विशाल शब्द के रूप, पुंल्लिंग – Vishal Ke Roop, Pulling – Sanskrit

Vishal Shabd, Pulling

विशाल शब्द (big, बड़ा): अकारांत पुंल्लिंग विशेषण शब्द , इस प्रकार के सभी अकारांत पुंल्लिंग विशेषण शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। संस्कृत व्याकरण एवं भाषा में शब्द रूप अति महत्व रखते हैं। और धातु रूप (Dhatu Roop) भी बहुत ही आवश्यक होते हैं।

विशाल पुंल्लिंग के शब्द रूप इस प्रकार हैं-

विशाल के शब्द रूप, पुंल्लिंग – Vishal Shabd Roop, Pulling

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा विशालः विशालौ विशालाः
द्वितीया विशालम् विशालौ विशालान्
तृतीया विशालेन विशालाभ्याम् विशालैः
चतुर्थी विशालाय विशालाभ्याम् विशालेभ्यः
पंचमी विशालात् विशालाभ्याम् विशालेभ्यः
षष्ठी विशालस्य विशालयाः विशालानाम्
सप्तमी विशाले विशालयो विशालेषु
सम्बोधन हे विशालः ! हे विशालौ ! हे विशालाः !

अन्य महत्वपूर्ण शब्द रूप

महत्वपूर्ण शब्द रूप की Shabd Roop List देखें और साथ में shabd roop yad karane ki trick भी, सभी शब्द रूप संस्कृत में।

Shabd roop of Vishal, Pulling -Image

Related Posts

यद् (जो, Who) स्त्रीलिंग शब्द के रूप – Yad Striling ke roop – Sanskrit

यद् स्त्रीलिंग शब्द के रूप यद् स्त्रीलिंग शब्द (Who, Which जो): यद् (जो) स्त्रीलिंग सर्वनाम, यदादि – यद्, तद्, एतद्, किम् – इन शब्दों का क्रमशः य: , स: ,...Read more !

भर्तृ (भर्ता) शब्द के रूप (Bhartr Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Bhartr Shabd भर्तृ शब्द (भर्ता, गौरीभर्ता, शिव, स्त्री का पति, स्वामी, मालिक, खाविंद): भर्तृ शब्द के ऋकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, भर्तृ (Bhartr) शब्द के अंत में ‘ऋ’ की...Read more !

नेपथ्य शब्द के रूप (Nepathy Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Nepathy Shabd नेपथ्य शब्द ( वेश, भूषण, सजावट): नेपथ्य शब्द के अकारान्त नपुंसकलिंग शब्द के शब्द रूप, नेपथ्य (Nepathy) शब्द के अंत में ‘अ’ का प्रयोग हुआ इसलिए यह अकारान्त...Read more !

नासिका शब्द के रूप (Naasika Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Naasika Shabd नासिका शब्द (नाक, Nose): नासिका शब्द के आकारांत स्त्रीलिङ्ग शब्द के शब्द रूप, नासिका (Naasika) शब्द के अंत में “आ” की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह आकारांत...Read more !

ईश्वर शब्द के रूप – Ishwar Ke Roop – संस्कृत

ईश्वर शब्द ईश्वर शब्द : अकारांत पुल्लिंग संज्ञा , सभी पुल्लिंग संज्ञाओ के रूप इसी प्रकार बनाते है जैसे -देव, बालक, राम, वृक्ष, सूर्य, सुर, असुर, मानव, अश्व, गज, ब्राह्मण, क्षत्रिय,...Read more !