क्षत्रिय के शब्द रूप – Kshatriya ke roop – संस्कृत

क्षत्रिय शब्द के रूप

क्षत्रिय शब्द : अकारांत पुल्लिंग संज्ञा , सभी पुल्लिंग संज्ञाओ के रूप इसी प्रकार बनाते है जैसे -देव, बालक, राम, वृक्ष, सूर्य, सुर, असुर, मानव, अश्व, गज, ब्राह्मण, क्षत्रिय, शूद्र, छात्र, शिष्य, दिवस, लोक, ईश्वर, भक्त आदि।

क्षत्रिय के रूप

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा क्षत्रिय: क्षत्रियौ क्षत्रिया:
द्वितीया क्षत्रियम् क्षत्रियौ क्षत्रियान्
तृतीया क्षत्रियेन् क्षत्रियाभ्याम् क्षत्रियै:
चतुर्थी क्षत्रियाय क्षत्रियाभ्याम् क्षत्रियेभ्य:
पंचमी क्षत्रियात् क्षत्रियाभ्याम् क्षत्रियेभ्य:
षष्ठी क्षत्रियस्य क्षत्रिययो: क्षत्रियानाम्
सप्तमी क्षत्रिये क्षत्रिययो: क्षत्रियेषु
संबोधन हे क्षत्रिय! हे क्षत्रियौ! हे क्षत्रिया!

अकारांत पुल्लिंग संज्ञाओ के शब्द रूप

अन्य महत्वपूर्ण शब्द रूप

Shabd Roop of Kshatriy

 Kshatriya shabd roop

Related Posts

वार् शब्द के रूप – Vaar Shabd Roop – संस्कृत

Vaar Shabd वार् शब्द (जल,पानी, रक्षक, त्राता, प्रति- पालक): वार् शब्द के रकारान्त स्त्रीलिंग शब्द के शब्द रूप, वार् (Vaar) शब्द के अंत में ‘र्’ की मात्रा का प्रयोग हुआ...Read more !

उमा शब्द के रूप – Uma Ke Roop, Shabd Roop – Sanskrit

Uma Shabd उमा शब्द (Uma): आकारांत स्त्रीलिंग शब्द , इस प्रकार के सभी आकारांत स्त्रीलिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। संस्कृत व्याकरण एवं भाषा में...Read more !

प्रशास्तृ (प्रशास्ता) शब्द के रूप (Prashastr Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Prashastr Shabd प्रशास्तृ शब्द (प्रशास्ता, ऋत्विक्, मित्र, शासनकर्ता, राजा, शासक): प्रशास्तृ शब्द के ऋकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, प्रशास्तृ (Prashastr) शब्द के अंत में ‘ऋ’ की मात्रा का प्रयोग...Read more !

सर्व नपुंसकलिंग शब्द के रूप – Sarv Napunsak Ling Sarvnam Sabd Roop – Sanskrit

सर्व नपुंसकलिंग शब्द के रूप सर्व नपुंसकलिंग सर्वनाम शब्द (सभी, All, Neuter): नपुंसकलिंग सर्वनाम, सर्वनाम शब्द रूप पांच विभागों में विभक्त है। – १-सर्व्वादि , २- अन्यादि , ३- पूर्वादि...Read more !

ऋतु शब्द के रूप – Ritu Ke Shabd Roop – Sanskrit

Ritu Shabd ऋतु शब्द (Ritu Shabd Roop): ऋतु शब्द के उकारांत पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, अर्थात ऋतु (Ritu) शब्द के अंत में “उ” की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published.