पचत् शब्द के रूप (Pachat Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Pachat Shabd

पचत् शब्द (पकाया हुआ, पका हुआ, परिपक्व ): पचत् शब्द के तकारान्त नपुंसकलिंग शब्द के शब्द रूप, पचत् (Pachat) शब्द के अंत में ‘त’ की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह तकारान्त हैं। अतः Pachat Shabd के Shabd Roop की तरह पचत् जैसे सभी तकारान्त नपुंसकलिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। पचत् शब्द के शब्द रूप संस्कृत में सभी विभक्तियों एवं तीनों वचन में शब्द रूप (Pachat Shabd Roop) नीचे दिये गये हैं।

पचत् के शब्द रूप – Shabd roop of Pachat

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा पचत्/ पचद् पचन्ती पचन्ति
द्वितीया पचत्/ पचद् पचन्ती पचन्ति
तृतीया पचता पचद्भ्याम् पचद्भिः
चतुर्थी पचते पचद्भ्याम् पचद्भ्यः
पंचमी पचतः पचद्भ्याम् पचद्भ्यः
षष्ठी पचतः पचतोः पचताम्
सप्तमी पचति पचतोः पचत्सु
सम्बोधन हे पचत्/ पचद् ! हे पचती/ पचन्ती ! हे पचन्ति !

पचत् शब्द का अर्थ/मतलब

पचत् शब्द का अर्थ पकाया हुआ, पका हुआ, परिपक्व होता है। पचत् शब्द तकारान्त शब्द है इसका मतलब भी ‘पकाया हुआ, पका हुआ, परिपक्व ‘ होता है।

पचत् जैसे और महत्वपूर्ण शब्द रूप

उपर्युक्त शब्द रूप पचत् शब्द के तकारान्त नपुंसकलिंग शब्द के शब्द रूप हैं पचत् जैसे शब्द रूप (Pachat shabd Roop) देखने के लिए Shabd Roop List पर जाएँ।

संस्कृत में धातु रूप देखने के लिए Dhatu Roop पर क्लिक करें और नाम धातु रूप देखने के लिए Nam Dhatu Roop पर जायें।

You may like these posts

स्थितवत् (स्थितवान्) शब्द के रूप (Sthitavat Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Sthitavat Shabd स्थितवत् शब्द (स्थितवान्, Situation): स्थितवत् शब्द के तकारांत डवतु प्रत्ययान्त पुल्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप, स्थितवत् (Sthitavat) शब्द के अंत में “त्” का प्रयोग हुआ इसलिए यह तकारांत...Read more !

मन्त्रिन् (मंत्री) शब्द के रूप (Mantrin Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Mantrin Shabd मन्त्रिन् शब्द (मंत्री, परामर्श देनेवाला, सलाह देनेवाला): मन्त्रिन् शब्द के नकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, मन्त्रिन् (Mantrin) शब्द के अंत में “न्” का प्रयोग हुआ इसलिए यह...Read more !

कलत्र शब्द के रूप – Kalatra Ke Shabd Roop – Sanskrit

Kalatra Shabd कलत्र शब्द (पत्नी, भार्या): कलत्र शब्द के अकारान्त नपुंसकलिंग शब्द के शब्द रूप, कलत्र (Kalatra) शब्द के अंत में “अ” की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह अकारान्त...Read more !