मानसिक आयु (Mental Age) – Mansik Aayu

मानसिक आयु

मानसिक आयु

बिने (Binet) ने बुद्धि परीक्षा के आधार पर मानसिक आयु की सार्थकता को स्पष्ट किया है। उनके कथनानुसार-“मानसिक आयु किसी व्यक्ति के द्वारा विकास की सीमा की वह अभिव्यक्ति है, जो उसके कार्यों द्वारा जानी जाती है तथा किसी आयु विशेष में उसकी अपेक्षा होती है।

बुद्धि परीक्षा के आधार पर यह निष्कर्ष निकलता है कि जिस बालक ने 10 वर्ष की आयु के सामान्य बालकों के समान कार्य सफलतापूर्वक पूर्ण कर लिया है, उसकी मानसिक आयु 10 वर्ष होगी। यदि 8 वर्ष का बालक ऐसे कार्य कर लेता है, जिसको 9 वर्ष का बालक कर पाता तो उस बालक की मानसिक आयु १ वर्ष होगी।

इसका अर्थ है कि “मानसिक आयु किसी विशिष्ट उम्र में बालक की मानसिक परिपक्वता को बताती है। यही परिपक्वता मानसिक आयु है।” बिने परीक्षा के अन्तर्गत ‘सामान्य मानसिक योग्यता’ का मापन किया गया
है।

इसके अनुसार बालक का मानसिक विकास जिस आयु के मध्य पूर्णता के साथ होता है, वह है-14 से 22 वर्ष।

मानसिक आयु निकालने का सूत्र

बुद्धि-लब्धि बालक में स्थित बुद्धि की मात्रा का मापन है। टरमैन ने मानसिक आयु के बदले बुद्धि-लब्धि की विधि खोजी, मानसिक आयु निकालने के लिये बुद्धि-लब्धि को वास्तविक आयु से गुणा किया जाता है; जैसे-

Mansik Aayu

उदाहरण के लिए

जैसे– यदि बालक की वास्तविक आयु 8 वर्ष है और वह 10 वर्ष के सामान्य बालको का कार्य पूर्ण कर लेता है तो उसकी मानसिक आयु 10 वर्ष होगी। दशमलव को पूर्ण बनाने के लिये 100 से गुणा कर देते हैं।

बुद्धि-लब्धि प्रतिभा का सूचकांक है। प्रतिभा की यह मात्रा या मानसिक अभिवृद्धि टरमैन द्वारा बनायी गयी एवं डॉ. मैरिलक द्वारा स्वीकृत की गयी तालिका द्वारा प्रदर्शित की गयी है-

बुद्धि-लब्धि प्रतिभा
140-169 अति प्रतिभाशाली
120-139 प्रतिभाशाली
110-119 अति उत्कृष्ट
90-109 उत्कृष्ट
80-89 सामान्य
70-79 मंद
60-69 निर्बल बुद्धि
50-59 हीन बुद्धि
25-49 मूर्ख
0-24 जड़

शिक्षा की आयु (Scholastic age)

Shiksha Ki Aayu

शिक्षा-लब्धि (Scholastic Quotient)

Shiksha Labdhi

बर्ट ने अपनी पुस्तक ‘मानसिक तथा शिक्षा-लब्धि परीक्षण‘ में बुद्धि के आधार पर वर्गीकरण तथा शिक्षा की आयु एवं शिक्षा-लब्धि को स्पष्ट किया। इसे विभिन्न बुद्धि परीक्षणों से मापा जाता है।

मानसिक विकास

बुद्धि का परिचयबुद्धि की परिभाषाएँबुद्धि की प्रकृति या स्वरूपबुद्धि एवं योग्यताबुद्धि के प्रकारबुद्धि के सिद्धान्तमानसिक आयुबुद्धि-लब्धि एवं उसका मापनबुद्धि का विभाजनबुद्धि का मापनबिने के बुद्धि-लब्धि परीक्षा प्रश्नबुद्धि परीक्षणों के प्रकारव्यक्तिगत और सामूहिक बुद्धि परीक्षणों में अन्तरभारत में प्रयुक्त होने वाले बुद्धि परीक्षणशाब्दिक एवं अशाब्दिक परीक्षणों में अन्तरबुद्धि परीक्षणों के गुण या विशेषताएँबुद्धि परीक्षणों के दोषबुद्धि परीक्षणों की उपयोगिता

Related Posts

सामाजिक विकास (Social Development) – Samajik Vikas

बालक का सामाजिक विकास (Social Development of Child) शिशु का व्यक्तित्व सामाजिक पर्यावरण में विकसित होता है। वंशानुक्रम से जो योग्यताएँ उसे प्राप्त होती हैं, उनको जाग्रत करके सही दिशा...Read more !

शारीरिक विकास (Physical Development) – Sharirik Vikas

बालक का शारीरिक विकास मानव जीवन का प्रारम्भ उसके पृथ्वी पर जन्म लेने से पहले ही प्रस्फुटित होने लगता है। वर्तमान समय में गर्भधारण की स्थिति से ही मानवीय जीवन का...Read more !

बाल विकास – Child Development in Hindi

बाल विकास की अवधारणा (Concept of Child Development) बाल विकास (Child Development) की प्रक्रिया एक स्वाभाविक प्रक्रिया है। इस सृष्टि में प्रत्येक प्राणी प्रकृति द्वारा प्रदत्त अनुकूलन परिस्थितियों से उत्पन्न...Read more !

बाल विकास का क्षेत्र (Scope of Child Development)

बाल विकास का क्षेत्र (Scope of Child Development) बाल विकास का क्षेत्र वर्तमान समय में व्यापक तथ्यों को समाहित किये हुए है। बाल विकास के अन्तर्गत किसी एक तथ्य पर...Read more !

किशोरावस्था में विकास के सिद्धान्त (Theories of Development in Adolescence)

किशोरावस्था में विकास के सिद्धान्त किशोरावस्था में विकास से सम्बन्धित दो सिद्धान्त प्रचलित हैं- आकस्मिक विकास का सिद्धान्त (Theory fo rapid development) क्रमशः विकास का सिद्धान्त (Theory of gradual development)...Read more !