मुंशी प्रेमचंद – जीवन परिचय, रचनाएं और भाषा शैली, Premchand

मुंशी प्रेमचंद (Munshi Premchand) का जीवन परिचय, साहित्यिक परिचय, कवि परिचय एवं भाषा शैली और उनकी प्रमुख रचनाएँ एवं कृतियाँ। मुंशी प्रेमचंद का जीवन परिचय एवं साहित्यिक परिचय नीचे दिया गया है।

Munshi Premchand Jivan Parichay
मुंशी प्रेमचंद का जीवन परिचय

Munshi Premchand Biography in Hindi / Munshi Premchand Jeevan Parichay / Munshi Premchand Jivan Parichay / मुंशी प्रेमचंद :

नाम मुंशी प्रेमचंद
बचपन का नाम धनपत राय श्रीवास्तव
उर्दू रचनाओं में नाम नबाबराय
जन्म 31 जुलाई, 1880
जन्मस्थान लमही ग्राम, वाराणसी, उत्तर प्रदेश
मृत्यु 8 अक्टूबर, 1936
पेशा लेखक, अध्यापक, पत्रकार
माता आनंदी देवी
पिता अजायब राय
पत्नी शिवारानी देवी (1906-1938)
पुत्र अमृतराय, श्रीपथराय
पुत्री कमला देवी
प्रमुख रचनाएँ सेवासदन, निर्मला, रंगभूमि, कर्मभूमि, गबन, गोदान; कर्बला, संग्राम, प्रेम की वेदी; मानसरोवर: नमक का दारोगा, पूस की रात, बड़े भाई साहब, मंत्र
भाषा उर्दू, हिन्दी
शैली वर्णनात्मक, व्यंग्यात्मक, भावात्मक तथा विवेचनात्मक
साहित्य काल आधुनिक काल
विधाएं कहानी, उपन्यास, नाटक, निबंध
साहित्य में स्थान आधुनिक काल के सर्वोच्च उपन्यासकार एवं कहानीकार
सम्पादन माधुरी, मर्यादा, हंस, जागरण

जीवन परिचय

मुंशी प्रेमचंद का जन्म सन् 1880 में वाराणसी जिले के लमही ग्राम में हुआ था। उनका बचपन का नाम धनपत राय था, किन्तु वे अपनी कहानियाँ उर्दू में ‘नवाबराय‘ के नाम से लिखते थे और हिन्दी में मुंशी प्रेमचंद के नाम से। उनके दादाजी गुर सहाय राय पटवारी थे और पिता अजायब राय डाक विभाग में पोस्ट मास्टर थे। बचपन से ही उनका जीवन बहुत ही, संघर्षो से गुजरा था।

गरीब परिवार में जन्म लेने तथा 7 बर्ष की अल्पायु में ही मुंशी प्रेमचंद की माता आनंदी देवी की मृत्यु एवं 9 वर्ष की उम्र में सन् 1897 में उनके पिताजी का निधन हो जाने के कारण, उनका बचपन अत्यधिक कष्टमय रहा। किन्तु जिस साहस और परिश्रम से उन्होंने अपना अध्ययन जारी रखा, वह साधनहीन एवं कुशाग्रबुद्धि और परिश्रमी छात्रों के लिए प्रेरणाप्रद है।

प्रेमचंद का पहला विवाह पन्द्रह वर्ष की अल्पायु में उनके पिताजी ने करा दिया। उस समय मुंशी प्रेमचंद कक्षा 9 के छात्र थे। पहली पत्नी को छोड़ने के बाद उन्होंने दूसरा विवाह 1906 में शिवारानी देवी से किया जो एक महान साहित्यकार थीं। प्रेमचंद की मृत्यु के बाद उन्होंने “प्रेमचंद घर में” नाम से एक प्रसिद्ध पुस्तक लिखी।

