रीतिवाचक क्रियाविशेषण – परिभाषा, उदाहरण, भेद एवं अर्थ

परिभाषा

रीति वाचक क्रियाविशेषण वे होते हैं जो क्रिया विशेषण शब्द क्रिया के घटित होने की तरीके या रीति से सम्बंधित विशेषता का ज्ञान करवाते है, उन्हें रीतिवाचक क्रियाविशेषण कहते है ।

उदाहरण

शनै: –  धीरे,  पुन:/ भूय:/ मुहु: –  फ़िर,  यथा – जैसे,  तथा – वैसे आदि रीतिवाचक क्रियाविशेषण के उदाहरण हैं।

कुछ रीति वाचक क्रियाविशेषण एवं अर्थ

रीतिवाचक क्रियाविशेषण अर्थ
शनै: धीरे
पुन:/
भूय:/ मुहु:
फ़िर
यथा जैसे
तथा वैसे
सहसा /
अकस्मात्
अचानक
सम्यक् ठीक से
असक्रत बार-बार
कथञ्चित् /
कथञ्चन
किसी प्रकार
अजस्रम् लगातार
इत्यम् इस प्रकार
एवम् इस प्रकार

Related Posts

स्थानवाचक क्रियाविशेषण – परिभाषा, उदाहरण, भेद एवं अर्थ

परिभाषा स्थानवाचक क्रिया विशेषण वे होते हैं जो क्रिया के होने वाली जगह का बोध कराते है। अर्थात जहां क्रिया हो रही है उस जगह का ज्ञान कराने वाले शब्द...Read more !

Reptiles name in English, Hindi and Sanskrit – List and table

In this chapter you will know the names of Reptiles name in Hindi, Sanskrit and English. We are going to discuss Reptiles name’s List & Table in Hindi, Sanskrit &...Read more !

समोच्चरित शब्द एवं वाक्य प्रयोग – संस्कृत व्याकरण समोच्चरित शब्द

समोच्चरित शब्द ऐसे शब्द होते हैं जिनका उच्चारण प्रायः समान होता है, परन्तु उनके अर्थ में भिन्नता होती है, उन्हें समोच्चारित शब्द कहते हैं। स्वाभिमान और अभिमान लगभग दोनों समोच्चारित...Read more !

द्वन्द्व समास – परिभाषा, उदाहरण, सूत्र, अर्थ – संस्कृत, हिन्दी

द्वन्द्व समास की परिभाषा ‘दौ दो द्वन्द्वम्’-दो-दो की जोड़ी का नाम ‘द्वन्द्व है। ‘उभयपदार्थप्रधानो द्वन्द्ध:‘- जिस समास में दोनों पद अथवा सभी पदों की प्रधानता होती है। जैसे – द्वन्द्व...Read more !

स्वतंत्रता के बाद हिन्दी का राजभाषा के रूप में विकास

स्वतंत्रता या आजादी के बाद हिन्दी का राजभाषा के रूप में विकास  राजभाषा (Official Language) क्या है ? राजभाषा का शाब्दिक अर्थ है-राज-काज की भाषा । जो भाषा देश के...Read more !