जनक शब्द के रूप – Janak ke Roop – Sanskrit

जनक के शब्द रूप

जनक शब्द: अकारांत पुंल्लिंग शब्द , इस प्रकार के सभी अकारांत पुल्लिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है।

जनक के रूप – Janak Shabd Roop

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा जनकः जनकौ जनकाः
द्वितीया जनकम् जनकौ जनकान्
तृतीया जनकेन जनकाभ्याम् जनकैः
चतुर्थी जनकाय जनकाभ्याम् जनकेभ्यः
पंचमी जनकात् जनकाभ्याम् जनकेभ्यः
षष्ठी जनकस्य जनकयोः जनकानाम्
सप्तमी जनके जनकयोः जनकेषु
सम्बोधन हे जनक ! हे जनकौ ! हे जनकाः !

अन्य महत्वपूर्ण शब्द रूप

महत्वपूर्ण शब्द रूप की Shabd Roop List देखें और साथ में shabd roop yad karane ki trick भी, सभी शब्द रूप संस्कृत में।

Shabd roop of Janak -Image

Janak Shabd Roop

You may like these posts

हनुमत् शब्द के रूप – Hanumat ke Roop – Sanskrit

हनुमत् के शब्द रूप हनुमत् शब्द : पुंल्लिंग शब्द , इस प्रकार के सभी पुल्लिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। हनुमत् के रूप – Hanumat...Read more !

सत्य शब्द के रूप (Saty Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Saty Shabd सत्य शब्द (truth, सत्य, सच, सचाई, साँच): सत्य शब्द के अकारान्त नपुंसकलिंग शब्द के शब्द रूप, सत्य (Saty) शब्द के अंत में ‘अ’ का प्रयोग हुआ इसलिए यह...Read more !

एतावत् शब्द के रूप (Etavat Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Etavat Shabd एतावत् शब्द (इतना, this much): एतावत् शब्द के तकारांत डवतु प्रत्ययान्त पुल्लिङ्गः शब्द के शब्द रूप, एतावत् (Etavat) शब्द के अंत में “त्” का प्रयोग हुआ इसलिए यह...Read more !