बाल विकास की प्रकृति (Nature of Child Development)

Bal Vikas Ki Prakriti

बाल विकास की प्रकृति (Nature of Child Development)

प्राणी के गर्भ में आने से लेकर पूर्ण प्रौणता प्राप्त होने की स्थिति ही मानव विकास है। पिता के सूत्र (Sperms) तथा माता के सूत्र (Ovum) के संयोग (यौन सम्पर्क) से जीवोत्पत्ति होती है।

बालक लगभग 9 माह अर्थात् 280 दिन तक माँ के गर्भ में रहता है और तब से ही उसके विकास की प्रक्रिया प्रारम्भ हो जाती है। उसके सभी अंग धीरे-धीरे पुष्ट तथा विकसित होने लगते हैं, जब भ्रूण विकसित होकर पूर्ण बालक का स्वरूप ग्रहण कर लेता है तो प्राकृतिक नियमानुसार उसे गर्भ से पृथ्वी पर आना ही पड़ता है तब बालक के विकास की प्रक्रिया प्रत्यक्ष रूप में विकसित होने लगती है।

बालक के विकास पर वंशानुक्रम के अतिरिक्त वातावरण का भी प्रभाव पड़ने लगता है।

मुनरो के शब्दों में, “परिवर्तन श्रृंखला की वह अवस्था, जिसमें बच्चा भ्रूणावस्था से लेकर प्रौढ़ावस्था तक गुजरता है, विकास कहलाती है।

बाल विकास का अर्थ किसी बालक के मोटे-पतले या बड़े तथा भारयुक्त होने से नहीं है, अपितु परिपक्वता की ओर निश्चित परिस्थितियों में बढ़ने से है। यह एक प्रगतिशील तथा विकसित परिवर्तन की बढ़ती हुई स्थिति है। यह एक प्रगतिशील दिशा है, जो निरन्तर अबाध गति से चलती रहती है और जिसमें तनिक भी विराम नहीं है। यह एक निरन्तर गतिशील प्रक्रिया है। जिसमें विकास के उच्चतर प्रगतिशील तत्त्व विद्यमान रहते हैं।

गैसेल के अनुसार, “विकास सामान्य प्रयत्न से अधिक महत्त्व रखता है, विकास का अवलोकन किया जा सकता है और किसी सीमा तक इसका मापन एवं मूल्यांकन भी किया जा सकता है, जिसके तीन रूप होते हैं-(1) शरीर निर्माण,(2) शरीरशास्त्र एवं(3) व्यवहार के चिह्न।

किसी बालक के व्यवहार के चिह्न, उसके विकास के स्तर एवं शक्तियों की विस्तृत रचना करते हैं।

You may like these posts

बुद्धि परीक्षण – बुद्धि परीक्षणों के प्रकार, गुण, दोष, उपयोगिता – Buddhi Parikshan

मानव केवल शारीरिक गुणों से ही एक दूसरे से अलग नहीं होते बरन मानसिक एवं बौद्धिक गुणों से भी एक दूसरे से अलग होते हैं। इनमें से कुछ भिन्नताऐं जन्मजात...Read more !

बाल्यावस्था (Childhood) – Balyavastha

बाल्यावस्था (Childhood) बालक के विकास की सभी अवस्थाएँ अपने में अलग-अलग विशेषताएँ लिये हुए हैं। बाल्यावस्था, जिसका समय विद्वानों ने 6 वर्ष से 12 वर्ष तक माना है, बालक के...Read more !

बालक का भाषा विकास (Language Development) – Balak Ka Bhasha Vikas

बालक का भाषा विकास या अभिव्यक्ति क्षमता का विकास (Language Development or Development of Manifestation Ability) भाषा विकास बौद्धिक विकास की सर्वाधिक उत्तम कसौटी मानी जाती है। बालक को सर्वप्रथम...Read more !