स्थानवाचक क्रियाविशेषण – परिभाषा, उदाहरण, भेद एवं अर्थ

परिभाषा

स्थानवाचक क्रिया विशेषण वे होते हैं जो क्रिया के होने वाली जगह का बोध कराते है। अर्थात जहां क्रिया हो रही है उस जगह का ज्ञान कराने वाले शब्द ही स्थान-वाचक क्रिया विशेषण कहलाते हैं।

उदाहरण

यहाँ, कहाँ, जहाँ, तहाँ, सामने, वहाँ, नीचे, ऊपर, भीतर, बाहर, दूर, पास, अंदर, आगे, दाएँ, बाएँ, दाहिने, किधर, इस ओर, उस ओर, इधर, उधर, जिधर, आदि स्थान वाचक क्रिया विशेषण के उदाहरण हैं।

कुछ स्थान वाचक क्रिया विशेषण एवं अर्थ

स्थानवाचक क्रियाविशेषण अर्थ
यत्र यहां
तत्र वहाँ (there)
कुत्र / क्व कहाँ
अत्र यहाँ
सर्वत्र सब जगह
अन्त: भीतर
बहि: बाहर
अंतरा मध्य
उच्चै जोर से
नीचै: / अध: नीचे
समया /
निकषा / पार्श्वे
नजदीक
अन्यत्र दूसरी जगह
आरात् पास या दूर
(near or far)
तत: वहाँ से
इतस्तत: इधर – उधर
अभित: सामने
अग्रे / पुरत: आगे
(In Front Of)
परित: चारो ओर

Related Posts

यात्रा-वृत्तान्त और यात्रा वृत्तान्तकार/ लेखक – हिन्दी

हिन्दी के यात्रा-वृत्तान्त और यात्रा-वृत्तान्तकार  हिन्दी का पहला यात्रा-वृत्त “सरयू पार की यात्रा” है। इसका रचनाकाल 1871 ई. है। इसके रचनाकार या लेखक “भारतेन्दु हरिश्चन्द्र” हैं। एक स्थान से दूसरे...Read more !

कर्मधारय समास – परिभाषा, उदाहरण, सूत्र, अर्थ – संस्कृत, हिन्दी

कर्मधारय समास की परिभाषा कर्मधारय समास को ‘समानाधिकरण तत्पुरुष‘ भी कहा जाता है, क्योंकि इसमें दोनों पद समान विभक्तिवाले होते हैं। इसमें विशेषण / विशेष्य तथा उपमान / उपमेय होते...Read more !

निबंध | निबंध लेखन | हिन्दी निबन्ध | Essay Hindi | Hindi Nibandh

निबंध लेखन कला के महत्वपूर्ण बिन्दु निबंध की परिभाषा निबंध उस गद्य रचना को कहते हैं जिसमें एक सीमित आकार के भीतर किसी एक विषय का वर्णन या प्रतिपादन एक...Read more !

पत्र लेखन – Patra Lekhan in Hindi – हिन्दी

पत्र-लेखन (Letter-Writing) पत्र-लेखन आधुनिक युग की अपरिहार्य आवश्यकता है। पत्र एक ओर सामाजिक व्यवहार के अपरिहार्य अंग हैं तो दूसरी ओर उनकी व्यापारिक आवश्यकता भी रहती है। पत्र लेखन एक...Read more !

माहेश्वर सूत्र (Maheswar Sutra) – जनक, विवरण और इतिहास – संस्कृत व्याकरण

पाणिनी के माहेश्वर सूत्र माहेश्वर सूत्र (शिवसूत्राणि या महेश्वर सूत्राणि) को संस्कृत व्याकरण का आधार माना जाता है। पाणिनि ने संस्कृत भाषा के तत्कालीन स्वरूप को परिष्कृत एवं नियमित करने...Read more !