दृश्य काव्य (Drishya Kavya)

Drishya Kavya

जिस काव्य या साहित्य को आँखों से देखकर, प्रत्यक्ष दृश्यों का अवलोकन कर रस भाव की अनुभूति की जाती है, उसे दृश्य काव्य (Drishya Kavya) कहा जाता है। इस आधार पर दृश्य काव्य की अवस्थिति मंच और मंचीय होती है।

दृश्य काव्य के भेद

दृश्य काव्य को दो भेदों में विभक्त किया जाता है-

  1. रूपक
  2. उपरूपक

1. रूपक काव्य

रूपक की परिभाषा देते हुए कहा गया है ‘तदूपारोपात तु रूपम्।‘ वस्तु, नेता तथा रस के तारतम्य वैभिन्य और वैविध्य के आधार पर रूपक के निम्न दस भेद भारतीय आचार्यों ने स्वीकार किए हैं- नाटक, प्रकरण, भाषा, प्रहसन, डिम, व्यायोग, समवकार, वीथी, अंक और ईहामृग

रूपक के इन भेदों में से नाटक भी एक है। परन्तु प्रायः नाटक को ही रूपक की संज्ञा भी दी जाती है। नाट्यशास्त्र में भी रूपक के लिए नाटक शब्द प्रयोग हुआ है।

अग्नि पुराण में दृश्य काव्य या रूपक के 28 भेद कहे गए हैं- नाटक, प्रकरण, डिम, ईहामृग, समवकार, प्रहसन, व्यायोग, भाव, विथी, अंक, त्रोटक, नाटिका, सदृक, शिल्पक, विलासीका, दुर्मल्लिका, प्रस्थान, भाणिक, भाणी, गोष्ठी, हल्लीशका, काव्य, श्रीनिगदित, नाट्यरूपक, रासक, उल्लाव्यक और प्रेक्षण।

2. उपरूपक काव्य

अग्नि पुराण में उपरूपक के 18 भेद कहे गए हैं- नाटिका, त्रोटक, गोष्ठी, सदृक, नाट्यरासक, प्रस्थान, उल्लासटय, काव्य, प्रेक्षणा, रासक, संलापक,श्रीगदित, शिंपल, विलासीका, दुर्मल्लिका, परकणिका, हल्लीशा और भणिका।

कुछ विद्वान इसके अंतर्गत गद्य, पद्य और चंपू को इसमें शामिल करते हैं।

Related Posts

प्रमुख दर्शन और उनके प्रवर्तक – Darshan & Pravartak

Darshan दर्शन (Philosophy): दर्शन उस विधा को कहा जाता है जिसके द्वारा तत्व का साक्षात्कार हो सके, दर्शन का अर्थ है तत्व का साक्षात्कार; मानव के दुखों की निवृति के...Read more !

क्रिया विशेषण – संस्कृत व्याकरण

परिभाषा सरल शब्दों में क्रियाविशेषण वे शब्द होते हैं जो क्रिया की विशेषता वाताएँ क्रियाविशेषण शब्द कहलाते हैं । जैसे – वह बहुत तेज दौड़ता है। इस वाक्य दौड़ना क्रिया...Read more !

बोली, उपभाषा और भाषा – अंतर एवं परिभाषा

बोली, उपभाषा और भाषा बोली- किसी छोटे क्षेत्र में स्थानीय व्यवहार में प्रयुक्त होने वाली भाषा का वह अल्पविकसित रूप बोली कहलाता है, जिसका कोई लिखित रूप अथवा साहित्य नहीं...Read more !

नागरी प्रचारिणी सभा – काशी

काशी नागरी प्रचारिणी सभा, हिन्दी भाषा और साहित्य तथा देवनागरी लिपि की उन्नति तथा प्रचार और प्रसार करनेवाली भारत की अग्रणी संस्था है। सभा की स्थापना 16 जुलाई, 1893 ई....Read more !

Insects meaning and name in Hindi, Sanskrit and English – 52 Kide (Insect) Ke Naam

Insects name in Hindi, Sanskrit and English In this chapter you will know the names of Insect in Hindi, Sanskrit and English. We are going to discuss Insects name’s List &...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published.