कर्म्मन् शब्द के रूप – Karman Ke Roop, Shabd Roop – Sanskrit

Karman Shabd

कर्म्मन् शब्द (काम, work): अन् भागान्त शब्द , इस प्रकार के सभी अन् भागान्त शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। संस्कृत व्याकरण एवं भाषा में शब्द रूप अति महत्व रखते हैं। और धातु रूप (Dhatu Roop) भी बहुत ही आवश्यक होते हैं।

कर्म्मन् के शब्द रूप इस प्रकार हैं-

कर्म्मन् के शब्द रूप – Karman Shabd Roop

Shabd roop of Karman, Pulling – पुल्लिंग

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा कर्म कर्मणी कर्माणि
द्वितीया कर्म कर्मणी कर्माणि
तृतीया कर्मणा कर्मभ्याम् कर्मभिः
चतुर्थी कर्मणे कर्मभ्याम् कर्मभ्यः
पञ्चमी कर्मणः कर्मभ्याम् कर्मभ्यः
षष्ठी कर्मणः कर्मणोः कर्मणाम्
सप्तमी कर्मणि कर्मणोः कर्मसु
सम्बोधन हे कर्मन्, कर्म ! हे कर्मणी ! हे कर्माणि !

Shabd roop of Karman, Napunsak ling – नपुंसकलिंग

नपुंसकलिंग शब्द रूप पुल्लिंग शब्द रूपों की तरह ही होते हैं। सिर्फ प्रथमा और द्वितीया विभक्ति के शब्द रूपों में अंतर होता है।

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा कर्म्म कर्म्मणी कर्म्माणि
द्वितीया कर्म्म कर्म्मणी कर्म्माणि
तृतीया कर्मणा कर्मभ्याम् कर्मभिः
चतुर्थी कर्मणे कर्मभ्याम् कर्मभ्यः
पञ्चमी कर्मणः कर्मभ्याम् कर्मभ्यः
षष्ठी कर्मणः कर्मणोः कर्मणाम्
सप्तमी कर्मणि कर्मणोः कर्मसु
सम्बोधन हे कर्म्म! हे कर्म्मणी ! हे कर्म्माणि !

अन्य महत्वपूर्ण शब्द रूप एवम् धातु रूप

महत्वपूर्ण शब्द रूप की Shabd Roop List देखें और साथ में shabd roop yad karane ki trick भी, सभी शब्द रूप संस्कृत में।

You may like these posts

ऋत्विज् (ऋत्विक्, ऋत्विग्) शब्द के रूप (Ritvij Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Ritvij Shabd ऋत्विज् शब्द (यज्ञ करनेवाला, वह जिसका यज्ञ में वरण किया जाय): ऋत्विज् शब्द के जकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, ऋत्विज् (Ritvij) शब्द के अंत में ‘ज्’ की...Read more !

त्यद् शब्द के रूप – Tyad Ke Roop, Shabd Roop – Sanskrit

Tyad Shabd त्यद् शब्द (Immediately): दकारांत सर्वनाम शब्द , इस प्रकार के सभी दकारांत सर्वनाम शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। संस्कृत व्याकरण एवं भाषा में...Read more !

सुनौ शब्द के रूप (Sunau Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Sunau Shabd सुनौ शब्द (अच्छी नौका या नाव, जल): सुनौ शब्द के औकारान्त नपुंसकलिंग शब्द के शब्द रूप, सुनौ (Sunau) शब्द के अंत में ‘औ’ की मात्रा का प्रयोग हुआ...Read more !