कलि शब्द के रूप – Kali Ke Shabd Roop – Sanskrit

Kali Shabd

कलि शब्द (कलयुग, कलह, झगड़ा): इकारांत पुल्लिंग शब्द, इस प्रकार के सभी इकारांत पुल्लिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है।

कलि के शब्द रूप इस प्रकार हैं-

कलि के शब्द रूप – shabd roop of Kali

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा कलिः कली कलयः
द्वितीया कलिम् कली कलीन्
तृतीया कलिना कलिभ्याम् कलिभिः
चतुर्थी कलये कलिभ्याम् कलिभ्यः
पंचमी कलेः कलिभ्याम् कलिभ्यः
षष्ठी कलेः कल्योः कलीनाम्
सप्तमी कलौ कल्योः कलिषु
सम्बोधन हे कले ! हे कली ! हे कलयः !

महत्वपूर्ण शब्द रूप एवं धातु रूप

संस्कृत व्याकरण एवं भाषा में शब्द रूप अति महत्व रखते हैं, और धातु रूप (Dhatu Roop) भी बहुत ही आवश्यक होते हैं।
महत्वपूर्ण शब्द रूप की Shabd Roop List देखें और साथ में shabd roop yad karane ki trick भी, सभी शब्द रूप संस्कृत में।

Related Posts

द्वार शब्द के रूप (Dvaar Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Dvaar Shabd द्वार शब्द (door, द्वार, दरवाज़ा, घर, कमरा, प्रवेशमार्ग, निर्गम): द्वार शब्द के अकारान्त नपुंसकलिंग शब्द के शब्द रूप, द्वार (Dvaar) शब्द के अंत में ‘अ’ का प्रयोग हुआ...Read more !

गुणिन् (गुणी) शब्द के रूप – Gunin Ke Roop, Shabd Roop – Sanskrit

Gunin Shabd गुणिन् शब्द (गुणी, meritorious, deserving): इन् भागान्त् पुंल्लिंग शब्द , इस प्रकार के सभी इन् भागान्त् पुल्लिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। जैसे...Read more !

विश्वसृज् शब्द के रूप (Vishvasraj Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Vishvasraj Shabd विश्वसृज् शब्द (Rehabilitation, विश्वसृजः): विश्वसृज् शब्द के जकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, विश्वसृज् (vishvasraj) शब्द के अंत में ‘ज्’ की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह जकारान्त...Read more !

बन्दर/वानर शब्द के रूप – Bandar ke roop, Shabd Roop – Sanskrit

Bandar/Vanar Shabd बन्दर शब्द (Monkey): अकारांत पुंल्लिंग संज्ञा, सभी अकारान्त पुल्लिंग संज्ञापदों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। बन्दर/वानर के रूप – Shabd Roop विभक्ति एकवचन द्विवचन...Read more !

दुर्गा शब्द के रूप (Durga Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Durga Shabd दुर्गा शब्द (आदि शक्ति, देवी): दुर्गा शब्द के आकारान्त स्त्रीलिङ्ग शब्द के शब्द रूप, दुर्गा (Durga) शब्द के अंत में ‘आ’ की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह...Read more !