सत्व संधि – Satv Sandhi, संस्कृत व्याकरण

Satv Sandhi

सत्व संधि

सत्व संधि का सूत्र विसर्जनीयस्य स: होता है। यह संधि विसर्ग संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में विसर्ग संधि प्रमुख रूप से चार प्रकार की होती है, सत्व संधि, उत्व् संधि, रुत्व् संधि, विसर्ग लोप संधि प्रमुख हैं। इस पृष्ठ पर हम सत्व संधि का अध्ययन करेंगे !

सत्व संधि के नियम

सत्व संधि (विसर्ग संधि) प्रमुख रूप से तीन प्रकार से बनाई जा सकती । जिनके उदाहरण व नियम इस प्रकार है –

नियम 1.

: + //

यदि विसर्ग (:) के बाद “च / छ / श” हो तो उसे “श” में बदल देते हैं। उदाहरण-

  • नि: + चल : = निश्चल :
  • क: + छल : =  कश्चौर:
  • राम : + चलति = रामश्चलति
  • दु : + शासति = दुश्शासन :

नियम 2.

: + क, ख, ट , ठ, प , फ = ष्

यदि विसर्ग (:) के बाद “क, ख, ट , ठ, प , फ” हो तो उसे “ष्” में बदल देते हैं। उदाहरण-

  • धनु : + तङ्कार : = धनुष्टन्कार:
  • नि : + कंटक : = निष्कन्टक:
  • राम : + टीकते = रामष्टीकते

नियम 3.

: + क / त = स्

यदि विसर्ग (:) के बाद “क / त” हो तो उसे “स्” में बदल देते हैं। उदाहरन-

  • नम : + कार : = नमस्कार :
  • नम : + ते = नमस्ते 
  • नम : + तरति = नमस्तरति 

Related Posts

सुबंत प्रकरण – संस्कृत में विभक्तियाँ और उनके नियम

सुबंत प्रकरण संज्ञा और संज्ञा सूचक शब्द सुबंत के अंतर्गत आते है। सुबंत प्रकरण को व्याकरण मे सात भागो मे बांटा गया है – नाम, संज्ञा पद, सर्वनाम पद, विशेषण...Read more !

तद्धित प्रत्यय (Taddhit Pratyay, तद्धितांत) – संस्कृत व्याकरण

तद्धित प्रत्यय (Taddhit Pratyay) तद्धित प्रत्यय की परिभाषा (Definition of Taddhit Pratyay) जो प्रत्यय धातुओं को छोड़कर अन्य सभी शब्दों (संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण आदि) के अंत में जोड़े जाते है,...Read more !

कर्म कारक (को) – द्वितीया विभक्ति – संस्कृत, हिन्दी

कर्म कारक परिभाषा वह वस्तु या व्यक्ति जिस पर वाक्य में की गयी क्रिया का प्रभाव पड़ता है वह कर्म कारक कहलाता है। कर्म कारक का विभक्ति चिन्ह ‘को’ होता...Read more !

उत्व् संधि – Utva Sandhi, संस्कृत व्याकरण

उत्व् संधि उत्व् संधि का सूत्र हशि च होता है। यह संधि विसर्ग संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में विसर्ग संधियां कई प्रकार की होती है। इनमें...Read more !

धातु रूप – (तिड्न्त प्रकरण) Dhatu Roop in Sanskrit, List, Table Trick

धातु रूप (Dhatu Roop, तिड्न्त प्रकरण) संस्कृत व्याकरण में क्रिया के मूल-रूप (तिड्न्त) को धातु (Verb) कहते हैं। धातुएँ ही संस्कृत भाषा में शब्दों के निर्माण अहम भूमिका निभाती हैं।...Read more !