वणिज् शब्द के रूप – Vanij Ke Roop, Shabd Roop – Sanskrit

Vanij Shabd

वणिज् शब्द (tradesman, व्यापारी): जकारांत पुंल्लिंग शब्द , इस प्रकार के सभी जकारांत पुल्लिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। संस्कृत व्याकरण एवं भाषा में शब्द रूप अति महत्व रखते हैं। और धातु रूप (Dhatu Roop) भी बहुत ही आवश्यक होते हैं।

वणिज् के शब्द रूप इस प्रकार हैं-

वणिज् के शब्द रूप – Vanij Shabd Roop

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा वणिज् वणिजौ वणिजः
द्वितीया वणिजम् वणिजौ वणिजः
तृतीया वणिजा वणिग्भ्याम् वणिग्भिः
चतुर्थी वणिजे वणिग्भ्याम् वणिग्भ्यः
पंचमी वणिजः वणिग्भ्याम् वणिग्भ्यः
षष्ठी वणिजः वणिजोः वणिजाम्
सप्तमी वणिजि वणिजोः वणिक्षु
सम्बोधन हे वणिज् ! हे वणिजौ ! हे वणिजः !

अन्य महत्वपूर्ण शब्द रूप

महत्वपूर्ण शब्द रूप की Shabd Roop List देखें और साथ में shabd roop yad karane ki trick भी, सभी शब्द रूप संस्कृत में।

Shabd roop of Vanij -Image

Vanij Shabd Roop

Related Posts

कन्या शब्द के रूप – Kanya Ke Roop, Shabd Roop – Sanskrit

Kanya Shabd कन्या शब्द (Girl, known as a goddess in india): आकारांत स्त्रीलिंग शब्द , इस प्रकार के सभी आकारांत स्त्रीलिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते...Read more !

वीरूध् शब्द के रूप – Virudh Ke Roop, Shabd Roop – Sanskrit

Virudh Shabd वीरूध् शब्द (लता, creeper): धकारान्त स्त्रीलिन्ग शब्द , इस प्रकार के सभी धकारान्त स्त्रीलिन्ग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। संस्कृत व्याकरण एवं भाषा...Read more !

उत्तर शब्द के रूप (Uttar Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Uttar Shabd उत्तर शब्द (North, एक दिशा है): उत्तर शब्द के अकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, उत्तर (Uttar) शब्द के अंत में “अ” का प्रयोग हुआ इसलिए यह अकारान्त...Read more !

उपाधि शब्द के रूप – Upadhi Ke Roop, Shabd Roop – Sanskrit

Upadhi Shabd उपाधि शब्द (designation, degree): इकारान्त पुंल्लिंग शब्द , इस प्रकार के सभी इकारान्त पुल्लिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। संस्कृत व्याकरण एवं भाषा...Read more !

शिक्षक शब्द के रूप (Shikshak Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Shikshak Shabd शिक्षक शब्द (अध्यापक, Teacher): शिक्षक शब्द के अकारांत पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, शिक्षक (Shikshak) शब्द के अंत में “अ” की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह अकारांत...Read more !