रीतिवाचक क्रियाविशेषण – परिभाषा, उदाहरण, भेद एवं अर्थ

परिभाषा

रीति वाचक क्रियाविशेषण वे होते हैं जो क्रिया विशेषण शब्द क्रिया के घटित होने की तरीके या रीति से सम्बंधित विशेषता का ज्ञान करवाते है, उन्हें रीतिवाचक क्रियाविशेषण कहते है ।

उदाहरण

शनै: –  धीरे,  पुन:/ भूय:/ मुहु: –  फ़िर,  यथा – जैसे,  तथा – वैसे आदि रीतिवाचक क्रियाविशेषण के उदाहरण हैं।

कुछ रीति वाचक क्रियाविशेषण एवं अर्थ

रीतिवाचक क्रियाविशेषण अर्थ
शनै: धीरे
पुन:/
भूय:/ मुहु:
फ़िर
यथा जैसे
तथा वैसे
सहसा /
अकस्मात्
अचानक
सम्यक् ठीक से
असक्रत बार-बार
कथञ्चित् /
कथञ्चन
किसी प्रकार
अजस्रम् लगातार
इत्यम् इस प्रकार
एवम् इस प्रकार

You may like these posts

संस्कृत के पर्यायवाची शब्द – Paryayvachi Shabd in Sanskrit

संस्कृत पर्यायवाची शब्द किसी शब्द के लिए प्रयोग किए गए समानार्थक शब्दों को पर्यायवाची शब्द कहते हैं। यद्यपि पर्यायवाची शब्द समानार्थी होते हैं परंतु भाव में एक-दूसरे से थोड़े अलग...Read more !

रेखाचित्र – रेखाचित्र क्या है? रेखाचित्र का अर्थ, तत्व या अंग और उदाहरण

रेखाचित्र हिन्दी में रेखाचित्र के पर्याय रूप में व्यक्ति चित्र, शब्द चित्र, शब्दांकन आदि शब्दों का प्रयोग भी होता है, परन्तु प्रायः विद्वान् इस विधा को रेखाचित्र नाम से अभिहित...Read more !

Sanskrit translation – Learn, how to translate a sentence from Hindi to Sanskrit?

Translation of simple sentences of Sanskrit language into Hindi अनुवाद हेतु भाषा, शब्द तथा व्याकरण के ज्ञान की आवश्यकता किसी भी भाषा का ज्ञान होना, उस व्यक्ति के ज्ञान संग्रह...Read more !