बाल विकास अध्ययन के उद्देश्य (Aims of Child Development Study)

Bal Vikas Adhyayan Ke Uddeshya

बाल विकास अध्ययन के उद्देश्य (Aims of Child Development Study)

बाल विकास की प्रक्रिया को अध्ययन का विषय बनाने के पीछे मनोवैज्ञानिकों एवं शिक्षाशास्त्रियों ने अनेक महत्त्वपूर्ण उद्देश्य निर्धारित किये हैं। बाल विकास की प्रक्रिया का ज्ञान प्रत्येक अभिभावक एवं शिक्षक को होना चाहिये क्योंकि बाल विकास की प्रक्रिया के ज्ञान के अभाव में कोई भी शिक्षक अपने दायित्व को पूर्ण नहीं कर सकता।

बाल विकास के प्रमुख उद्देश्य निम्नलिखित हैं-

  1. बाल विकास के द्वारा प्रत्येक शिक्षक को यह ज्ञान कराया जाता है कि वह सन्तुलित बाल विकास की प्रक्रिया में किस प्रकार अपना सहयोग प्रदान कर सकते हैं?
  2. बाल विकास के द्वारा बालकों के विकास में उत्पन्न विभिन्नताओं का ज्ञान शिक्षक एवं अभिभावकों को कराया जाता है।
  3. बाल विकास का प्रमुख उद्देश्य बालकों के सन्तुलित विकास के लिये मार्ग प्रशस्त करना है, जिससे कि वे पूर्णतः विकास को प्राप्त कर सकें।
  4. बाल विकास के द्वारा छात्रों के चहुँमुखी विकास की योजना तैयार की जाती है, जिससे उसका व्यक्तित्व निखर सके।
  5. बाल विकास का उद्देश्य बालकों के विकास पर पड़ने वाले विभिन्न कुप्रभावों को दूर करना है, जिससे बालकों का सर्वांगीण विकास किया जा सके।
  6. बाल विकास के द्वारा बालों के विकास में उत्पन्न अनेक शारीरिक एवं पारिवारिक समस्याओं का ज्ञान करते हुए उन्हें दूर करने का प्रयास किया जाता है।
  7. बाल विकास का प्रमुख उद्देश्य उसमें अन्तर्निहित शक्तियों का पूर्ण विकास करना है, जिससे वह एक कुशल नागरिक बन सके।
  8. बाल विकास का उद्देश्य बालक के विकास की उस प्रथम सीढ़ी अक्षित नींव को सुदृढ़ करना है, जिस पर कि विकास का भव्य भवन निर्मित होता है।
  9. बाल विकास का उद्देश्य बालकों को शारीरिक, मानसिक एवं सामाजिक रूप से श्रेष्ठता प्रदान करना है, जिससे कि वह समाज एवं राष्ट्र के विकास में अपनी भूमिका का निर्वाह
    कर सकें।
  10. बाल विकास का प्रमुख उद्देश्य बालकों में प्रारम्भकाल से ही स्वस्थ मन एवं शरीर का विकास करना है, जिससे कि बालक सामाजिक, मानवीय एवं नैतिक गुणों से परिपूर्ण हो सके।

उपरोक्त विवेचनसे यह स्पष्ट होता है कि बाल विकास का उद्देश्य बालकों के लिये चहुमुंखी विकास का मार्ग आलोकित करना है तथा इस मार्ग में आने वाली बाधाओं को दूर करना है,
जिससे कि बालक सन्तुलित रूप में प्रकाशित होते हुए देश एवं समाज के विकास में अपना योगदान दे सकें।

Related Posts

मानसिक विकास (Mental Development) – Mansik Vikas

बालक का मानसिक विकास (Mental Development of child) जन्म के समय शिशु असहाय अवस्था में होता है। वह मानसिक क्षमता में भी पूर्ण अविकसित होता है। आयु की वृद्धि एवं...Read more !

बाल्यावस्था की विशेषताएँ (Characteristics of Childhood)

बाल्यावस्था की विशेषताएँ बाल्यावस्था की प्रमुख विशेषताएँ (Balyavastha Ki Visheshtayen) इस प्रकार हैं- 1. विकास में स्थिरता (Stability in development) बाल्यावस्था में बालक का विकास चलायमान नरहकर व्यवस्थित एवं स्थायी...Read more !

मानसिक आयु (Mental Age) – Mansik Aayu

मानसिक आयु बिने (Binet) ने बुद्धि परीक्षा के आधार पर मानसिक आयु की सार्थकता को स्पष्ट किया है। उनके कथनानुसार-“मानसिक आयु किसी व्यक्ति के द्वारा विकास की सीमा की वह...Read more !

बुद्धि की प्रकृति या स्वरूप (Nature of Intelligence), बुद्धि एवं योग्यता

बुद्धि की प्रकृति या स्वरूप (Nature of Intelligence) मनोविज्ञान की उत्पत्ति से लेकर आज तक ‘बुद्धि का स्वरूप’ निश्चित नहीं हो पाया है। समय-समय पर जो परिभाषाएँ विद्वानों द्वारा प्रस्तुत...Read more !

शैशवावस्था में शिक्षा का स्वरूप (Form of Education in Infancy)

शैशवावस्था में शिक्षा का स्वरूप शैशवकाल के बालकों को कैसे शिक्षित किया जाना चाहिये? यह प्रश्न बालक के विकास में विशेष महत्त्व रखता है। अत: हमें शैशवीय बालकों की शिक्षा...Read more !