सत्व संधि – Satv Sandhi, संस्कृत व्याकरण

Satv Sandhi

सत्व संधि

सत्व संधि का सूत्र विसर्जनीयस्य स: होता है। यह संधि विसर्ग संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में विसर्ग संधि प्रमुख रूप से चार प्रकार की होती है, सत्व संधि, उत्व् संधि, रुत्व् संधि, विसर्ग लोप संधि प्रमुख हैं। इस पृष्ठ पर हम सत्व संधि का अध्ययन करेंगे !

सत्व संधि के नियम

सत्व संधि (विसर्ग संधि) प्रमुख रूप से तीन प्रकार से बनाई जा सकती । जिनके उदाहरण व नियम इस प्रकार है –

नियम 1.

: + //

यदि विसर्ग (:) के बाद “च / छ / श” हो तो उसे “श” में बदल देते हैं। उदाहरण-

  • नि: + चल : = निश्चल :
  • क: + छल : =  कश्चौर:
  • राम : + चलति = रामश्चलति
  • दु : + शासति = दुश्शासन :

नियम 2.

: + क, ख, ट , ठ, प , फ = ष्

यदि विसर्ग (:) के बाद “क, ख, ट , ठ, प , फ” हो तो उसे “ष्” में बदल देते हैं। उदाहरण-

  • धनु : + तङ्कार : = धनुष्टन्कार:
  • नि : + कंटक : = निष्कन्टक:
  • राम : + टीकते = रामष्टीकते

नियम 3.

: + क / त = स्

यदि विसर्ग (:) के बाद “क / त” हो तो उसे “स्” में बदल देते हैं। उदाहरन-

  • नम : + कार : = नमस्कार :
  • नम : + ते = नमस्ते 
  • नम : + तरति = नमस्तरति 

You may like these posts

परिमाणवाचक क्रियाविशेषण – परिभाषा, उदाहरण, भेद एवं अर्थ

परिभाषा परिमाण वाचक क्रिया विशेषण वे होते हैं जिन क्रियाविशेषण शब्दों से क्रिया के परिमाण अथवा मात्रा से सम्बंधित विशेषता का ज्ञान हो, उन्हें परिमाण वाचक क्रिया विशेषण कहते है...Read more !

अव्ययीभाव समास – परिभाषा, उदाहरण, सूत्र, अर्थ – संस्कृत, हिन्दी

जिस समास में प्रथम पद अव्यय होता है और जिसका अर्थ प्रधान होता है उसे अव्ययीभाव समास कहते हैं। इसमें अव्यय पद का प्रारूप लिंग, वचन, कारक, में नहीं बदलता...Read more !

कर्म कारक (को) – द्वितीया विभक्ति – संस्कृत, हिन्दी

कर्म कारक परिभाषा वह वस्तु या व्यक्ति जिस पर वाक्य में की गयी क्रिया का प्रभाव पड़ता है वह कर्म कारक कहलाता है। कर्म कारक का विभक्ति चिन्ह ‘को’ होता...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *