सूर्य शब्द के रूप – Soorya ke roop – संस्कृत

सूर्य शब्द

सूर्य शब्द : अकारांत पुल्लिंग संज्ञा , सभी पुल्लिंग संज्ञाओ के शब्द रूप इसी प्रकार बनाते है जैसे -देव, बालक, राम, वृक्ष, सूर्य, सुर, असुर, मानव, अश्व, गज, ब्राह्मण, क्षत्रिय, शूद्र, छात्र, शिष्य, दिवस, लोक, ईश्वर, भक्त आदि।

सूर्य के शब्द रूप – Soorya Shabd Roop

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा सूर्य : सूर्यौ सूर्या:
द्वितीया सूर्यम् सूर्यौ सूर्यान्
तृतीया सूर्येन सूर्याभ्याम् सूर्यै:
चतुर्थी सूर्याय सूर्याभ्याम् सूर्येभ्य:
पंचमी सूर्यात् सूर्याभ्याम् सूर्येभ्य:
षष्ठी सूर्यस्य सूर्ययो: सूर्यानाम्
सप्तमी सूर्ये सूर्ययो: सूर्येषु
संबोधन हे सूर्य ! हे सूर्यौ ! हे सूर्या !

अकारांत पुल्लिंग संज्ञाओ के शब्द रूप

अन्य महत्वपूर्ण शब्द रूप

Shabd Roop of Soorya

soorya shabd roop

You may like these posts

गोपा शब्द के रूप – Gopa Ke Shabd Roop – Sanskrit

Gopa Shabd गोपा शब्द (गाय का रक्षक): आकारान्त शब्द , इस प्रकार के सभी आकारान्त शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। गोपा के शब्द रूप इस...Read more !

नर्मदा शब्द के रूप (Narmada Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Narmada Shabd नर्मदा शब्द (एक नदी, a river): नर्मदा शब्द के आकारान्त स्त्रीलिङ्ग शब्द के शब्द रूप, नर्मदा (Narmada) शब्द के अंत में ‘आ’ की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए...Read more !

सन्ध्या शब्द के रूप (Sandhya Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Sandhya Shabd सन्ध्या शब्द (शाम, सांझ, Evening, time of sun set): सन्ध्या शब्द के आकारान्त स्त्रीलिङ्ग शब्द के शब्द रूप, सन्ध्या (Sandhya) शब्द के अंत में ‘आ’ की मात्रा का...Read more !