दोस् (हाथ) शब्द के रूप – Dos Ke Roop, Shabd Roop – Sanskrit

Dos Shabd

दोस् शब्द (हाथ, Hand): सकारांत पुंल्लिंग शब्द , इस प्रकार के सभी सकारांत पुल्लिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। संस्कृत व्याकरण एवं भाषा में शब्द रूप अति महत्व रखते हैं। और धातु रूप (Dhatu Roop) भी बहुत ही आवश्यक होते हैं।

दोस् के शब्द रूप इस प्रकार हैं-

दोस् के शब्द रूप – Dos Shabd Roop

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा दोः दोषौ दोषः
द्वितीया दोः दोषौ दोषः/ दोष्णः
तृतीया दोषा/ दोष्णा दोर्भ्याम्/ दोषभ्याम् दोर्भिः/ दोषभिः
चतुर्थी दोषे/ दोष्णे दोर्भ्याम्/ दोषभ्याम् दोर्भ्यः/ दोषभ्यः
पंचमी दोषः/ दोष्णः दोर्भ्याम्/ दोषभ्याम् दोर्भ्यः/ दोषभ्यः
षष्ठी दोषः/ दोष्णः दोषोः/ दोष्णोः दोषाम्/ दोष्णाम्
षप्तमी दोष्णि/ दोषणि दोषोः/ दोष्णोः दोःषु/ दोषषु
षम्बोधन हे दोः ! हे दोषौ ! हे दोषः !

अन्य महत्वपूर्ण शब्द रूप

महत्वपूर्ण शब्द रूप की Shabd Roop List देखें और साथ में shabd roop yad karane ki trick भी, सभी शब्द रूप संस्कृत में।

Shabd roop of Dos -Image

Related Posts

यज्ञ शब्द के रूप – Yagya Ke Roop, Shabd Roop – Sanskrit

Yagya Shabd यज्ञ शब्द (Yagya, sacrifice): अकारांत पुंल्लिंग शब्द , इस प्रकार के सभी अकारांत पुल्लिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। संस्कृत व्याकरण एवं भाषा...Read more !

धीवर शब्द के रूप (Dheevar Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Dheevar Shabd धीवर शब्द (Fisherman, धीवर, मछुआ, माहीगीर): धीवर शब्द के अकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, धीवर (Dheevar) शब्द के अंत में “अ” का प्रयोग हुआ इसलिए यह अकारान्त...Read more !

सुधी शब्द के रूप – Sudhi ke roop – Sanskrit

सुधी शब्द के रूप सुधी शब्द (पंडित): ईकारांत पुल्लिंग संज्ञा, सभी ईकारांत पुल्लिंग संज्ञापदों के शब्द रूप इसी प्रकार बनाते है जैसे – नी, हतधी, मंदधी, शुद्धधी आदि। सुधी के...Read more !

नर्मदा शब्द के रूप (Narmada Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Narmada Shabd नर्मदा शब्द (एक नदी, a river): नर्मदा शब्द के आकारान्त स्त्रीलिङ्ग शब्द के शब्द रूप, नर्मदा (Narmada) शब्द के अंत में ‘आ’ की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए...Read more !

ऋतु शब्द के रूप – Ritu Ke Shabd Roop – Sanskrit

Ritu Shabd ऋतु शब्द (Ritu Shabd Roop): ऋतु शब्द के उकारांत पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, अर्थात ऋतु (Ritu) शब्द के अंत में “उ” की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए...Read more !