Sanskrit Pronunciation, Table – उच्चारण स्थान तालिका – Sanskrit

How to pronounce in Sanskrit? Pronunciation the letters, the coaching of Sanskrit knowledge. What is Sanskrit Pronunciation of Sanskrit? Know below (संस्कृत उच्चारण स्थान) Sanskrit Pronunciation of Sanskrit in sanskrit grammar. संस्कृत उच्चारण स्थान (Sanskrit Pronunciation) kya Hain.

संस्कृत उच्चारण स्थान

मुख के अंदर स्थान-स्थान पर हवा को दबाने से भिन्न-भिन्न वर्णों का उच्चारण होता है । मुख के अंदर पाँच विभाग हैं, जिनको स्थान कहते हैं । इन पाँच विभागों में से प्रत्येक विभाग में एक-एक स्वर उत्पन्न होता है, ये ही पाँच शुद्ध स्वर कहलाते हैं । स्वर उसको कहते हैं, जो एक ही आवाज में बहुत देर तक बोला जा सके।

Sanskrit Pronunciation

Pressing the air at the place of a place inside the mouth, different characters are pronounced. There are five sections inside the mouth, which are called places. In each of these five departments, each vowel is produced, these are called five pure tones. Vowels are called those which can be spoken in a single voice for a long time.

Sanskrit Pronunciation Table (संस्कृत उच्चारण स्थान तालिका)

क्रम स्थान स्वर व्यंजन अन्तस्थ उष्म
1. कण्ठ अ, आ क, ख, ग, घ, ड़ ह, अ:
2. तालु इ, ई च, छ, ज, झ, ञ
3. मूर्द्धा ऋ, ॠ ट, ठ, ड, ढ, ण
4. दन्त लृ त, थ, द, ध, न
5. ओष्ठ उ, ऊ प, फ, ब, भ, म
6. नासिका अं, ड्, ञ, ण, न्, म्
7. कण्ठतालु ए, ऐ
8. कण्ठोष्टय ओ, औ
9. दन्तोष्ठ्य

Ucharan sthan talika diagram, chart and image

Sanskrit pronunciation
Sanskrit Pronunciation

Learning Sanskrit pronunciation the letter by ghosh-aghosh

Sanskrit pronunciation the letter
Sanskrit pronunciation the letter

See Also:
संस्कृत वर्णमाला : Sanskrit,
वर्ण विभाग – ध्वनि या वर्ण – Hindi,
वर्णो का उच्चारण स्थान

You may like these posts

यण् संधि – इकोऽयणचि – Yan Sandhi, Sanskrit Vyakaran

यण् संधि यण् संधि का सूत्र इकोऽयणचि होता है। यह संधि स्वर संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में स्वर संधियां आठ प्रकार की होती है। दीर्घ संधि,...Read more !

Sanskrit shlok – संस्कृत में श्लोक – Sanskrit shlokas with Hindi meaning

संस्कृत श्लोक (Sanskrit shlok) भारतीय संस्कृति का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। संस्कृत भाषा में श्लोकों का आरंभ वेदों से माना जाता है: ऋग्वेद में श्लोक की संख्या 10462 है जिन्हें ऋचाएं...Read more !

वृत्यानुप्रास अलंकार (Vratyanupras Alankar)

वृत्यानुप्रास अलंकार की परिभाषा जब एक व्यंजन की आवर्ती अनेक बार हो वहाँ वृत्यानुप्रास अलंकार कहते हैं। यह Alankar, शब्दालंकार के 6 भेदों में से Anupras Alankar का एक भेद...Read more !