प्रेमचंद की प्रारम्भिक शिक्षा सात वर्ष की उम्र में एक स्थानीय मदरसे से शुरू हुई। जहां उन्होंने हिन्दी के साथ उर्दू और अंग्रेजी का ज्ञान प्राप्त किया। 1898 में मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद, प्रारम्भ में वे कुछ वर्षों तक स्कूल में अध्यापक रहे। नौकरी के साथ ही उन्होंने पढ़ाई जारी रखी। 1910 में अंग्रेज़ी, दर्शन, फ़ारसी और इतिहास लेकर इण्टर किया और 1919 में अंग्रेजी, फ़ारसी और इतिहास लेकर बी. ए. किया। बी.ए पास करने के बाद वे शिक्षा विभाग के सब-डिप्टी इंस्पेक्टर पद पर नियुक्त हुए।

1921 में असहयोग आन्दोलन से सहानुभूति रखने के कारण मुंशी प्रेमचंद ने सरकारी नौकरी छोड़ दी और आजीवन साहित्य-सेवा करते रहे। उन्होंने कई पत्रिकाओं का सम्पादन किया। इसके बाद उन्होंने अपना प्रेस खोला तथा ‘हंस‘ नामक पत्रिका निकाली। लम्बी बीमारी के बाद 8 अक्टूबर 1936 में उनका देहावसान हो गया।

साहित्यिक परिचय

मुंशी प्रेमचंद जी ने लगभग एक दर्जन उपन्यासों एवं तीन सौ कहानियों की रचना की उन्होंने ‘माधुरी‘ एवं ‘मर्यादा‘ नामक पत्रिकाओं का सम्पादन किया तथा ‘हंस‘ एवं ‘जागरण‘ नामक पत्र भी निकाले। मुंशी प्रेमचंद उर्दू रचनाओं में ‘नवाब राय’ के नाम से लिखते थे। उनकी रचनाएँ आदर्शोन्मुख यथार्थवादी हैं, जिनमें सामान्य जीवन की वास्तविकताओं का सम्यक् चित्रण किया गया है। समाज-सुधार एवं राष्ट्रीयता उनकी रचनाओं के प्रमुख विषय रहे हैं।

प्रेमचंद जी ने हिन्दी कथा-साहित्य में युगान्तर उपस्थित किया। उनका साहित्य समाज-सुधार और राष्ट्रीय भावनाओं से ओतप्रोत है। वह अपने समय की सामाजिक तथा राजनीतिक परिस्थितियों का पूरा प्रतिनिधित्व करता है। उसमें किसानों की दशा, सामाजिक बन्धनों में तड़पती नारियों की वेदना और वर्णव्यवस्था की कठोरता के भीतर संत्रस्त हरिजनों की पीडा का मार्मिक चित्रण मिलता है।

प्रेमचंद की सहानुभूति भारत की दलित जनता, शोषित किसानों, मजदूरों और उपेक्षिता नारियों के प्रति रही है। सामयिकता के साथ ही ‘उनके साहित्य में ऐसे तत्त्व भी विद्यमान हैं, जो उसे शाश्वत और स्थायी बनाते हैं। मुंशी प्रेमचंद जी अपने युग के उन सिद्ध कलाकारों में थे, जिन्होंने हिन्दी को नवीन युग की आशा-आकांक्षाओं की अभिव्यक्ति का सफल माध्यम बनाया।

प्रेमचंद की रचनाएँ

मुंशी प्रेमचंद की रचनाओं में प्रसिद्ध उपन्यास 18 से अधिक हैं, जिनमें ‘सेवासदन’, ‘निर्मला’, ‘रंगभूमि’, ‘कर्मभूमि’, ‘गबन’, ‘गोदान’ आदि प्रमुख हैं। उनकी कहानियों का विशाल संग्रह आठ भागों में ‘मानसरोवर‘ नाम से प्रकाशित है, जिसमें लगभग तीन सौ कहानियाँ संकलित हैं। ‘कर्बला‘, ‘संग्राम‘ और ‘प्रेम की वेदी‘ उनके नाटक हैं। साहित्यिक निबंध ‘कुछ विचार‘ नाम से प्रकाशित हैं। उनकी कहानियों का अनुवाद संसार की अनेक भाषाओं में हुआ है। ‘गोदान‘ हिन्दी का एक श्रेष्ठ उपन्यास है।

