क्षत्रिय के शब्द रूप – Kshatriya ke roop – संस्कृत

क्षत्रिय शब्द

क्षत्रिय शब्द : अकारांत पुल्लिंग संज्ञा , सभी पुल्लिंग संज्ञाओ के शब्द रूप इसी प्रकार बनाते है जैसे -देव, बालक, राम, वृक्ष, सूर्य, सुर, असुर, मानव, अश्व, गज, ब्राह्मण, क्षत्रिय, शूद्र, छात्र, शिष्य, दिवस, लोक, ईश्वर, भक्त आदि।

क्षत्रिय के शब्द रूप – Kshatriya Shabd Roop

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा क्षत्रिय: क्षत्रियौ क्षत्रिया:
द्वितीया क्षत्रियम् क्षत्रियौ क्षत्रियान्
तृतीया क्षत्रियेन क्षत्रियाभ्याम् क्षत्रियै:
चतुर्थी क्षत्रियाय क्षत्रियाभ्याम् क्षत्रियेभ्य:
पंचमी क्षत्रियात् क्षत्रियाभ्याम् क्षत्रियेभ्य:
षष्ठी क्षत्रियस्य क्षत्रिययो: क्षत्रियानाम्
सप्तमी क्षत्रिये क्षत्रिययो: क्षत्रियेषु
संबोधन हे क्षत्रिय! हे क्षत्रियौ! हे क्षत्रिया!

अकारांत पुल्लिंग संज्ञाओ के शब्द रूप

अन्य महत्वपूर्ण शब्द रूप

Shabd Roop of Kshatriy

 Kshatriya shabd roop

You may like these posts

दत् शब्द के रूप (Dat Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Dat Shabd दत् शब्द (दान, दांतों वाला): दत् शब्द के तकारान्त पुल्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप, दत् (Dat) शब्द के अंत में ‘त’ की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह...Read more !

तपस् (तपस्या) शब्द के रूप – Tapas / tapasya Ke Roop – Sanskrit

Tapas / tapasya Shabd तपस् शब्द (तपस्या) : सकारांत शब्द , इस प्रकार के सभी सकारांत शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। संस्कृत व्याकरण एवं भाषा...Read more !

मृदु शब्द के रूप – Mradu Ke Shabd Roop – Sanskrit

Mradu Shabd मृदु शब्द (कोमल, Sweet): मृदु शब्द के उकारांत शब्द के शब्द रूप, अर्थात मृदु (Mradu) शब्द के अंत में “उ” की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह उकारांत...Read more !