने सप्त सिंधु, जिसे हम आधुनिक पंजाब के नाम से जानते हैं, देश में आधिपत्य स्थापित कर लिया । यहीं से वे धीरे-धीरे पूर्व की ओर बढ़ते गए और मध्यदेश, काशी, कोशल, मगध, विदेह, अंग, बंग तथा कामरूप में स्थानीय अनार्य जातियों को पराभूत करके उन्होंने वहाँ अपना राज्य स्थापित कर लिया । और अधिक पढे – भारतीय आर्य भाषा

हिन्दी भाषा के साहित्य का विभाजन या वर्गीकरण पढ़े विस्तार से

Related Posts

कुमाउनी, गढ़वाली, मेवाती – पहाड़ी हिन्दी की बोलियाँ – हिन्दी भाषा

पहाड़ी हिन्दी पहाड़ी का विकास ‘खस’ प्राकृत से माना जाता है। सर जार्ज ग्रियर्सन ने इसे  ‘मध्य पहाड़ी’ नाम से सम्बोधित किया है। पहाड़ी हिन्दी कुमाऊँ और गढ़वाल प्रदेश की...Read more !

अष्टछाप के कवि – भक्तिकाल

अष्टछाप के कवि अष्टछाप एक आठ कवियों का समूह था। आठो कवि दो समूह में विभाजित थे; चार महाप्रभु श्री वल्लभाचार्य जी एवं चार उनके पुत्र श्री विट्ठलनाथ जी के...Read more !

प्रगतिवाद – जन्म, कवि, विशेषताएं, प्रवृत्तियाँ – प्रगतिवादी काव्यधारा

प्रगतिवाद प्रगतिवाद एक राजनैतिक एवं सामाजिक शब्द है। ‘प्रगति शब्द का अर्थ है ‘आगे बढ़ना, उन्नति। प्रगतिवाद का अर्थ है ”समाज, साहित्य आदि की निरन्तर उन्नति पर जोर देने का...Read more !

Baby Girl Names in Sanskrit – संस्कृत एवं हिन्दी

Baby Girl आज इस प्रष्ठ में Baby Girl के Names संस्कृत में बात करने वाले हैं। यहाँ पर हम आपके लिए लेकर आये हैं ‘Baby Girl Names in Sanskrit’ की...Read more !

वीरगाथा काल की रचनाएँ एवं रचनाकार, कवि – list & table

वीरगाथा काल का साहित्य अनेक अमूल्य रचनाओं का सागर है, इतना समृद्ध साहित्य किसी भी दूसरी भाषा का नहीं है और न ही किसी अन्य भाषा की परम्परा का साहित्य...Read more !