कालवाचक क्रियाविशेषण – परिभाषा, उदाहरण, भेद एवं अर्थ

परिभाषा

कालवाचक क्रियाविशेषण  वे शब्द होते हैं जो हमें क्रिया के होने वाले समय का बोध कराते हैं, वह शब्द कालवाचक क्रियाविशेषण कहलाते हैं। यानी जब क्रिया होती है उस समय का बोध कराने वाले शब्दों को कालवाचक क्रियाविशेषण कहलाते हैं।

क्रियाविशेषण जो किसी चीज़ के घटित होने या समय के क्रियाविशेषण के रूप में परिभाषित होने पर हमें बताकर वाक्य के अर्थ को बदल देते हैं। समय की एक कहावत है कि आप उससे क्या उम्मीद कर सकते हैं – एक शब्द जो वर्णन करता है कि कब, कितने समय के लिए, या कितनी बार एक निश्चित कार्रवाई हुई।

उदाहरण

यदा – जब,  तदा – तब,  कदा – कब,  सदा / सर्वदा – हमेशा, प्रात: – सुबह,  शीघ्रम् – जल्द ही,  दिवा -दिन में,  नक्तम् – रात में,  परश्व: –  परसों आदि कालवाचक क्रियाविशेषण के उदाहरण हैं।

कुछ काल वाचक क्रिया विशेषण एवं अर्थ

कालवाचक क्रिया विशेषण अर्थ
यदा जब
तदा तब
कदा कब
सदा / सर्वदा हमेशा
अधुना अब / आजकल
इदानीम इस समय
सम्प्रति अब
साम्प्रतम् इन दिनों
अद्य आज
ह्य: बीता कल
स्व: आनेवाला कल
ऐसम् इस साल
परुत् परसाल(Last Year)
सायम् संध्या के समय /
शाम को / शाम में
प्रात: सुबह
शीघ्रम् जल्द ही
दिवा दिन में
नक्तम् रात में
परश्व: परसों
बहुधा अक्सर
संभवत: शायद
चिरम् / चिरात् /
चिरेण / चिराय / चिरस्य
देर से
एकदा एक बार / एक दिन
कदाचित् कभी

Related Posts

भाषा परिवार – दुनियाँ के प्रमुख भाषा परिवार

भाषा परिवार जिस प्रकार मनुष्यों का परिवार होता है, उसी प्रकार भाषाओं का भी परिवार होता है। ऐसी भाषाओं का समूह, जिनका जन्म किसी एक मूल भाषा से हुआ हो,...Read more !

धातु रूप – (तिड्न्त प्रकरण) Dhatu Roop in Sanskrit, List, Table Trick

संस्कृत व्याकरण में क्रिया के मूल-रूप (तिड्न्त) को धातु (Verb) कहते हैं। धातुएँ ही संस्कृत भाषा में शब्दों के निर्माण अहम भूमिका निभाती हैं। धातुओं के साथ उपसर्ग, प्रत्यय आदि...Read more !

सरीसृप जीव जन्तुओ के नाम, शब्द हिन्दी, संस्कृत और अङ्ग्रेज़ी में – Sarisrip Jeevon Ke Naam – List and Table

सरीसृप जीव जन्तुओ के नाम, शब्द: इस प्रष्ठ में सरीसृप जीव जन्तुओ के नाम(शब्द) और उनके बारे में हिन्दी, संस्कृत और अङ्ग्रेज़ी में जानकारी दी जाएगी। साँप, छिपकली, कछुआ को...Read more !

प्रकृति भाव संधि – ईदूद्विवचनम् प्रग्रह्यम् – Prakriti Bhava Sandhi, Sanskrit Vyakaran

प्रकृति भाव संधि प्रकृति भाव संधि का सूत्र ईदूद्विवचनम् प्रग्रह्यम् होता है। यह संधि स्वर संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में स्वर संधियां आठ प्रकार की होती है।...Read more !

स्वतंत्रता के बाद हिन्दी का राजभाषा के रूप में विकास

स्वतंत्रता या आजादी के बाद हिन्दी का राजभाषा के रूप में विकास  राजभाषा (Official Language) क्या है ? राजभाषा का शाब्दिक अर्थ है-राज-काज की भाषा । जो भाषा देश के...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published.