लज्जावत् (लज्जावान्) शब्द के रूप (lajjaavat Ke Shabd Roop) – संस्कृत

lajjaavat Shabd

लज्जावत् शब्द (लज्जावान्, लज्जाशील, जिसमें लज्जा हो, शर्मदार, हयादार): लज्जावत् शब्द के तकारांत डवतु प्रत्ययान्त पुल्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप, लज्जावत् (lajjaavat) शब्द के अंत में “त्” का प्रयोग हुआ इसलिए यह तकारांत हैं। अतः lajjaavat Shabd के Shabd Roop की तरह लज्जावत् जैसे सभी तकारांत डवतु प्रत्ययान्त पुल्लिङ्ग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। लज्जावत् शब्द के शब्द रूप संस्कृत में सभी विभक्तियों एवं तीनों वचन में शब्द रूप (lajjaavat Shabd Roop) नीचे दिये गये हैं।

लज्जावत् के शब्द रूप – Shabd roop of lajjaavat

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा लज्जावान् लज्जावन्तौ लज्जावन्तः
द्वितीया लज्जावन्तम् लज्जावन्तौ लज्जावतः
तृतीया लज्जावता लज्जावद्भ्याम् लज्जावद्भिः
चतुर्थी लज्जावते लज्जावद्भ्याम् लज्जावद्भ्यः
पंचमी लज्जावतः लज्जावद्भ्याम् लज्जावद्भ्यः
षष्ठी लज्जावतः लज्जावतोः लज्जावताम्
सप्तमी लज्जावति लज्जावतोः लज्जावत्सु
सम्बोधन हे लज्जावान् ! हे लज्जावन्तौ ! हे लज्जावन्तः !

लज्जावत् शब्द का अर्थ/मतलब

लज्जावत् शब्द का अर्थ लज्जावान्, लज्जाशील, जिसमें लज्जा हो, शर्मदार, हयादार होता है। लज्जावत् शब्द तकारांत शब्द है इसका मतलब भी ‘लज्जावान्, लज्जाशील, जिसमें लज्जा हो, शर्मदार, हयादार’ होता है।

लज्जावत् जैसे और महत्वपूर्ण शब्द रूप

उपर्युक्त शब्द रूप लज्जावत् शब्द के तकारांत डवतु प्रत्ययान्त पुल्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप हैं लज्जावत् जैसे शब्द रूप (lajjaavat shabd Roop) देखने के लिए Shabd Roop List पर जाएँ।

Related Posts

सीता शब्द के रूप – Sita Ke Roop, Shabd Roop – Sanskrit

Sita Shabd सीता शब्द (wife of lord Ram): आकारांत स्त्रीलिंग शब्द , इस प्रकार के सभी आकारांत स्त्रीलिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। संस्कृत व्याकरण...Read more !

प्राच् (नपुंसकलिंग) शब्द के रूप – Prach Ke Roop, Napunsak ling – Sanskrit

Prach Shabd प्राच् शब्द (प्राञ्च्, पूर्व दिशा, East): चकारांत नपुंसकलिंग शब्द , नपुंसकलिंग शब्द के रूप पुल्लिंग शब्द रूपों की तरह ही होते हैं। सिर्फ प्रथमा और द्वितीया विभक्ति के...Read more !

त्रि – वहुवचनांत के शब्द रूप – Teen / Tri Ke Roop, Shabd Roop – Sanskrit

Teen / Tri त्रि – वहुवचनांत शब्द (three): त्रि – वहुवचनांत , त्रि शब्द वहुवचनांत होता है। संस्कृत व्याकरण एवं भाषा में शब्द रूप अति महत्व रखते हैं, उससे अधिक...Read more !

जगत् शब्द के रूप – Jagat ke Roop – Sanskrit

जगत् के शब्द रूप जगत् शब्द (World, दुनिया): तकारान्त क्विवलिङ्ग शब्द , इस प्रकार के सभी नपुन्सकलिङ्ग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। जगत् के रूप...Read more !

सति/सती शब्द के रूप – Sati Ke Shabd Roop – Sanskrit

Sati Shabd सति/सती शब्द (पतिव्रता स्त्री, साध्वी): सति/सती शब्द के इकारान्त स्त्रील्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप, सति/सती (Sati) शब्द के अंत में “इ” की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह...Read more !