रिपोर्ताज और रिपोर्ताज कार – लेखक और रचनाएँ, हिन्दी

RIPORTAJ AUR RIPORTAJ KAR - HINDI

हिन्दी के रिपोर्ताज और रिपोर्ताज कार

हिन्दी का प्रथम रिपोर्ताज “लक्ष्मीपुरा (1938 ई.)” है। जिसके लेखक शिवदान सिंह चौहान हैं। हिन्दी साहित्य की अनेक गद्य विधाओं की तुलना में रिपोर्ताज अपेक्षाकृत नई विधा है। जिसका प्रादुर्भाव द्वितीय विश्व युद्ध (1936 ई.) से स्वीकार किया जाता है।

हिंदी की प्रमुख रिपोर्ताज और रिपोर्ताजकार एवं उनके लेखक की सूची निम्नलिखित है-

रिपोर्ताज और रिपोर्ताज कार

क्रम रिपोर्ताज (प्रकाशन वर्ष) लेखक (रिपोर्ताजकार)
1. लक्ष्मीपुरा (1938 ई ‘रूपाभ’ पत्रिका में प्रकाशित होने वाली रिपोर्ट) शिवदान सिंह चौहान
2. तूफानों के बीच (1946 ई., ‘हंस’ पत्रिका में बंगाल के अकाल से संबंधित रिपोट का पुस्तकाकार संकलन) रांगेय राघव
3. देश की मिट्टी बुलाती है। भदंत आनंद कौसल्यायन
4. प्लाट का मोर्चा (1952 ई.) शमशेर बहादुर सिंह
5. क्षण बोले कण मुस्काए (1953 ई.) कन्हैयालाल मिश्र ‘प्रभाकर’
6. वे लड़ेगे हजारों साल (1966 ई.) शिव सागर मिश्र
7. युद्ध यात्रा (1972 ई.) धर्मवीर भारती
8. जुलूस रूका है (1977 ई.) विवेकी राय
9. ऋण जल धन जल (1977 ई.), नेपाली क्रांति कथा (1978 ई.), श्रुत-अश्रुत पूर्व (1984 ई.) फणीश्वरनाथ रेणु

देखें अन्य महत्वपूर्ण विधाओ के रचनाकार और रचनाएँ (लेखक और रचनाएँ)

उपन्यास-उपन्यासकार, कहानी-कहानीकार, नाटक-नाटककार, एकांकी-एकांकीकार, आलोचना-आलोचक, निबंध-निबंधकार, आत्मकथा-आत्मकथाकार, जीवनी-जीवनीकार, संस्मरण-संस्मरणकार, रेखाचित्र-रेखाचित्रकार, यात्राव्रतांत-यात्राव्रतांतकार, रिपोर्ताज-रचनाकार

Related Posts

छायावादी युग – छायावाद के कवि और उनकी रचनाएँ, रचना एवं रचनाकार

छायावादी युग (1918 ई०-1936 ई०) हिंदी साहित्य के इतिहास में छायावाद के वास्तविक अर्थ को लेकर विद्वानों में विभिन्न मतभेद है। छायावाद का अर्थ मुकुटधर पांडे ने “रहस्यवाद, सुशील कुमार...Read more !

Hindi Bhasha – हिंदी भाषा एवं हिंदी शब्द की व्युत्पत्ति, विकास, अर्थ

हिंदी भाषा हिन्दी विश्व की एक प्रमुख भाषा है एवं भारत की राजभाषा है। केन्द्रीय स्तर पर भारत में दूसरी आधिकारिक भाषा अंग्रेज़ी है। हिन्दी भारत की राष्ट्रभाषा नहीं है...Read more !

हरियाणी बोली – Haryanvi Boli व खड़ी बोली में अंतर

हरियाणी बोली हरियाणी (Haryanvi Boli)– यह हिन्दी भाषा दिल्ली, करनाल, रोहतक, हिसार, पटियाला, नामा, जींद, पूर्वी हिसार आदि प्रदेशों में बोली जाती है। इस पर पंजाबी और राजस्थानी का पर्याप्त...Read more !

प्रमुख संप्रदाय / वाद एवं उनके प्रवर्तक – Sampraday Vad Pravartak

संप्रदाय या वाद एक ही वर्ग या धर्म की अलग-अलग विचारधारा मानने वालों को सम्प्रदाय कहते है। सम्प्रदाय कई प्रकार के होते हैं। जैसे धर्मो के संप्रदाय हिंदू, बौद्ध, ईसाई,...Read more !

Flowers name in Hindi (Phoolon Ke Naam), Sanskrit and English – With Chart

Flowers (Flower) name in Hindi, Sanskrit and English In this chapter you will know the names of Flower (Flower) in Hindi, Sanskrit and English. We are going to discuss Flowers name’s...Read more !