संस्मरण और संस्मरणकार – लेखक और रचनाएँ, हिन्दी

SANSMARAN AUR SANSMARAN KAR - HINDI

हिन्दी के संस्मरण और संस्मरण-कार

हिन्दी का प्रथम संस्मरण ‘बालमुकुंद गुप्त‘ लिखित “हरिऔध जी का संस्मरण” है। किसी घटना, दृश्य, वस्तु या व्यक्ति का पूर्णरूपेण आत्मीय स्मरण संस्मरण कहलाता है। यह आधुनिक काल में नवविकसित, सर्वाधिक विवादों से घिरी साहित्य-विधा है। यह विधा कभी तो जीवनी, रेखाचित्र, रिपोर्ताज और कभी निबन्ध के अन्तर्गत परिगणित की गई है।

संस्मरण और संस्मरण-कार

क्रम संस्मरण संस्मरण-कार
1. अनुमोदन का अंत (1905 ई.), सभा की सभ्यता (1907 ई.) महावीर प्रसाद द्विवेदी
2. हरिऔध जी का संस्मरण बालमुकुंद गुप्त
3. शिकार (1936 ई.), बोलती प्रतिमा (1937 ई.), भाई जगन्नाथ, प्राणों का सौदा(1939 ई.) जंगल के जीव (1949 ई.) श्रीराम शर्मा
4. लाल तारा (1938 ई.), माटी की मूरतें (1946 ई.), गेहूँ और गुलाब (1950 ई.), जंजीर और दीवारें (1955 ई.), मील के पत्थर (1957 ई.) रामवृक्ष बेनीपुरी
5. अतीत के चलचित्र (1941 ई.), स्मृति की रेखाएँ (1947 ई.), पथ के साथी (1956 ई.), क्षणदा (1957 ई.), स्मारिका (1971 ई.) महादेवी वर्मा
6. तीस दिन : मालवीय जी के साथ (1942 ई.) रामनरेश त्रिपाठी
7. हमारे आराध्य (1952 ई.) बनारसीदास चतुर्वेदी
8. जिंदगी मुस्कराई (1953 ई.), दीप जले शंख बजे (1959 ई.), माटी हो गई सोना (1959 ई.) कन्हैयालाल मिश्र ‘प्रभाकर’
9. ये और वे (1954 ई.) जैनेंद्र
10. बचपन की स्मृतियाँ (1955 ई.), असहयोग के मेरे साथी (1956 ई.), जिनका मैं कृतज्ञ (1957 ई.) राहुल सांकृत्यायन
11. मंटो : मेरा दुश्मन (1956 ई.), ज्यादा अपनी कम परायी (1959 ई.) ‘अश्क’
12. वट-पीपल (1961 ई.) ‘दिनकर’
13. समय के पाँव (1962 ई.) माखन लाल चतुर्वेदी
14. नए-पुराने झरोखे (1962 ई.) ‘बच्चन’
15. दस तस्वीरें (1963 ई.), जिन्होंने जीना जाना (1971 ई.) जगदीश चंद्र माथुर
16. वे दिन वे लोग (1965 ई.) शिवपूजन सहाय
17. कुछ शब्द : कुछ रेखाएँ (1965 ई.) विष्णु प्रभाकर
18. चेतना के बिंब (1967 ई.) नगेंद्र
19. जिनके साथ जिया (1973 ई.) अमृत लाल नागर
20. स्मृतिलेखा (1982 ई.) ‘अज्ञेय’

महत्वपूर्ण विधाओं के रचनाकार और रचनाएँ (लेखक और रचनाएँ)

उपन्यास-उपन्यासकार, कहानी-कहानीकार, नाटक-नाटककार, एकांकी-एकांकीकार, आलोचना-आलोचक, निबंध-निबंधकार, आत्मकथा-आत्मकथाकार, जीवनी-जीवनीकार, संस्मरण-संस्मरणकार, रेखाचित्र-रेखाचित्रकार, यात्राव्रतांत-यात्राव्रतांतकार, रिपोर्ताज-रचनाकार

Related Posts

सप्तक के कवि – सभी सप्तक और उनके कवियों के नाम

सप्तक के कवि सप्तक का मतलब होता हैं सात अर्थात सात कवियों का समूह। सप्तक के कवियों का जन्म प्रयोगवाद (1943 ई० से…) से शुरू होता है। प्रयोगवाद क्या हैं?...Read more !

आदिकाल की रचनाएँ एवं रचनाकार, कवि list & table

आदिकाल की रचनाएँ आदिकाल का साहित्य अनेक अमूल्य रचनाओं का सागर है, इतना समृद्ध साहित्य किसी भी दूसरी भाषा का नहीं है और न ही किसी अन्य भाषा की परम्परा...Read more !

जीवनी – जीवनी क्या हैं? जीवनी के भेद, अंतर और उदाहरण

जीवनी किसी व्यक्ति के जीवन का चरित्र चित्रण करना अर्थात किसी व्यक्ति विशेष के सम्पूर्ण जीवन वृतांत को जीवनी कहते है। जीवनी का अंग्रेजी अर्थ “बायोग्राफी” है। जीवनी में व्यक्ति विशेष...Read more !

नयी कविता – जन्म, कवि, विशेषताएं – नयी कविता काव्य धारा

नयी कविता नयी कविता (1951 ई० से…): यों तो ‘नयी कविता’ के प्रारंभ को लेकर विद्वानों में विवाद है, लेकिन ‘दूसरे सप्तक‘ के प्रकाशन वर्ष 1951 ई०से नयी कविता’ का...Read more !

करण कारक (से) – तृतीया विभक्ति – संस्कृत, हिन्दी

करण कारक परिभाषा जिसकी सहायता से कोई कार्य किया जाए, उसे करण कारक कहते हैं। इसके विभक्ति-चिह्न ‘से’ के ‘द्वारा’ है। अथवा – वह साधन जिससे क्रिया होती है, वह...Read more !