नञ् समास – Na/Nav Tatpurush/Bahubrihi Samas – संस्कृत, हिन्दी

Na, Nav Tatpurush, Bahubrihi Samas

नञ् समास की परिभाषा

नञ् (न) का सुबन्त के साथ समास ‘नञ् समास‘ कहलाता है। यदि उत्तर पद का
अर्थ प्रधान हो तो ‘नञ् तत्पुरुष‘ और यदि अन्य पद की प्रधानता हो तो ‘नञ् बहुव्रीहि समास‘  होता है। जैसे— अमोधः = न मोघः – नञ् तत्पुरुष, अपुत्रः = न पुत्रः यस्य सः – नञ् बहुव्रीहि।

नञ् समास के उदाहरण

‘न’ के बाद यदि व्यंजन वर्ण हो तो न का ‘अ’ और स्वर वर्ण रहे तो ‘अन’
हुआ करता है। जैसे-

  • न स्वस्थः = अस्वस्थः । (व्यंजन रहने के कारण ‘अ’ हुआ ।)
  • न सिद्धः = असिद्धः । (व्यंजन रहने के कारण ‘अ’ हुआ ।)
  • न ब्राह्मणः = अब्राह्मणः । (व्यंजन रहने के कारण ‘अ’ हुआ ।)
  • न अश्वः = अनश्वः । (स्वर रहने के कारण ‘अन्’ हुआ।)
  • न ईश्वरः = अनीश्वरः । (स्वर रहने के कारण ‘अन्’ हुआ।)
  • न भगतः = अनागतः । (स्वर रहने के कारण ‘अन्’ हुआ।)
  • न अर्थः = अनर्थः । (स्वर रहने के कारण ‘अन्’ हुआ।)

कुछ नञ् समास में ‘न’ अपने वास्तविक रूप में ही रह जाता है। जैसे-

  • न आस्तिकः = नास्तिकः न गच्छति = नगः
  • न क्षरति = नक्षत्रम्
  • न स्त्रीन् पुमान् च = नपुंसकम्
  • न धर्मः = अधर्मः।
  • न योग्यः = अयोग्यः ।
  • न अन्तः = अनन्तः
  • न उपकारः = अनुपकारः

Samas in SanskritSamas in Hindi
Sanskrit Vyakaran में शब्द रूप देखने के लिए Shabd Roop पर क्लिक करें और धातु रूप देखने के लिए Dhatu Roop पर जायें।

Related Posts

जीवन परिचय – कवि एवं लेखकों के जीवन परिचय – जीवनी

जीवन परिचय किसी व्यक्ति विशेष के जीवन वृतांत को जीवनी कहते हैं। जीवनी का अंग्रेजी पर्याय “बायोग्राफी” है , हिंदी में इसे जीवन चरित्र कहते हैं। जीवनी क्या होता है?...Read more !

कन्नौजी – भाषा, बोली, वर्ग – कन्नौज, उत्तर प्रदेश

कन्नौजी कन्नौजी-यह कन्नौज प्रदेश की भाषा है। इसका क्षेत्र अत्यन्त सीमित है। यह कानपुर, पीलीभीत, शाहजहाँपुर, हरदोई आदि प्रदेशों में बोली जाती है। पश्चिम में यह ब्रज की सीमाओं का...Read more !

कारणमाला अलंकार – कारणमालालंकारः – KARAN MALA – ALANKAR

कारणमाला अलंकार (कारणमालालंकारः) परिभाषा: ‘यथोत्तरं चेत्पूर्वस्य पूर्वस्यार्थस्य हेतुता। तदा कारणमाला स्यात्’ – जहाँ अगले-अगले अर्थ के पहले-पहले अर्थ हेतु हों, वहाँ कारणमालालंकार होता है। (यह अलंकार, हिन्दी व्याकरण(Hindi Grammar) के...Read more !

वर्णों का उच्चारण स्थान : हिन्दी, संस्कृत व्याकरण

उच्चारण स्थान तालिका uccharan sthan ki list मुख के अंदर स्थान-स्थान पर हवा को दबाने से भिन्न-भिन्न वर्णों का उच्चारण होता है । मुख के अंदर पाँच विभाग हैं, जिनको...Read more !

स्वतंत्रता-संग्राम के दौरान हिन्दी का राष्ट्रभाषा के रूप में विकास

स्वतंत्रता संग्राम के दौरान हिन्दी का राष्ट्रभाषा के रूप में विकास राष्ट्रभाषा (National Language) क्या है? राष्ट्रभाषा का शाब्दिक अर्थ है–समस्त राष्ट्र में प्रयुक्त भाषा अर्थात् आम जन की भाषा...Read more !