रचना क्या होती है? रचना का अर्थ – रचनाएँ

रचना

रचना शब्द ‘composition’ का हिन्दी रूपान्तरण है। भाषा के क्षेत्र में रचना के अन्तर्गत भावों व विचारों को शब्द-समूहों में सँवारते है। विचारों को क्रमबद्ध करके शब्द-समूह में व्यक्त करना, आत्माभिव्यक्ति का अभ्यास, भावों एवं विचारों की अभिव्यक्ति, तथा कलात्मक ढंग से विचार व्यक्त करना ही रचना है।

संसार के प्रत्येक व्यक्ति अपने भावों व विचारों को अभिव्यक्त करते हैं चाहे मौखिक या लिखित रूप में। मानव की इसी चाह में ‘रचना’ का अर्थ निहित है सीधे व सरल शब्दों में ‘भाषागत प्रकाशन’ ही रचना है। भाषा-क्षेत्र में इसका अर्थ है ‘भाषा में विचारों का स्पष्टीकरण‘।

भाषा-शिक्षण के विभिन्न उद्देश्यों में एक उद्दरेश्य विद्यार्थियों को अपने भावों, विचारों को प्रभावशाली ढंग से प्रकट करने की योग्यता विकसित करना है। अतः उन्हीं उद्देश्यों की पूर्ति हेतु उसे शुरू से रचना कार्यों की ओर अग्रसर किया जाता है।

प्रकार

प्रमुख रूप से रचनाएं दो प्रकार की ही हो सकती हैं। जो निम्नलिखित हैं-

  1. गद्य रचना
  2. पद्य रचना
  3. मिश्र रचना

गद्य रचना

मनुष्य की बोलने या लिखने पढ़ने की छंदरहित साधारण व्यवहार की भाषा को गद्य रचना कहा जाता है। सामान्यतः गद्य रचना के अंतर्गत नाटकएकांकीउपन्यासकहानीआलोचनानिबन्ध और पटकथा आदि हिन्दी साहित्य की विधाएं आती हैं।

पद्य रचना

पद्य रचना हिन्दी साहित्य की वह विधा है जिसमें किसी कहानी या मनोभाव को कलात्मक रूप से किसी भाषा के द्वारा अभिव्यक्त किया जाता है। पद्य रचना के अंतर्गत प्रमुख रूप से काव्य, कविता, संगीत, गीत, दोहा, भजन, गज़ल, कवित्त, छंद, सवैया और शायरी आदि हिन्दी साहित्य की विधाएं आती हैं।

मिश्र रचना

इसमें गद्य और पद्य दोनों का समावेश होता है। मैथिलीशरण गुप्त की ‘यशोधरा’ मिश्र रचना है।

रचना के उदाहरण

# रचना रचयिता
1. श्रृंगार रस मण्डन गोसांई विट्ठलनाथ
2. चौरासी वैष्णवन की वार्ता गोसांई गोकुलनाथ
3. दो सौ बावन वैष्णवन की वार्ता गोसांई गोकुलनाथ
4. अष्टयाम नाभादास
5. चन्द छन्द बरनन की महिमा गंग कवि
6. गोरा बादल की कथा जटमल
7. भाषा योग वाशिष्ठ रामप्रसाद निरंजनी
8. प्रेम सागर लल्लूलाल
9. सुख सागर मुंशी सदासुखलाल
10. नासिकेतोपाख्यान सदल मिश्र
11. रानी केतकी की कहानी मुंशी इंशा अल्ला खां
12. राजा भोज का सपना शिवप्रसाद सितारेहिन्द
13. शकुन्तला राजा लक्ष्मण सिंह
14. सत्यार्थ प्रकाश स्वामी दयानन्द
15. अर्द्धनारीश्वर रामधारी सिंह ‘दिनकर’
16. अशोक के फूल हजारी प्रसाद द्विवेदी
17. अन्धेर नगरी भारतेन्दु हरिश्चन्द्र
18. अन्धेरे बन्द कमरे मोहन राकेश
19. अतीत के चलचित्र महादेवी वर्मा
20. आधे-अधूरे मोहन राकेश

Related Posts

मिट्टी कुम्हार से बोली, ‘मुझे पात्र बना दो।’ कुम्हार ने कहा, ‘क्यों?’ – कहानी

मिट्टी कुम्हार से बोली, ‘मुझे पात्र बना दो।’ कुम्हार ने कहा, ‘क्यों?’ मिट्टी बोली, ‘ताकि मुझमें पानी रह सके और लोग अपनी प्यास बुझा सकें। इससे मेरा जीवन सार्थक होगा।’...Read more !

समानाधिकरण तत्पुरुष समास – परिभाषा, उदाहरण, सूत्र, अर्थ – संस्कृत, हिन्दी

समानाधिकरण तत्पुरुष समास की परिभाषा समानाधिकरण तत्पुरुष समास को ‘कर्मधारय समास‘ भी कहा जाता है, क्योंकि इसमें दोनों पद समान विभक्तिवाले होते हैं। इसमें विशेषण / विशेष्य तथा उपमान /...Read more !

Arya Bhasha – भारतीय आर्य भाषा क्या है? आर्य भाषाओं का वर्गीकरण

Arya Bhasha भारतीय आर्य भाषा क्या है? हिन्दी का इतिहास वस्तुत: वैदिक काल से प्रारंभ होता है। उससे पहले भारतीय आर्यभाषा का स्वरूप क्या था इसका कोई लिखित प्रमाण नहीं...Read more !

मुक्तक काव्य (Muktak Kavya)

मुक्तक-काव्य महाकाव्य और खण्डकाव्य से भिन्न प्रकार का होता है। इस काव्य में एक अनुभूति, एक भाव या कल्पना का चित्रण किया जाता है। इसमें महाकाव्य या खण्डकाव्य जैसी धारावाहिता...Read more !

हिन्दी की बोलियां – उपभाषा और उनका बोली क्षेत्र – Hindi ki Upbhasha

हिन्दी की बोलियां हिन्दी विशाल भू-भाग की भाषा होने के कारण इसकी अनेक बोलियाँ अलग-अलग क्षेत्रों में प्रयुक्त होती हैं। जिनमें से अवधी, ब्रजभाषा, कन्नौजी, बुंदेली, बघेली, हड़ौती, भोजपुरी, हरयाणवी,...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published.