सार्थक शब्द – संस्कृत व्याकरण (Sarthak Shabd)

Sarthak Shabd

सार्थक शब्द

सार्थक शब्द वे होते है जो वाक्य मे प्रयोग करने पर खास अर्थ का बोध कराते है, तथा सार्थक शब्दो को ही पद कहा जाता है। उदाहरण के लिए- राम:, गच्छति → ये दोनों शब्द है ।

राम: गच्छति । → ये पद हुआ ।

इस उदाहरण मे दो पद हुए — ‘राम‘ और ‘गच्छति‘ । ‘राम:’ सुबंत के अंतर्गत तथा ‘गच्छतितिङन्त के अंतर्गत आते है।
व्याकरण में पतंजलि ने पदों का वर्गीकरण चार वर्गों में किया है –

चत्वारि पदजातानि नामाख्यातोपसर्गनिपाता: ।

अर्थात नाम, आख्यात, उपसर्ग, और निपात ये चार प्रकार के शब्द वर्ग है।

सार्थक शब्दों को दो वर्गों में बांटा गया है

  1. सुबंत
  2. तिङन्त

1. सुबंत प्रकरण

संज्ञा और संज्ञा सूचक शब्द सुबंत के अंतर्गत आते है । सुबंत प्रकरण को व्याकरण मे सात भागो मे बांटा गया है – नाम, संज्ञा पद, सर्वनाम पद, विशेषण पद, क्रिया विशेषण पद, उपसर्ग, निपात

2. तिड्न्त प्रकरण

क्रिया वाचक प्रकृति को ही धातु (तिड्न्त ) कहते है। जैसे : भू, स्था, गम् , हस् आदि। संस्कृत में धातुओं की दस लकारे होती है…और अधिक पढ़े

You may like these posts

Vegetables name in Hindi (sabjiyo ke naam), Sanskrit and English – With Chart, List

Vegetables (सब्जियों) name in Hindi, Sanskrit and English In this chapter you will know the names of Vegetable (Vegetable) in Hindi, Sanskrit and English. We are going to discuss Vegetables name’s...Read more !

वृद्धि संधि – ब्रध्दिरेचि – Vriddhi Sandhi, Sanskrit Vyakaran

वृद्धि संधि वृद्धि संधि का सूत्र ब्रध्दिरेचि होता है। यह संधि स्वर संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में स्वर संधियां आठ प्रकार की होती है। दीर्घ संधि,...Read more !

विसर्ग लोप संधि – Visarg Lop Sandhi, संस्कृत व्याकरण

विसर्ग लोप संधि विसर्ग लोप संधि विसर्ग संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में विसर्ग संधियां कई प्रकार की होती है। इनमें से सत्व संधि, उत्व् संधि, रुत्व्...Read more !