यण् संधि – इकोऽयणचि – Yan Sandhi, Sanskrit Vyakaran

Yan Sandhi

यण् संधि

यण् संधि का सूत्र इकोऽयणचि होता है। यह संधि स्वर संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में स्वर संधियां आठ प्रकार की होती है। दीर्घ संधि, गुण संधि, वृद्धि संधि, यण् संधि, अयादि संधि, पूर्वरूप संधि, पररूप संधि, प्रकृति भाव संधि। इस पृष्ठ पर हम यण् संधि का अध्ययन करेंगे !

यण् संधि के चार नियम होते हैं!

नियम 1. इ, ई के आगे कोई विजातीय (असमान) स्वर होने पर इ ई को ‘य्’ हो जाता है।

  • इ + आ = य् –> अति + आचार: = अत्याचार:
  • इ + अ = य् + अ –> यदि + अपि = यद्यपि
  • ई + आ = य् + आ –> इति + आदि = इत्यादि।
  • ई + अ = य् + अ –> नदी + अर्पण = नद्यर्पण
  • ई + आ = य् + आ –> देवी + आगमन = देव्यागमन

नियम 2. उ, ऊ के आगे किसी विजातीय स्वर के आने पर उ ऊ को ‘व्’ हो जाता है।

  • उ + आ = व् –> सु + आगतम् = स्वागतम्
  • उ + अ = व् + अ –> अनु + अय = अन्वय
  • उ + आ = व् + आ –> सु + आगत = स्वागत
  • उ + ए = व् + ए –> अनु + एषण = अन्वेषण

नियम 3. ‘ऋ’ के आगे किसी विजातीय स्वर के आने पर ऋ को ‘र्’ हो जाता है। इन्हें यण-संधि कहते हैं।

  • ऋ + अ = र् + आ –> पितृ + आज्ञा = पित्राज्ञा

नियम 4. ‘ल्र’ के आगे किसी विजातीय स्वर के आने पर ऋ को ‘ल्’ हो जाता है। इन्हें यण-संधि कहते हैं।

  • ल्र + आ = ल् –> ल्र + आक्रति = लाक्रति

महत्वपूर्ण संधि

  1. स्वर संधि – अच् संधि
    1. दीर्घ संधि – अक: सवर्णे दीर्घ:
    2. गुण संधि – आद्गुण:
    3. वृद्धि संधि – ब्रध्दिरेचि
    4. यण् संधि – इकोऽयणचि
    5. अयादि संधि – एचोऽयवायाव:
    6. पूर्वरूप संधि – एडः पदान्तादति
    7. पररूप संधि – एडि पररूपम्
    8. प्रकृति भाव संधि – ईदूद्विवचनम् प्रग्रह्यम्
  2. व्यंजन संधि – हल् संधि
  3. विसर्ग संधि

Related Posts

उपमा अलंकार – Upma Alankar परिभाषा उदाहरण अर्थ हिन्दी एवं संस्कृत

उपमा अलंकार  उपमा शब्द का अर्थ होता है – तुलना।, जब किसी व्यक्ति या वस्तु की तुलना किसी दूसरे यक्ति या वस्तु से की जाए वहाँ पर उपमा अलंकार होता...Read more !

संस्कृत रस – Ras in Sanskrit, काव्य सौंदर्य – संस्कृत व्याकरण

Ras in Sanskrit ‘स्यत आस्वाद्यते इति रसः‘- अर्थात जिसका आस्वादन किया जाय, सराह-सराहकर चखा जाय, ‘रस‘ कहलाता है। कहने का मतलब कि किसी दृश्य या अदृश्य बात को देखने, सुनने,...Read more !

संस्कृत के पर्यायवाची शब्द – Paryayvachi Shabd in Sanskrit

संस्कृत पर्यायवाची शब्द किसी शब्द के लिए प्रयोग किए गए समानार्थक शब्दों को पर्यायवाची शब्द कहते हैं। यद्यपि पर्यायवाची शब्द समानार्थी होते हैं परंतु भाव में एक-दूसरे से थोड़े अलग...Read more !

अतिश्योक्ति अलंकार – Atisanyokti Alankar परिभाषा उदाहरण अर्थ हिन्दी एवं संस्कृत

अतिश्योक्ति अलंकार  परिभाषा- जहाँ किसी वस्तु का इतना बढ़ा-चढ़ाकर वर्णन किया जाए कि सामान्य लोक सीमा का उल्लंघन हो जाए वहाँ अतिशयोक्ति अलंकार होता है। अर्थात जब किसी व्यक्ति या वस्तु...Read more !

श्रुत्यानुप्रास अलंकार (Srutyanupras Alankar)

श्रुत्यानुप्रास अलंकार की परिभाषा जहाँ पर कानों को मधुर लगने वाले वर्णों की आवर्ती हो उसे श्रुत्यानुप्रास अलंकार कहते है। यह Alankar, शब्दालंकार के 6 भेदों में से Anupras Alankar...Read more !