वनस्पति शब्द के रूप – Vanaspati Ke Roop, Shabd Roop – Sanskrit

Vanaspati Shabd

वनस्पति शब्द (The vegetation): इकारान्त पुंल्लिंग शब्द , इस प्रकार के सभी इकारान्त पुल्लिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। संस्कृत व्याकरण एवं भाषा में शब्द रूप अति महत्व रखते हैं। और धातु रूप (Dhatu Roop) भी बहुत ही आवश्यक होते हैं।

वनस्पति के शब्द रूप इस प्रकार हैं-

वनस्पति के शब्द रूप – Vanaspati Shabd Roop

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा वनस्पतिः वनस्पती वनस्पतयः
द्वितीया वनस्पतिम् वनस्पती वनस्पतीन्
तृतीया वनस्पतिना वनस्पतिभ्याम् वनस्पतिभिः
चतुर्थी वनस्पतये वनस्पतिभ्याम् वनस्पतिभ्यः
पंचमी वनस्पतेः वनस्पतिभ्याम् वनस्पतिभ्यः
षष्ठी वनस्पतेः वनस्पत्योः वनस्पतीनाम्
सप्तमी वनस्पतौ वनस्पत्योः वनस्पतिषु
सम्बोधन हे वनस्पते ! हे वनस्पती ! हे वनस्पतयः !

अन्य महत्वपूर्ण शब्द रूप

महत्वपूर्ण शब्द रूप की Shabd Roop List देखें और साथ में shabd roop yad karane ki trick भी, सभी शब्द रूप संस्कृत में।

Shabd roop of Vanaspati -Image

Vanaspati Shabd Roop

Related Posts

परिधि शब्द के रूप – Paridhi Ke Roop, Shabd Roop – Sanskrit

Paridhi Shabd परिधि शब्द (Radius): इकारान्त पुंल्लिंग शब्द , इस प्रकार के सभी इकारान्त पुल्लिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। परिधि जैसे शब्द रूप को...Read more !

पुर् शब्द के रूप (Pur Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Pur Shabd पुर् शब्द (पूर्ण, भरा हुआ, पुर): पुर् शब्द के रकारान्त स्त्रीलिंग शब्द के शब्द रूप, पुर् (Pur) शब्द के अंत में ‘र्’ की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए...Read more !

व्याधि शब्द के रूप – Vyadhi Ke Shabd Roop – Sanskrit

Vyadhi Shabd व्याधि शब्द (व्याधि – शारीरिक कष्ट, Ailment, disease): इकारांत पुल्लिंग शब्द, इस प्रकार के सभी इकारांत पुल्लिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। व्याधि...Read more !

निधि शब्द के रूप – Nidhi Ke Shabd Roop – Sanskrit

Nidhi Shabd निधि शब्द (कोष, भंडार, खजाना): निधि शब्द के इकारांत पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, अर्थात निधि शब्द के अंत में “इ” की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह...Read more !

जलमुच् (मेघ, Cloud) शब्द के रूप – Jalmuch Shabd Roop in Sanskrit

जलमुच् शब्द जलमुच् शब्द (मेघ, Cloud): चकारान्त पुल्लिंग शब्द, सभी चकारान्त पुल्लिंग शब्दों के शब्द रूप इसी प्रकार बनाते है। परंतु तिर्य्यच् , प्रत्यच् , उदच् आदि आदि शब्दों के...Read more !