वृद्धि संधि – ब्रध्दिरेचि – Vriddhi Sandhi, Sanskrit Vyakaran

Vriddhi Sandhi

वृद्धि संधि

वृद्धि संधि का सूत्र ब्रध्दिरेचि होता है। यह संधि स्वर संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में स्वर संधियां आठ प्रकार की होती है। दीर्घ संधि, गुण संधि, वृद्धि संधि, यण् संधि, अयादि संधि, पूर्वरूप संधि, पररूप संधि, प्रकृति भाव संधि। इस पृष्ठ पर हम वृद्धि संधि का अध्ययन करेंगे !

वृद्धि संधि के दो नियम होते हैं! 

अ, आ का ए, ऐ से मेल होने पर तथा अ, आ का ओ, औ से मेल होने पर हो जाता है। इसे वृद्धि संधि कहते हैं। जैसे –

नियम 1.

  • अ + ए = ऐ –> एक + एक = एकैक ;
  • अ + ऐ = ऐ –> मत + ऐक्य = मतैक्य
  • आ + ए = ऐ –> सदा + एव = सदैव
  • आ + ऐ = ऐ –> महा + ऐश्वर्य = महैश्वर्य

नियम 2.

  • अ + ओ = औ –> वन + औषधि = वनौषधि ;
  • आ + ओ = औ –> महा + औषधि = महौषधि ;
  • अ + औ = औ –> परम + औषध = परमौषध ;
  • आ + औ = औ –> महा + औषध = महौषध

महत्वपूर्ण संधि

  1. स्वर संधि – अच् संधि
    1. दीर्घ संधि – अक: सवर्णे दीर्घ:
    2. गुण संधि – आद्गुण:
    3. वृद्धि संधि – ब्रध्दिरेचि
    4. यण् संधि – इकोऽयणचि
    5. अयादि संधि – एचोऽयवायाव:
    6. पूर्वरूप संधि – एडः पदान्तादति
    7. पररूप संधि – एडि पररूपम्
    8. प्रकृति भाव संधि – ईदूद्विवचनम् प्रग्रह्यम्
  2. व्यंजन संधि – हल् संधि
  3. विसर्ग संधि

Related Posts

उपमा और रूपक अलंकार युग्म में अंतर

उपमा और रूपक  उपमा में उपमेय और उपमान की समानता बताई जाती है, यथा- हरि पद कोमल कमल से यहां ईश्वर के चरणों की समानता कमल की कोमलता से बताई...Read more !

वर्ण प्रकरण – संस्कृत वर्णमाला, Sanskrit Alphabet : Sanskrit Grammar

संस्कृत वर्णमाला : Sanskrit Alphabet संस्कृत वर्णमाला में 13 स्वर, 33 व्यंजन और 4 आयोगवाह ऐसे कुल मिलाकर के 50 वर्ण हैं । स्वर को ‘अच्’ और ब्यंजन को ‘हल्’...Read more !

संस्कृत साहित्य – काव्य, रचनाएं, कवि, रचनाकार, इतिहास

संस्कृत के प्रमुख साहित्य एवं साहित्यकार संस्कृत भाषा का साहित्य अनेक अमूल्य ग्रंथरत्नों का सागर है, इतना समृद्ध साहित्य किसी भी दूसरी प्राचीन भाषा का नहीं है और न ही...Read more !

Relations Name (rishton, sambandhiyon ke naam) in Hindi Sanskrit and English – Chart, List, Table

In this chapter you will know the names of Relations Name (rishton, sambandhiyon ke naam) in Hindi, Sanskrit and English. We are going to discuss Relations’ Name’s List & Table...Read more !

रीतिवाचक क्रियाविशेषण – परिभाषा, उदाहरण, भेद एवं अर्थ

परिभाषा रीति वाचक क्रियाविशेषण वे होते हैं जो क्रिया विशेषण शब्द क्रिया के घटित होने की तरीके या रीति से सम्बंधित विशेषता का ज्ञान करवाते है, उन्हें रीतिवाचक क्रियाविशेषण कहते...Read more !