भाषा

मुंशी प्रेमचंद जी उर्दू से हिन्दी में आए थे; अत: उनकी भाषा में उर्दू की चुस्त लोकोक्तियों तथा मुहावरों के प्रयोग की प्रचुरता मिलती है।

प्रेमचंद जी की भाषा सहज, सरल, व्यावहारिक, प्रवाहपूर्ण, मुहावरेदार एवं प्रभावशाली है तथा उसमें अद्भुत व्यंजना-शक्ति भी विद्यमान है।  मुंशी प्रेमचंद जी की भाषा पात्रों के अनुसार परिवर्तित हो जाती है।

प्रेमचंद की भाषा में सादगी एवं आलंकारिकता का समन्वय विद्यमान है। ‘बड़े भाई साहब’, ‘नमक का दारोगा’, ‘पूस की रात’ आदि उनकी प्रसिद्ध कहानियाँ हैं।

शैली

मुंशी प्रेमचंद जी की शैली आकर्षक है। इसमें मार्मिकता है। उनकी रचनाओं में चार प्रकार की शैलियाँ उपलब्ध होती है। वे इस प्रकार हैं- वर्णनात्मक, व्यंग्यात्मक, भावात्मक तथा विवेचनात्मक। चित्रात्मकता मुंशी प्रेमचंद की रचनाओं की विशेषता है।

मन्त्र‘ मुंशी प्रेमचंद की एक मर्मस्पर्शी कहानी है। इसमें विरोधी घटनाओं, परिस्थितियों और भावनाको का चित्रण करके मुंशी प्रेमचंद जी ने कर्तव्य-बोध का अभीष्ट प्रभाव उत्पन्न किया है। पाठक मंत्र-मुग्ध होकर पूरी कहानी को पढ़ जाता है। भगत की अन्तर्द्वन्द्वपूर्ण मनोदशा, वेदना एवं कर्तव्यनिष्ठा पाठकों के मर्म को लेती है।

Premchand
प्रेमचंद की कृतियों की सूची

प्रेमचंद के उपन्यास

मुंशी प्रेमचंद के 18 उपन्यास: गोदान, सेवा सदन, प्रेमाश्रय, निर्मला, रंगभूमि, कर्मभूमि, कालाकल्प, गबन, प्रेमा, रूठी रानी (प्रेमचंद का एक मात्र ऐतिहासिक उपन्यास), प्रतिज्ञा (अपने उर्दू उपन्यास ‘हमखुशी एक हमसुबाब’ के हिन्दी रूपान्तर ‘प्रेमा अर्थात् ‘दो सखियों का विवाह’ को परिष्कृत तथा नये रूप में प्रकाशित कराया), वरदान (अपने उर्दू उपन्यास ‘जलवए ईसार’ का हिन्दी रूपान्तर), मंगल सूत्र (प्रेमचंद का अंतिम और अपूर्ण उपन्यास)।

प्रेमचंद की कहानी संग्रह

इनकी पहली कहानी “ममता” है। ‘प्रेमचंद’ नाम से उनकी पहली कहानी बड़े घर की बेटी ज़माना पत्रिका के दिसम्बर 1910 के अंक में प्रकाशित हुई। मुंशी प्रेमचंद ने 300 से अधिक कहानियाँ मानसरोवर नामक पुस्तक द्वारा आठ भागों में प्रकाशित हुई हैं जिनमें- नवविधि, प्रेम पूर्णिमा, लाल फीता, नमक का दारोगा, प्रेम पचीसी, प्रेम प्रसून, प्रेम द्वाद्वशी, प्रेम तीर्थ, प्रेम प्रतिज्ञा, सप्त सुमन, प्रेम पंचगी, प्रेरणा, समरयात्रा, पंच प्रसून, नव जीवन, बड़े घर की बेटी, सप्त सरोज आदि प्रमुख हैं।

प्रतिनिधि कहानियां

प्रेमचंद की प्रतिनिधि कहानियों में- पंच परमेश्वर, सज्जनता का दंड, ईश्वरी न्याय, दुर्गा का मंदिर, आत्माराम, बूढ़ी काकी, सवा सेर गेहूं, शतरंज के खिलाड़ी, माता का हृदय, सुजान भगत, इस्तीफा, अलग्योझा, पूस की रात, बड़े भाई साहब, होली का उपहार, ठाकुर का कुआं, बेटों वाली विधवा, ईदगाह, प्रेम प्रमोद, नशा, दफन आदि प्रमुख हैं।

कहानियों की सूची: मुंशी प्रेमचंद की मानसरोवर के आठ भागों में प्रकाशित होने वाली 300 से अधिक कहानियों में से 118 के नाम निम्न हैं-

  1. अनाथ लड़की
  2. अन्धेर
  3. अपनी करनी
  4. अमृत
  5. अलग्योझा
  6. आखिरी तोहफ़ा
  7. आखिरी मंजिल
  8. आत्म-संगीत
  9. आत्माराम
  10. आल्हा
  11. इज्जत का खून
  12. इस्तीफा
  13. ईदगाह
  14. ईश्वरीय न्याय
  15. उद्धार
  16. एक आँच की कसर
  17. एक्ट्रेस
  18. कप्तान साहब
  19. कफ़न
  20. कर्मों का फल
  21. कवच
  22. कातिल
  23. कोई दुख न हो तो बकरी खरीद ला
  24. कौशल़
  25. क्रिकेट मैच
  26. खुदी
  27. गुल्‍ली डण्डा
  28. गृह-दाह
  29. गैरत की कटार
  30. घमण्ड का पुतला
  31. जुलूस
  32. जेल
  33. ज्‍योति
  34. झाँकी
  35. ठाकुर का कुआँ
  36. तांगेवाले की बड़
  37. तिरसूल
  38. तेंतर
  39. त्रिया-चरित्र
  40. दण्ड
  41. दिल की रानी
  42. दुर्गा का मन्दिर
  43. दूध का दाम
  44. दूसरी शादी
  45. देवी
  46. देवी – एक और कहानी
  47. दो बैलों की कथा
  48. दो सखियाँ
  49. धिक्कार
  50. धिक्कार – एक और कहानी
  51. नबी का नीति-निर्वाह
  52. नमक का दरोगा
  53. नरक का मार्ग
  54. नशा
  55. नसीहतों का दफ्तर
  56. नाग-पूजा
  57. नादान दोस्त
  58. निर्वासन
  59. नेउर
  60. नेकी
  61. नैराश्य
  62. नैराश्य लीला
  63. पंच परमेश्वर
  64. पत्नी से पति
  65. परीक्षा
  66. पर्वत-यात्रा
  67. पुत्र-प्रेम
  68. पूस की रात
  69. पैपुजी
  70. प्रतिशोध
  71. प्रायश्चित
  72. प्रेम-सूत्र
  73. बड़े घर की बेटी
  74. बड़े बाबू
  75. बड़े भाई साहब
  76. बन्द दरवाजा
  77. बाँका जमींदार
  78. बेटोंवाली विधवा
  79. बैंक का दिवाला
  80. बोहनी
  81. मनावन
  82. मन्त्र
  83. मन्दिर और मस्जिद
  84. ममता
  85. माँ
  86. माता का ह्रदय
  87. मिलाप
  88. मुक्तिधन
  89. मुबारक बीमारी
  90. मैकू
  91. मोटेराम जी शास्त्री
  92. राजहठ
  93. राष्ट्र का सेवक
  94. र्स्वग की देवी
  95. लैला
  96. वफ़ा का खजर
  97. वासना की कड़ियां
  98. विजय
  99. विश्वास
  100. शंखनाद
  101. शराब की दुकान
  102. शादी की वजह
  103. शान्ति
  104. शान्ति
  105. शूद्र
  106. सभ्यता का रहस्य
  107. समर यात्रा
  108. समस्या
  109. सवा सेर गेहूँ नमक का दरोगा
  110. सिर्फ एक आवाज
  111. सैलानी बन्दर
  112. सोहाग का शव
  113. सौत
  114. स्त्री और पुरूष
  115. स्वर्ग की देवी
  116. स्वांग
  117. स्‍वामिनी
  118. होली की छुट्टी

