बुंदेली – बुंदेली बोली – बुंदेलखंडी भाषा – पश्चिमी हिन्दी

Bundeli ya Bundelkhandi Hindi Bhasha - ke Kshetra
Bundeli

बुंदेली – बुंदेलखंडी

बुंदेली– बुंदेलखण्ड की भाषा को बुंदेली अथवा बुंदेलखण्डी कहा जाता है। चम्बल और यमुना नदियों तथा जबलपुर, रीवां और विन्ध्य पर्वत के बीच के प्रदेश को बुंदेलखण्ड कहा जाता है। इसमें मध्यप्रदेश और उत्तरप्रदेश, दोनों राज्यों के प्रदेश सम्मिलित हैं। बांदा, झाँसी, हमीरपुर, ग्वालियर, बालाघाट, ओरछा, दतिया, सागर, होशंगाबाद, आदि जिले इस क्षेत्र के अन्तर्गत आते हैं।

बुन्देली के चारों ओर ब्रज, कन्नौजी, मालवी, मराठी और बघेली का प्रसार है। बुन्देली पर ब्रज एवं अवधी का प्रभाव है। क्रिया रूपों की दृष्टि से बुंदेली में सहायक क्रिया ‘ह’ का विलोपन हो जाता है, अतः ‘हूँ’ के स्थान पर आँय, हाँय, ‘हैं’ के स्थान पर औ, आव तथा ‘हो’ के स्थान पर ते, ती आदि रूप पाये जाते हैं।

बुंदेली भाषा के शब्द, Word

  • रींछ-भालू,
  • लडैया-भेडिया,
  • कपडालत्तां=कपड़े,
  • उमदा-अच्छा,
  • मंदर-मंदिर,
  • जमाने भर के-दुनिया भर के,
  • उलांयते़-जल्दी,
  • तोसे-तुमसे,
  • मोसे-मुझसे,
  • काय-क्यों,
  • का-क्या,
  • किते – कहां,
  • एते आ – यहां आ,
  • नें करो- मत करो,
  • करियो- करना (तुम वह आप के उच्चारण में),
  • करिये- करना (तू के उच्चारण में),
  • हओ-हां,
  • पुसात-पसंद आता है।,
  • इको-इसका,
  • अपनोंरें-हम सब,
  • हुईये-होगा,
  • इखों-इसको,
  • उखों-उसको,
  • हमोरे-हम सब(जब किसी दूसरे व्यक्ति से बोल रहे हों),
  • तैं-तू,
  • हम-मैं,
  • जेहें-जायेंगे/जायेंगी,
  • जेहे-जायेगा/जायेंगी,
  • नें-नहीं व मत के उच्चारण में,
  • खीब-खूब,
  • ररो/मुलक/मुझको/वेंजा-बहुत,
  • टाठी-थाली,
  • चीनवो-जानना,
  • लगां/लिंगा-पास में,
  • नो/लों-तक,
  • हे-को,
  • आय-है,
  • हैगो/हैगी-है,
  • हमाओ/हमरो-मेरा,
  • हमायी/हमरी-मेरी,
  • हमाये/हमरे-मेरे,
  • किते, कहाँ,
  • इते, यहाँ,
  • सई, सच आदि।

बुंदेलखंडी बोले जाने वाले क्षेत्र

  • होशंगाबाद,
  • कटनी,
  • बांदा,
  • सागर,
  • दमोह,
  • ग्वालियर,
  • मुरैना,
  • दतिया,
  • नरसिंहपुर,
  • जबलपुर,
  • झांसी,
  • महोबा,
  • पन्ना,
  • विदिशा,
  • छतरपुर,
  • टीकमगढ़,
  • हमीरपुर,
  • चित्रकूट,
  • ललितपुर,
  • नरसिंहपुर।
Bundeli Rai Nritya
Bundeli Rai Nritya (Image Source: patrika.com)

You may like these posts

काव्य (Kavya) – परिभाषा, अंग, भेद, प्रकार, जनक, तत्व और उदाहरण

काव्य किसे कहते हैं? काव्य (Kavya) पद्यात्मक एवं छन्द-बद्ध रचना होती है। चिन्तन की अपेक्षा काव्य में भावनाओं की प्रधानता होती है। इसका साहित्य आनन्द सृजन करता है। और जिसका...Read more !

सम्प्रदान कारक (के लिए) – चतुर्थी विभक्ति – संस्कृत, हिन्दी

सम्प्रदान कारक परिभाषा जिसके लिए कोई कार्य किया जाए, उसे संप्रदान कारक कहते हैं। अथवा – कर्ता जिसके लिए कुछ कार्य करता है, अथवा जिसे कुछ देता है उसे व्यक्त...Read more !

भक्ति काल के कवि और उनकी रचनाएँ एवं रचनाकर

भक्ति काल की रचनाएं भक्तिकाल का साहित्य अनेक अमूल्य रचनाओं का सागर है, इतना समृद्ध साहित्य किसी भी दूसरी भाषा का नहीं है और न ही किसी अन्य भाषा की...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *