Sanskrit Pronunciation, Table – उच्चारण स्थान तालिका – Sanskrit

How to pronounce in Sanskrit? Pronunciation the letters, the coaching of Sanskrit knowledge. What is Sanskrit Pronunciation of Sanskrit? Know below (संस्कृत उच्चारण स्थान) Sanskrit Pronunciation of Sanskrit in sanskrit grammar. संस्कृत उच्चारण स्थान (Sanskrit Pronunciation) kya Hain.

Sanskrit Pronunciation

Pressing the air at the place of a place inside the mouth, different characters are pronounced. There are five sections inside the mouth, which are called places. In each of these five departments, each vowel is produced, these are called five pure tones. Vowels are called those which can be spoken in a single voice for a long time.

Hindi Translation

संस्कृत उच्चारण स्थान

मुख के अंदर स्थान-स्थान पर हवा को दबाने से भिन्न-भिन्न वर्णों का उच्चारण होता है । मुख के अंदर पाँच विभाग हैं, जिनको स्थान कहते हैं । इन पाँच विभागों में से प्रत्येक विभाग में एक-एक स्वर उत्पन्न होता है, ये ही पाँच शुद्ध स्वर कहलाते हैं । स्वर उसको कहते हैं, जो एक ही आवाज में बहुत देर तक बोला जा सके।

Sanskrit Pronunciation Table (संस्कृत उच्चारण स्थान तालिका)

क्रम स्थान स्वर व्यंजन अन्तस्थ उष्म
1. कण्ठ अ, आ क, ख, ग, घ, ड़ ह, अ:
2. तालु इ, ई च, छ, ज, झ, ञ
3. मूर्द्धा ऋ, ॠ ट, ठ, ड, ढ, ण
4. दन्त लृ त, थ, द, ध, न
5. ओष्ठ उ, ऊ प, फ, ब, भ, म
6. नासिका अं, ड्, ञ, ण, न्, म्
7. कण्ठतालु ए, ऐ
8. कण्ठोष्टय ओ, औ
9. दन्तोष्ठ्य

Ucharan sthan talika diagram, chart and image

Sanskrit pronunciation
Sanskrit Pronunciation

Learning Sanskrit pronunciation the letter by ghosh-aghosh

Sanskrit pronunciation the letter
Sanskrit pronunciation the letter 

See Also:
संस्कृत वर्णमाला : Sanskrit,
वर्ण विभाग – ध्वनि या वर्ण – Hindi,
वर्णो का उच्चारण स्थान

Related Posts

प्रत्यय प्रकरण (Pratyay in Sanskrit) – संस्कृत में प्रत्यय, परिभाषा, भेद और उदाहरण

संस्कृत में प्रत्यय (प्रत्यय प्रकरण) “प्रतीयतेsर्थोंsमेनेति प्रत्यय:” अर्थात जिसके द्वारा अर्थ जानते है उसी को प्रत्यय कहते हैं । संस्कृत प्रत्यय की परिभाषा प्रत्यय वे शब्द होते हैं जो किसी...Read more !

उत्प्रेक्षा अलंकार – Utpreksha Alankar परिभाषा उदाहरण अर्थ हिन्दी एवं संस्कृत

उत्प्रेक्षा अलंकार जहाँ पर उपमान के न होने पर उपमेय को ही उपमान मान लिया जाए। अथार्त जहाँ पर अप्रस्तुत को प्रस्तुत मान लिया जाए वहाँ पर उत्प्रेक्षा अलंकार होता...Read more !

विशेषोक्ति अलंकार – Visheshokti Alankar परिभाषा, उदाहरण – हिन्दी

विशेषोक्ति अलंकार  परिभाषा: संपूर्ण कारणों के होने पर भी फल का न कहना विशेषोक्ति है। अर्थात काव्य में जहाँ कार्य सिद्धि के समस्त कारणों के विद्यमान रहते हुए भी कार्य...Read more !

धातु रूप – (तिड्न्त प्रकरण) Dhatu Roop in Sanskrit, List, Table Trick

धातु रूप (Dhatu Roop, तिड्न्त प्रकरण) संस्कृत व्याकरण में क्रिया के मूल-रूप (तिड्न्त) को धातु (Verb) कहते हैं। धातुएँ ही संस्कृत भाषा में शब्दों के निर्माण अहम भूमिका निभाती हैं।...Read more !

Fruits name in Hindi (falon ke naam), Sanskrit and English – With Chart, List

Fruits (फलों) name in Hindi, Sanskrit and English In this chapter you will know the names of Fruit (Fruit) in Hindi, Sanskrit and English. We are going to discuss Fruits name’s...Read more !