मातृ (माता) शब्द के रूप – Matra/Mata ke roop – Sanskrit

मातृ (माता) शब्द रूप

मातृ शब्द (माता) : ऋकारान्त स्त्रील्लिंग संज्ञा, सभी ऋकारान्त स्त्रील्लिंग संज्ञापदों के शब्द रूप इसी प्रकार बनाते है। परन्तु स्वसृ का रूप थोड़ा भिन्न होता है।

मातृ (माता) के शब्द रूप – Matra/Mata Shabd Roop

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा माता मातरौ मातरः
द्वितीया मातरम् मातरौ मातृ
तृतीया मात्रा मातृभ्याम् मातृभिः
चतुर्थी मात्रे मातृभ्याम् मातृभ्यः
पंचमी मातुः मातृभ्याम् मातृभ्यः
षष्ठी मातुः मात्रोः मातृणाम्
सप्तमी मातरि मात्रोः मातृषु
सम्बोधन हे माता ! हे मातरौ ! हे मातरः !

अन्य महत्वपूर्ण शब्द रूप

Shabd roop of Matra (Mata) in Photo (pdf/image)

Matra / Mata Shabd Roop

You may like these posts

करिन् (करी) शब्द के रूप (Karin Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Karin Shabd करिन् शब्द (करी, छत पाटने का शहतीर, धरन, कड़ी): करिन् शब्द के नकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, करिन् (Karin) शब्द के अंत में “न्” का प्रयोग हुआ...Read more !

यातृ शब्द के रूप – Yatr Ke Shabd Roop – Sanskrit

Yatr Shabd यातृ शब्द (देवरानी, याता): यातृ शब्द के ऋकारान्त स्त्रील्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप, यातृ (Yatr) शब्द के अंत में “ऋ” की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह ऋकारान्त...Read more !

ज्ञातृ (ज्ञाता) शब्द के रूप (Gyatr Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Gyatr Shabd ज्ञातृ शब्द (ज्ञाता, जाननेवाला, ज्ञान रखने वाला, जानकार): ज्ञातृ शब्द के ऋकारान्त नपुंसकलिंग शब्द के शब्द रूप, ज्ञातृ (Gyatr) शब्द के अंत में ‘ऋ’ की मात्रा का प्रयोग...Read more !