गुण संधि – आद्गुणः – Gun Sandhi, Sanskrit Vyakaran

Gun Sandhi

गुण संधि

गुण संधि का सूत्र आद्गुण: होता है। यह संधि स्वर संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में स्वर संधियां आठ प्रकार की होती है। दीर्घ संधि, गुण संधि, वृद्धि संधि, यण् संधि, अयादि संधि, पूर्वरूप संधि, पररूप संधि, प्रकृति भाव संधि। इस पृष्ठ पर हम गुण संधि का अध्ययन करेंगे !

गुण संधि के चार नियम होते हैं!

अ, आ के आगे इ, ई हो तो ; उ, ऊ हो तो तथा हो तो अर् हो जाता है। इसे गुण-संधि कहते हैं। जैसे –

नियम 1.

  • अ + इ = ए ; नर + इंद्र = नरेंद्र
  • अ + ई = ए ; नर + ईश= नरेश
  • आ + इ = ए ; महा + इंद्र = महेंद्र
  • आ + ई = ए ; महा + ईश = महेश

नियम 2.

  • अ + उ = ओ ; ज्ञान + उपदेश = ज्ञानोपदेश
  • आ + उ = ओ ; महा + उत्सव = महोत्सव
  • अ + ऊ = ओ ; जल + ऊर्मि = जलोर्मि
  • आ + ऊ = ओ ; महा + ऊर्मि = महोर्मि

नियम 3.

  • अ + ऋ = अर् ; देव + ऋषि = देवर्षि

नियम 4.

  • आ + ऋ = अर् ; महा + ऋषि = महर्षि

महत्वपूर्ण संधि

  1. स्वर संधि – अच् संधि
    1. दीर्घ संधि – अक: सवर्णे दीर्घ:
    2. गुण संधि – आद्गुण:
    3. वृद्धि संधि – ब्रध्दिरेचि
    4. यण् संधि – इकोऽयणचि
    5. अयादि संधि – एचोऽयवायाव:
    6. पूर्वरूप संधि – एडः पदान्तादति
    7. पररूप संधि – एडि पररूपम्
    8. प्रकृति भाव संधि – ईदूद्विवचनम् प्रग्रह्यम्
  2. व्यंजन संधि – हल् संधि
  3. विसर्ग संधि

Related Posts

उत्प्रेक्षा अलंकार – Utpreksha Alankar परिभाषा उदाहरण अर्थ हिन्दी एवं संस्कृत

उत्प्रेक्षा अलंकार जहाँ पर उपमान के न होने पर उपमेय को ही उपमान मान लिया जाए। अथार्त जहाँ पर अप्रस्तुत को प्रस्तुत मान लिया जाए वहाँ पर उत्प्रेक्षा अलंकार होता...Read more !

संस्कृत रस – Ras in Sanskrit, काव्य सौंदर्य – संस्कृत व्याकरण

Ras in Sanskrit ‘स्यत आस्वाद्यते इति रसः‘- अर्थात जिसका आस्वादन किया जाय, सराह-सराहकर चखा जाय, ‘रस‘ कहलाता है। कहने का मतलब कि किसी दृश्य या अदृश्य बात को देखने, सुनने,...Read more !

सरीसृप जीव जन्तुओ के नाम, शब्द हिन्दी, संस्कृत और अङ्ग्रेज़ी में – Sarisrip Jeevon Ke Naam – List and Table

सरीसृप जीव जन्तुओ के नाम, शब्द: इस प्रष्ठ में सरीसृप जीव जन्तुओ के नाम(शब्द) और उनके बारे में हिन्दी, संस्कृत और अङ्ग्रेज़ी में जानकारी दी जाएगी। साँप, छिपकली, कछुआ को...Read more !

क्रिया विशेषण – संस्कृत व्याकरण

परिभाषा सरल शब्दों में क्रियाविशेषण वे शब्द होते हैं जो क्रिया की विशेषता वाताएँ क्रियाविशेषण शब्द कहलाते हैं । जैसे – वह बहुत तेज दौड़ता है। इस वाक्य दौड़ना क्रिया...Read more !

वैदिक संस्कृत – वैदिक संस्कृत की विशेषताएं, वैदिक व्याकरण संस्कृत

वैदिक संस्कृत वैदिक संस्कृत (2000 ई.पू. से 800 ई.पू. तक) प्राचीन भारतीय आर्य भाषा का प्राचीनतम नमूना वैदिक-साहित्य में दिखाई देता है। वैदिक साहित्य का सृजन वैदिक संस्कृत में हुआ...Read more !