निबंध संग्रह

मुंशी प्रेमचंद के निबंध: पुराना जमाना नया जमाना, स्‍वराज के फायदे, कहानी कला (तीन भागों में), कौमी भाषा के विषय में कुछ विचार, हिन्दी-उर्दू की एकता, महाजनी सभ्‍यता, उपन्‍यास, जीवन में साहित्‍य का स्‍थान आदि प्रमुख हैं।

प्रेमचंद के अनुवाद

मुंशी प्रेमचंद ने ‘टॉलस्‍टॉय की कहानियाँ’ (1923), गाल्‍सवर्दी के तीन नाटकों का हड़ताल (1930), चाँदी की डिबिया (1931) और न्‍याय (1931) नाम से अनुवाद किया। उनका रतननाथ सरशार के उर्दू उपन्‍यास फसान-ए-आजाद का हिन्दी अनुवाद आजाद कथा बहुत मशहूर हुआ।

प्रेमचंद के नाटक

मुंशी प्रेमचंद ने तीन नाटकों की रचना की: संग्राम (1923) कर्बला (1924) और प्रेम की वेदी (1933)।

इन रचनाओं के अतिरिक्त प्रेमचंद ने बाल साहित्य और अपने ‘कुछ विचार‘ भी रचनाओं के के माध्यम से व्यक्त किये है:

  • बाल साहित्य के अंतर्गत- रामकथा, कुत्ते की कहानी, दुर्गादास;
  • कुछ विचार में- प्रेमचंद विविध प्रसंग, प्रेमचंद के विचार (तीन भागों में) आते हैं।

संपादन

मुंशी प्रेमचन्द ने ‘माधुरी’ एवं ‘मर्यादा’ नामक पत्रिकाओं का सम्पादन किया। तथा अपना प्रेस खोलकर ‘जागरण’ नामक समाचार पत्र तथा ‘हंस’ नामक मासिक साहित्यिक पत्रिका भी निकाली। उनके प्रेस का नाम ‘सरस्वती’ था। वे उर्दू की पत्रिका ‘जमाना’ में नवाब राय के नाम से लिखते थे।

विचारधारा

अपनी विचारधारा को प्रेमचंद ने आदर्शोन्मुख यथार्थवादी कहा है। प्रेमचंद साहित्य की वैचारिक यात्रा आदर्श से यथार्थ की ओर उन्मुख है। सेवासदन के दौर में वे यथार्थवादी समस्याओं को चित्रित तो कर रहे थे लेकिन उसका एक आदर्श समाधान भी निकाल रहे थे। 1936 तक आते-आते महाजनी सभ्यता, गोदान और कफ़न जैसी रचनाएँ अधिक यथार्थपरक हो गईं, किंतु उसमें समाधान नहीं सुझाया गया।

प्रेमचंद स्वाधीनता संग्राम के सबसे बड़े कथाकार हैं। इस अर्थ में उन्हें राष्ट्रवादी भी कहा जा सकता है। प्रेमचंद मानवतावादी भी थे और मार्क्सवादी भी। प्रगतिवादी विचारधारा उन्हें प्रेमाश्रम के दौर से ही आकर्षित कर रही थी।

1936 में मुंशी प्रेमचन्द ने प्रगतिशील लेखक संघ के पहले सम्मेलन को सभापति के रूप में संबोधन किया था। उनका यही भाषण प्रगतिशील आंदोलन के घोषणा पत्र का आधार बना। इस अर्थ में प्रेमचंद निश्चित रूप से हिंदी के पहले प्रगतिशील लेखक कहे जा सकते हैं।

विरासत

प्रेमचंद की परंपरा को आगे बढ़ाने में कई रचनाकारों ने भूमिका अदा की है। उनके नामों का उल्लेख करते हुए रामविलास शर्मा ‘प्रेमचंद और उनका युग’ में लिखते हैं कि- प्रेमचंद की परंपरा को ‘अलका’, ‘कुल्ली भाट’, ‘बिल्लेसुर बकरिहा’ के निराला ने अपनाया। उसे ‘चकल्लस’ और ‘क्या-से-क्या’ आदि कहानियों के लेखक पढ़ीस ने अपनाया। उस परंपरा की झलक नरेंद्र शर्मा, अमृतलाल नागर आदि की कहानियों और रेखाचित्रों में मिलती है।

