किशोरावस्था में विकास के सिद्धान्त (Theories of Development in Adolescence)

Kishoravastha Me Vikas Ke Siddhant

किशोरावस्था में विकास के सिद्धान्त

किशोरावस्था में विकास से सम्बन्धित दो सिद्धान्त प्रचलित हैं-

  1. आकस्मिक विकास का सिद्धान्त (Theory fo rapid development)
  2. क्रमशः विकास का सिद्धान्त (Theory of gradual development)

आकस्मिक विकास का सिद्धान्त

(Theory fo rapid development)

इस सिद्धान्त के प्रतिपादक स्टेनले हाल (Stanely Hall) हैं। उनके अनुसार – “किशोरावस्था के परिवर्तन का सम्बन्ध न तो शैशवावस्था से होता है और न ही बाल्यावस्था से। इस प्रकार किशोरावस्था एक नया जन्म कहा जा सकता है। इस अवस्था में बालक में जो परिवर्तन आते हैं, वे परिवर्तन आकस्मिक होते हैं।”

क्रमशः विकास का सिद्धान्त

(Theory of gradual development)

इस सिद्धान्त के अनुसार – किशोरावस्था के परिवर्तन अचानक न होकर क्रमशः होते हैं। किंग (King) का कथन है, “जिस प्रकार एक ऋतु का आगमन दूसरी ऋतु के पश्चात् होता है, परन्तु पहली ऋत में दूसरी ऋतु के आने के लक्षण प्रतीत होने लगते हैं, उसी प्रकार बालक के विकास की अवस्थाएँ भी एक-दूसरे से सम्बन्धित होती हैं।”

You may like these posts

बालक का भाषा विकास (Language Development) – Balak Ka Bhasha Vikas

बालक का भाषा विकास या अभिव्यक्ति क्षमता का विकास (Language Development or Development of Manifestation Ability) भाषा विकास बौद्धिक विकास की सर्वाधिक उत्तम कसौटी मानी जाती है। बालक को सर्वप्रथम...Read more !

शैशवकाल या शैशवावस्था की विशेषताएँ (Characteristics of Infancy)

शैशवावस्था या शैशवकाल की विशेषताएँ शैशवकाल की सभी विशेषताओं को क्रमबद्ध करना शिक्षाशास्त्रियों और शिक्षा प्रेमियों के लिये रुचिकर न होगा। अत: हम यहाँ पर इन विशेषताओं को निम्नलिखित तीन...Read more !

प्राथमिक स्तर पर बाल विकास के अध्ययन की उपादेयता एवं महत्व

प्राथमिक स्तर पर बाल विकास के अध्ययन की उपादेयता एवं महत्व (Utility and Importance of Child Development Study at Primary Level) प्राथमिक स्तर पर बालक शैशवावस्था से निकलकर बाल्यावस्था में...Read more !