आलोचना और आलोचक – लेखक, ग्रंथ और रचनाएँ, हिन्दी

ALOCHANA AUR ALOCHAK- HINDI

हिन्दी की आलोचना और आलोचक

हिंदी का प्रथम आलोचना ग्रंथ भारतेंदु हरिश्चन्द्र ने नाटक लिखा है। आलोचना के लिए अंग्रेजी में जिस ‘क्रिटिसिज्मशब्द का प्रयोग होता है, उसका अर्थ है जिसकी सहायता से किसी रचना का आकलन किया जाता है। आलोचना शब्द लुच् धातु से बना है और इस दृष्टि से इसका अर्थ है देखना। किसी कृति को भली प्रकार देखकर उसके गुण-दोषों का विवेचन करना आलोचना का कार्य है।  हिन्दी में रामचन्द्र शुक्ल को सर्वश्रेष्ठ आलोचक माना जाता है।

हिन्दी की आलोचना और आलोचक की प्रमुख लेखकों और रचनाओं की लिस्ट-

आलोचना और आलोचक

क्रम आलोचना आलोचक
1. नाटक भारतेन्दु
2. शिवसिंह सरोज शिवसिंह सेंगर
3. बिहारी सतसई की भूमिका पद्मसिंह शर्मा
4. देव और बिहारी कृष्ण बिहारी मिश्र
5. सिद्धांत और अध्ययन, काव्य के रूप, नवरस बाबू गुलाबराय
6. साहित्यालोचन, रूपक रहस्य, भाषा रहस्य श्यामसुंदर दास
7. काव्य में रहस्यवाद, रस मीमांसा, गोस्वामी तुलसीदास, भ्रमरगीत-सार, जायसी ग्रंथावली की भूमिका रामचंद्र शुक्ल
8. रवींद्र कविता कानन, पंत और पल्लव निराला
9. गद्यपथ, शिल्प और दर्शन, छायावादः पुनर्मूल्यांकन पंत
10. साहित्य समालोचना रामकुमार वर्मा
11. नया साहित्य नए प्रश्न, प्रकीर्णिका, कवि निराला नंददुलारे वाजपेयी
12. कबीर, सूर साहित्य, हिंदी साहित्य की भूमिका, हिंदी साहित्य का आदिकाल हजारी प्रसाद द्विवेदी
13. नई कविता : सीमाएँ और संभावनाएँ गिरिजा कुमार माथुर
14. निराला की साहित्य साधना (तीन भाग), भारतेंदु हरिश्चंद्र, भारतेंदु युग और हिंदी भाषा की विकास परंपरा, भाषा और समाज, महावीर प्रसाद द्विवेदी और हिंदी नवजागरण, आचार्य शुक्ल, लोकजागरण और हिंदी साहित्य, नई कविता और अस्तित्ववाद रामविलास शर्मा
15. सुमित्रानंदन पंत, साकेत : एक अध्ययन, रस-सिद्धांत, विचार और अनुभूति, रीतिकाव्य की भूमिका, देव और उनकी कविता, मिथक और साहित्य, भारतीय समीक्षा और आचार्य शुक्ल की काव्य-दृष्टि डॉ० नगेंद्र
16. छायावाद का पतन, साहित्य चिता, आधुनिक समीक्षा डॉ० देवराज उपाध्याय
17. त्रिशंकु, आत्मनेपद, अद्यतन, संवत्सर, स्मृति-लेखा, चौथा सप्तक, केंद्र और परिधि, पुष्करिणी, जोग लिखि, सर्जना और संदर्भ अज्ञेय
18. कविता के नए प्रतिमान, छायावाद, वाद-विवाद-संवाद, इतिहास और आलोचना, कहानी और नई कहानी नामवर सिंह
19. शमशेर की काव्यानुभूति की बनावट, लघुमानव के बहाने हिंदी कविता पर एक बहस, जायसी विजदेव नारायण साही
20. मध्ययुगीन हिंदी काव्य-भाषा, अज्ञेयः आधुनिक रचना की समस्या, भाषा और संवेदना रामस्वरूप चतुर्वेदी
21. नई कविता के प्रतिमान, नये प्रतिमान पुराने निकष लक्ष्मीकांत वर्मा
22. नई कविताः स्वरूप और समस्याएँ जगदीश गुप्त
23. मानव मूल्य और साहित्य धर्मवीर भारती
24. आधुनिकता के पहलू विपिन कुमार अग्रवाल
25. कविता से साक्षात्कार मलयज
26. फिलहाल, कुछ पूर्वग्रह अशोक वाजपेयी
27. शब्द और स्मृति निर्मल वर्मा
28. नई कविता का आत्मसंघर्ष ‘मुक्तिबोध’
29. अधूरे साक्षात्कार नेमिचंद्र जैन
30. प्रगतिवाद, हिंदी साहित्य के असी वर्ष, साहित्यानुशीलन, साहित्य की परख शिवदान सिंह चौहान
31. हिंदी आलोचना के बीज शब्द, साहित्य का समाजशास्त्र और रूपवाद, आधुनिक हिंदी साहित्य का इतिहास डॉ० बच्चन सिंह

महत्वपूर्ण विधाओं के रचनाकार और रचनाएँ (लेखक और रचनाएँ)

उपन्यास-उपन्यासकार, कहानी-कहानीकार, नाटक-नाटककार, एकांकी-एकांकीकार, आलोचना-आलोचक, निबंध-निबंधकार, आत्मकथा-आत्मकथाकार, जीवनी-जीवनीकार, संस्मरण-संस्मरणकार, रेखाचित्र-रेखाचित्रकार, यात्राव्रतांत-यात्राव्रतांतकार, रिपोर्ताज-रचनाकार

You may like these posts

Colours (Color) name in Hindi (Rango Ke Naam), Sanskrit and English

Colours (Color) name in Hindi, Sanskrit and English In this chapter you will know the names of Colour (Color) in Hindi, Sanskrit and English. We are going to discuss Colours name’s...Read more !

प्रश्नवाचक क्रियाविशेषण – परिभाषा, उदाहरण, भेद एवं अर्थ

परिभाषा प्रश्न वाचक क्रियाविशेषण वे शब्द होते हैं जिनकी सहायता से हम प्रश्न करते है या जिनके योग से प्रश्न किए जाए प्रश्नवाचक क्रियाविशेषण कहलाते है। उदाहरण कदा, अथ् किम्...Read more !

कन्नौजी – कन्नौजी भाषा – कन्नौजी बोली, वर्ग, कन्नौज, उत्तर प्रदेश

कन्नौजी कन्नौजी– यह कन्नौज प्रदेश की भाषा है। इसका क्षेत्र अत्यन्त सीमित है। यह कानपुर, पीलीभीत, शाहजहाँपुर, हरदोई आदि प्रदेशों में बोली जाती है। पश्चिम में यह ब्रज की सीमाओं...Read more !