मानसिक आयु (Mental Age) – Mansik Aayu

मानसिक आयु

मानसिक आयु

बिने (Binet) ने बुद्धि परीक्षा के आधार पर मानसिक आयु की सार्थकता को स्पष्ट किया है। उनके कथनानुसार-“मानसिक आयु किसी व्यक्ति के द्वारा विकास की सीमा की वह अभिव्यक्ति है, जो उसके कार्यों द्वारा जानी जाती है तथा किसी आयु विशेष में उसकी अपेक्षा होती है।

बुद्धि परीक्षा के आधार पर यह निष्कर्ष निकलता है कि जिस बालक ने 10 वर्ष की आयु के सामान्य बालकों के समान कार्य सफलतापूर्वक पूर्ण कर लिया है, उसकी मानसिक आयु 10 वर्ष होगी। यदि 8 वर्ष का बालक ऐसे कार्य कर लेता है, जिसको 9 वर्ष का बालक कर पाता तो उस बालक की मानसिक आयु १ वर्ष होगी।

इसका अर्थ है कि “मानसिक आयु किसी विशिष्ट उम्र में बालक की मानसिक परिपक्वता को बताती है। यही परिपक्वता मानसिक आयु है।” बिने परीक्षा के अन्तर्गत ‘सामान्य मानसिक योग्यता’ का मापन किया गया
है।

इसके अनुसार बालक का मानसिक विकास जिस आयु के मध्य पूर्णता के साथ होता है, वह है-14 से 22 वर्ष।

मानसिक आयु निकालने का सूत्र

बुद्धि-लब्धि बालक में स्थित बुद्धि की मात्रा का मापन है। टरमैन ने मानसिक आयु के बदले बुद्धि-लब्धि की विधि खोजी, मानसिक आयु निकालने के लिये बुद्धि-लब्धि को वास्तविक आयु से गुणा किया जाता है; जैसे-

Mansik Aayu

उदाहरण के लिए

जैसे– यदि बालक की वास्तविक आयु 8 वर्ष है और वह 10 वर्ष के सामान्य बालको का कार्य पूर्ण कर लेता है तो उसकी मानसिक आयु 10 वर्ष होगी। दशमलव को पूर्ण बनाने के लिये 100 से गुणा कर देते हैं।

बुद्धि-लब्धि प्रतिभा का सूचकांक है। प्रतिभा की यह मात्रा या मानसिक अभिवृद्धि टरमैन द्वारा बनायी गयी एवं डॉ. मैरिलक द्वारा स्वीकृत की गयी तालिका द्वारा प्रदर्शित की गयी है-

बुद्धि-लब्धि प्रतिभा
140-169 अति प्रतिभाशाली
120-139 प्रतिभाशाली
110-119 अति उत्कृष्ट
90-109 उत्कृष्ट
80-89 सामान्य
70-79 मंद
60-69 निर्बल बुद्धि
50-59 हीन बुद्धि
25-49 मूर्ख
0-24 जड़

शिक्षा की आयु (Scholastic age)

Shiksha Ki Aayu

शिक्षा-लब्धि (Scholastic Quotient)

Shiksha Labdhi

बर्ट ने अपनी पुस्तक ‘मानसिक तथा शिक्षा-लब्धि परीक्षण‘ में बुद्धि के आधार पर वर्गीकरण तथा शिक्षा की आयु एवं शिक्षा-लब्धि को स्पष्ट किया। इसे विभिन्न बुद्धि परीक्षणों से मापा जाता है।

मानसिक विकास

बुद्धि का परिचयबुद्धि की परिभाषाएँबुद्धि की प्रकृति या स्वरूपबुद्धि एवं योग्यताबुद्धि के प्रकारबुद्धि के सिद्धान्तमानसिक आयुबुद्धि-लब्धि एवं उसका मापनबुद्धि का विभाजनबुद्धि का मापनबिने के बुद्धि-लब्धि परीक्षा प्रश्नबुद्धि परीक्षणों के प्रकारव्यक्तिगत और सामूहिक बुद्धि परीक्षणों में अन्तरभारत में प्रयुक्त होने वाले बुद्धि परीक्षणशाब्दिक एवं अशाब्दिक परीक्षणों में अन्तरबुद्धि परीक्षणों के गुण या विशेषताएँबुद्धि परीक्षणों के दोषबुद्धि परीक्षणों की उपयोगिता

You may like these posts

मानसिक विकास (Mental Development) – Mansik Vikas

बालक का मानसिक विकास (Mental Development of child) जन्म के समय शिशु असहाय अवस्था में होता है। वह मानसिक क्षमता में भी पूर्ण अविकसित होता है। आयु की वृद्धि एवं...Read more !

सृजनात्मकता (Creativity) – अर्थ, परिभाषा, विशेषताएँ, विकास, पहचान एवं मापन

सृजनात्मकता/रचनात्मकता सृजनात्मकता (Creativity) सामान्य रूप से जब हम किसी वस्तु या घटना के बारे में विचार करते हैं तो हमारे मन-मस्तिष्क में अनेक प्रकार के विचारों का प्रादुर्भाव होता है। उत्पन्न...Read more !

प्राथमिक स्तर पर बाल विकास के अध्ययन की उपादेयता एवं महत्व

प्राथमिक स्तर पर बाल विकास के अध्ययन की उपादेयता एवं महत्व (Utility and Importance of Child Development Study at Primary Level) प्राथमिक स्तर पर बालक शैशवावस्था से निकलकर बाल्यावस्था में...Read more !