उत्व् संधि – Utva Sandhi, संस्कृत व्याकरण

Utva Sandhi

उत्व् संधि

उत्व् संधि का सूत्र हशि च होता है। यह संधि विसर्ग संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में विसर्ग संधियां कई प्रकार की होती है। इनमें से सत्व संधि, उत्व् संधि, रुत्व् संधि, विसर्ग लोप संधि प्रमुख हैं। इस पृष्ठ पर हम उत्व् संधि का अध्ययन करेंगे !

उत्व् संधि के नियम

उत्व् संधि (विसर्ग संधि) प्रमुख रूप से दो प्रकार से बनाई जा सकती । जिनके उदाहरण व नियम इस प्रकार है –

नियम 1.

यदि विसर्ग से पहले “अ” हो एवं विसर्ग का मेल किसी भी “वर्ग के – त्रतीय, चतुर्थ, या पंचम वर्ण” से या “य, र, ल, व” से हो तो संधि करते समय विसर्ग (:)  को  “ओ” मे बदल देते है ।

अ : + त्रतीय, चतुर्थ, या पंचम वर्ण / य, र, ल, व =

उदाहरन् :-

  • रज: + गुण : = रजोगुण :
  • तम : + बल : = तपोबल :
  • यश : + गानम् = यशोगानम्
  • मन : + रव : = मनोरव:
  • सर : + वर : = सरोवर:
  • मन : + हर : = मनोहर:

नियम 2.

यदि विसर्ग से पहले “अ” हो एवं अन्त: पद के शुरु मे भी “अ “ हो तो संधि करते समय विसर्ग (:) को “ओ” मे तथा अन्त: पद के “अ” को पूर्वरूप (ऽ) मे बदल देते है ।

अ : +  = ोऽ

उदाहरण:-

  • देव : + अयम् = देवोऽयम
  • राम : + अवदत् = रामोऽवदत्
  • त्रप : + आगच्छत् = त्रपोऽगच्छत्
  • क : + अत्र = कोऽत्र

Related Posts

Sanskrit (संस्कृत) – What is Sanskrit? History, Origin and Country of Sanskrit

Sanskrit (संस्कृतम्) is a language of ancient India with a documented history of about 4000 years. It is the primary liturgical language of Hinduism; the predominant language of most works...Read more !

नाट्यशास्त्र (Natya Shastra)

नाट्यशास्त्र (Natya Shastra) में नाटक से संबंधित शास्त्रीय जानकारी होती है। यह नाटकों से संबंधित सबसे प्राचीनतम् ग्रंथ है। नाट्यशास्त्र को 300 ई०पू० भरत मुनि ने लिखा था। जिनका जन्म...Read more !

जश्त्व संधि – Jashtva Sandhi, झलाम् जशोऽन्ते

जश्त्व संधि जश्त्व संधि का सूत्र झलाम् जशोऽन्ते होता है। यह संधि व्यंजन संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में व्यंजन संधियां कई प्रकार की होती है। इनमें...Read more !

संस्कृत के पर्यायवाची शब्द – Paryayvachi Shabd in Sanskrit

संस्कृत पर्यायवाची शब्द किसी शब्द के लिए प्रयोग किए गए समानार्थक शब्दों को पर्यायवाची शब्द कहते हैं। यद्यपि पर्यायवाची शब्द समानार्थी होते हैं परंतु भाव में एक-दूसरे से थोड़े अलग...Read more !

उपसर्ग प्रकरण – संस्कृत में उपसर्ग – संस्कृत व्याकरण

संस्कृत उपसर्ग (उपसर्ग प्रकरण) “उपस्रज्यन्ते धतुनाम् समीपे क्रियन्ते इत्युपसर्गा” अर्थात जो धातुओ के समीप रखे जाते है उपसर्ग कहलाते हैं। परंतु उपसर्गों से केवल क्रियाओ का ही निर्माण नही होता,...Read more !