सखि शब्द के रूप – Sakhi ke roop – Sanskrit

सखि शब्द के रूप

सखि शब्द (सखा / मित्र ): इकारांत पुल्लिंग संज्ञा, सभी इकारांत पुल्लिंग संज्ञापदों के शब्द रूप इसी प्रकार बनाते है जैसे – कवि, हरि, ऋषि, यति, विधि, जलधि, गिरि, रवि, अग्नि, आदि; परंतु पति का रूप अलग होगा।

सखि के शब्द रूप – Sakhi Shabd Roop

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा सखा सखायौ सखायः
द्वितीया सखायम् सखायौ सखीन्
तृतीया सख्या सखिभ्याम् सखिभि
चतुर्थी सख्ये सखिभ्याम् सखिभ्यः
पंचमी सख्युः सखिभ्याम् सखिभ्यः
षष्ठी सख्युः सख्योः सखीनाम्
सप्तमी सखौ सख्योः सखिषु
सम्बोधन हे सखे ! हे सखायौ ! हे सखायः !

कुछ अन्य महत्वपूर्ण शब्द रूप –

कवि, हरि, ऋषि, यति, विधि, जलधि, गिरि, रवि, अग्नि, पति

Shabd Roop Of Sakhi In Photo (image/pdf)

Sakhi Shabd Roop

You may like these posts

प्रशाम् शब्द के रूप (Prasham Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Prasham Shabd प्रशाम् शब्द (इच्छा, प्यार का एक निशान): प्रशाम् शब्द के मकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, प्रशाम् (Prasham) शब्द के अंत में ‘म्’ की मात्रा का प्रयोग हुआ...Read more !

जरा (बुढ़ापा) शब्द रूप – Jara ke Roop – Sanskrit

जरा शब्द के रूप जरा शब्द (बुढ़ापा, Old Age): आकारांत स्त्रील्लिंग संज्ञा, सभी आकारांत स्त्रील्लिंग संज्ञापदों के शब्द रूप इसी प्रकार बनाते है। जरा के शब्द रूप – Jara/Budapa Shabd...Read more !

विरक्ति शब्द के रूप – Virakti Ke Shabd Roop – Sanskrit

Virakti Shabd विरक्ति शब्द ( उदासीनता, खिन्नता, अनुरागहीनता): विरक्ति शब्द के इकारान्त स्त्रील्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप, विरक्ति (Virakti) शब्द के अंत में “इ” की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए...Read more !