स्वर संधि – अच् संधि, परिभाषा, उदाहरण, प्रकार और नियम – Swar Sandhi, Sanskrit Vyakaran

स्वर संधि (अच् संधि) दो स्वरों के मेल से होने वाले विकार (परिवर्तन) को स्वर-संधि कहते हैं। स्वर संधि को अच् संधि भी कहते हैं। उदाहरण – हिम+आलय= हिमालय, अत्र...Read more !

दीर्घ संधि – अकः सवर्णे दीर्घः – Deergh Sandhi, Sanskrit Vyakaran

दीर्घ स्वर संधि दीर्घ संधि का सूत्र अक: सवर्णे दीर्घ: होता है। यह संधि स्वर संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में स्वर संधियां आठ प्रकार की होती...Read more !

वृद्धि संधि – ब्रध्दिरेचि – Vriddhi Sandhi, Sanskrit Vyakaran

वृद्धि संधि वृद्धि संधि का सूत्र ब्रध्दिरेचि होता है। यह संधि स्वर संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में स्वर संधियां आठ प्रकार की होती है। दीर्घ संधि,...Read more !

अयादि संधि – एचोऽयवायावः – Ayadi Sandhi, Sanskrit Vyakaran

अयादि संधि अयादि संधि का सूत्र एचोऽयवायाव: होता है। यह संधि स्वर संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में स्वर संधियां आठ प्रकार की होती है। दीर्घ संधि,...Read more !

पूर्वरूप संधि – एडः पदान्तादति – Poorvroop Sandhi, Sanskrit Vyakaran

पूर्वरूप संधि पूर्वरूप संधि का सूत्र एडः पदान्तादति होता है। यह संधि स्वर संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में स्वर संधियां आठ प्रकार की होती है। दीर्घ...Read more !

प्रकृति भाव संधि – ईदूद्विवचनम् प्रग्रह्यम् – Prakriti Bhava Sandhi, Sanskrit Vyakaran

प्रकृति भाव संधि प्रकृति भाव संधि का सूत्र ईदूद्विवचनम् प्रग्रह्यम् होता है। यह संधि स्वर संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में स्वर संधियां आठ प्रकार की होती है।...Read more !