रेखाचित्र और रेखाचित्रकार – लेखक और रचनाएँ, हिन्दी

REKHACHITRA AUR REKHACHITRA KAR - HINDI

हिन्दी के रेखाचित्र और रेखा-चित्रकार

हिन्दी का प्रथम रेखाचित्र “पद्म पराग” है, तथा इसके रचनाकार “पद्म सिंह शर्मा” हैं। वह चित्र या आकृति जिसमें मात्र रेखाओं का प्रयोग किया गया हो रेखाचित्र कहलाता है। थोड़े शब्दों में प्रस्तुत वह वर्णन जिसमें वर्ण संबंधी समग्र विशेषताएँ सुस्पष्ट हों। हिन्दी साहित्य में रेखाचित्र या ‘आरेखण’ (ड्राइंग) एक दृश्य कला है जो द्वि-आयामी साधन को चिह्नित करने के लिए किसी भी तरह के रेखाचित्र उपकरणों का उपयोग करता है।

रेखाचित्र और रेखा-चित्रकार

क्रम रेखाचित्र (प्रकाशन वर्ष) रेखा-चित्रकार
1. पद्म पराग (1929 ई.) पद्म सिंह शर्मा
2. बोलती प्रतिमा (1937 ई.) श्रीराम शर्मा
3. शब्द-चित्र एवं रेखा-चित्र (1940 ई.), पुरानी स्मृतियाँ और नये स्केच (1947 ई.) प्रकाशचंद्र गुप्त
4. अतीत के चलचित्र (1941 ई.), स्मृति की रेखाएँ (1947 ई.) महादेवी वर्मा
5. जो न भूल सका (1945 ई.) भदन्त आनंद कौसल्यायन
6. माटी की मूरतें (1946 ई.), गेहूँ और गुलाब (1950 ई.) रामवृक्ष बेनीपुरी
7. रेखाएँ बोल उठीं (1949 ई.) देवेंद्र सत्यार्थी
8. अमिट रेखाएँ (1951 ई.) सत्यवती मल्लिक
9. रेखाचित्र (1952 ई.) बनारसी दास चतुर्वेदी
10. रेखा और रंग (1955 ई.) विनय मोहन शर्मा
11. रेखाएँ और चित्र (1955 ई.) उपेन्द्र नाथ अश्क
12. स्मृति कण (1959 ई.) सेठ गोविन्द दास
13. रेखा चित्र (1959 ई.) प्रेम नारायण टण्डन
14. दस तस्वीरें (1963 ई.) जगदीश चंद्र माथुर
15. बाबूराव विष्णु पराड़कर रामनाथ सुमन
16. वे दिन वे लोग (1965 ई.) शिवपूजन सहाय
17. कुछ शब्द : कुछ रेखाएँ (1965 ई.) विष्णु प्रभाकर
18. मेरी कौन सुनेगा महावीर त्यागी
19. हम हशमत (1977 ई.) कृष्णा सोबती
20. आदमी से आदमी तक (1982 ई.) भीमसेन त्यागी
21. विराम चिह्न (1985 ई.) राम विलास शर्मा

महत्वपूर्ण विधाओं के रचनाकार और रचनाएँ (लेखक और रचनाएँ)

उपन्यास-उपन्यासकार, कहानी-कहानीकार, नाटक-नाटककार, एकांकी-एकांकीकार, आलोचना-आलोचक, निबंध-निबंधकार, आत्मकथा-आत्मकथाकार, जीवनी-जीवनीकार, संस्मरण-संस्मरणकार, रेखाचित्र-रेखाचित्रकार, यात्राव्रतांत-यात्राव्रतांतकार, रिपोर्ताज-रचनाकार

Related Posts

डायरी – डायरी क्या है? डायरी का अर्थ, अंतर और उदाहरण

डायरी डायरी लेखन व्यक्ति के द्वारा अपने अभुभवों, सोच और भावनाओं को लिखित रूप में अंकित करके बनाया गया एक संग्रह है। विश्व में हुए महान व्यक्ति डायरी लेखन का कार्य...Read more !

हिन्दी साहित्य – काल विभाजन, वर्गीकरण, नामकरण और इतिहास

हिन्दी साहित्य (Hindi Sahitya) ने अपनी शुरुआत लोकभाषा कविता के माध्यम से की और गद्य का विकास बहुत बाद में हुआ। हिन्दी का आरम्भिक साहित्य अपभ्रंश में मिलता है। हिन्दी भारत और...Read more !

नाटक – नाटक क्या है? नाटक के अंग, तत्व, परिभाषा और उदाहरण

नाटक नाटक काव्य का एक रूप है, अर्थात जो रचना केवल श्रवण द्वारा ही नहीं, अपितु दृष्टि द्वारा भी दर्शकों के हृदय में रसानुभूति कराती है उसे नाटक कहते हैं।...Read more !

भक्ति काल (पूर्व मध्यकाल) – भक्तिकालीन हिंदी साहित्य का इतिहास

भक्ति काल पूर्व मध्यकाल हिंदी साहित्य या भक्ति काल (1350 ई० – 1650 ई०): Bhaktikalin Hindi Sahitya का समयकाल 1350 ई० से 1650 ई० के मध्य माना जाता है। भक्ति...Read more !

रीति काल – उत्तर मध्य काल – रीतिकालीन हिंदी साहित्य का इतिहास

रीतिकाल या मध्यकालीन साहित्य रीतिकाल साहित्य (Reetikaal Hindi Sahitya) का समयकाल 1650 ई० से 1850 ई० तक माना जाता है।  नामांकरण की दृष्टि से उत्तर-मध्यकाल हिंदी साहित्य के इतिहास में विवादास्पद...Read more !