रात्रि शब्द के रूप – Ratri Ke Roop, Shabd Roop – Sanskrit

Ratri Shabd

रात्रि शब्द (Night, रात): इकारान्त स्त्रीलिंग शब्द , इस प्रकार के सभी इकारान्त स्त्रीलिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। रात्रि जैसे शब्दों के शब्द रूप को बनाने के लिए एक शब्द रूप को देखकर अंतिम वर्णो और मात्राओं के अनुसार ही शब्द रूप बनाते हैं।

रात्रि शब्द के रूप – Ratri Ke Roop, इस प्रकार एक प्रकार के शब्दों के shabd roop आप आसानी से बना सकते हैं। यदि आप खुद से एक शब्द रूप को देखकर दूसरा shabd roop बनाने का प्रयत्न करेंगे तो आपको शब्द रूप याद भी जल्दी हो जाएंगे। बस यही शब्द रूप याद करने की ट्रिक है। केवल एकवचन ke शब्द रूप उलझन में डालते हैं और उनको ही भूलने का डर रहता हैं। और अक्सर एकवचन shabd roop ही exam में पूछे जाते हैं।

रात्रि के शब्द रूप इस प्रकार हैं-

रात्रि के शब्द रूप – Ratri Shabd Roop

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा रात्रिः रात्री रात्रयः
द्वितीया रात्रिम् रात्री रात्रीः
तृतीया रात्र्या रात्रिभ्याम् रात्रिभिः
चतुर्थी रात्र्यै, रात्रये रात्रिभ्याम् रात्रिभ्यः
पंचमी रात्र्याः, रात्रेः रात्रिभ्याम् रात्रिभ्यः
षष्ठी रात्र्याः, रात्रेः रात्र्योः रात्रीणाम्
सप्तमी रात्र्याम्, रात्रौ रात्र्योः रात्रिषु
सम्बोधन हे रात्रे ! हे रात्री ! हे रात्रयः !

अन्य महत्वपूर्ण शब्द रूप

महत्वपूर्ण शब्द रूप की Shabd Roop List देखें और साथ में shabd roop yad karane ki trick भी, सभी शब्द रूप संस्कृत में।

Shabd roop of Ratri -Image

Ratri Shabd Roop

You may like these posts

रजक शब्द के रूप (Rajak Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Rajak Shabd रजक शब्द (अन्न, भोजन, रोजी, जीविका): रजक शब्द के अकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, रजक (Rajak) शब्द के अंत में “अ” का प्रयोग हुआ इसलिए यह अकारान्त...Read more !

वाणी शब्द के रूप – Vani Ke Shabd Roop – Sanskrit

Vani Shabd वाणी शब्द ( मानव मुख से निःसृत सार्थक शब्द, ध्वनि): वाणी शब्द के ईकारान्त स्त्रील्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप, वाणी (Vani) शब्द के अंत में “ई” की मात्रा...Read more !

अतिथि शब्द के रूप – Atithi ke roop, Shabd Roop – Sanskrit

Atithi Shabd अतिथि शब्द (Guest): इकारान्त पुल्लिंग संज्ञा, सभी इकारान्त पुल्लिंग संज्ञापदों के रूप इसी प्रकार बनाते है। अतिथि के रूप – Shabd Roop विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन प्रथमा अतिथिः...Read more !