स्मृतियाँ

प्रेमचंद की स्मृति में उनके गाँव लमही में उनके एक प्रतिमा भी स्थापित की गई है। भारतीय डाक विभाग ने 30 जुलाई 1980 को उनकी जन्मशती के अवसर पर 30 पैसे मूल्य का एक डाक टिकट जारी किया गया। गोरखपुर के जिस स्कूल में वे शिक्षक थे, वहाँ प्रेमचंद साहित्य संस्थान की स्थापना की गई है। प्रेमचंद की 125वीं सालगिरह पर सरकार की ओर से घोषणा की गई कि वाराणसी से लगे इस गाँव में प्रेमचंद के नाम पर एक स्मारक तथा शोध एवं अध्ययन संस्थान बनाया जाएगा।

Munshi Premchand Smriti Dwar
मुंशी प्रेमचंद स्मृति द्वार, लमही, वाराणसी
Munshi Premchand Smritiyan
डाक टिकट पर प्रेमचंद का चित्र और उनके गाँव लमही में प्रेमचंद की प्रतिमा

Frequently Asked Questions (FAQ)

1. प्रेमचंद का जन्म कब हुआ था?

मुंशी प्रेमचंद का जन्म सन् 1880 में वाराणसी जिले के लमही ग्राम में हुआ था।

2. प्रेमचंद का जीवन परिचय लिखिए?

प्रेमचंद का जन्म सन् 1880 में वाराणसी के लमही ग्राम में हुआ था। उनका बचपन का नाम धनपत राय था। अल्पायु में माता-पिता की मृत्यु के कारण उनका बचपन से ही उनका जीवन बहुत ही, संघर्षो से गुजरा था। किन्तु जिस साहस और परिश्रम से उन्होंने अपना अध्ययन जारी रखा, वह साधनहीन एवं कुशाग्रबुद्धि और परिश्रमी छात्रों के लिए प्रेरणाप्रद है। उनकी शिक्षा स्थानीय स्कूल में सम्पन्न हुई। उनकी मृत्यु 1936 में हुई।

3. प्रेमचंद की मृत्यु कब हुई थी?

मुंशी प्रेमचंद की मृत्यु लम्बी बीमारी के बाद 8 अक्टूबर 1936 को हुई थी।

4. प्रेमचंद का विवाह किससे हुआ था?

प्रेमचंद का पहला विवाह पन्द्रह वर्ष की अल्पायु में उनके पिताजी ने करा दिया। उस समय मुंशी प्रेमचंद कक्षा 9 के छात्र थे। पहली पत्नी को छोड़ने के बाद उन्होंने दूसरा विवाह 1906 में शिवारानी देवी से किया जो एक महान साहित्यकार थीं। प्रेमचंद की मृत्यु के बाद उन्होंने “प्रेमचंद घर में” नाम से एक प्रसिद्ध पुस्तक लिखी।

5. धनपत राय को प्रेमचंद नाम किसने दिया?

अंग्रेजों के खिलाफ लिखने पर, ब्रिटिश शासकों ने धनपत राय पर प्रतिबंध लगा दिया। जिससे उन्होंने अपना नाम बदलकर प्रेमचंद कर लिया।

6. मुंशी प्रेमचंद को कलम का सिपाही क्यों कहा जाता है?

मुंशी प्रेमचंद का वास्तविक नाम धनपत राय था। उनके लेखन का मुकाबला आज के बड़े-बड़े लेखक भी नहीं कर पाते हैं इसलिए अमृत राय ने मुंशी प्रेमचंद्र को ‘कलम का सिपाही’ कहा है। क़लम का सिपाही हिन्दी के विख्यात साहित्यकार अमृत राय द्वारा रचित एक जीवनी है जिसके लिये उन्हें सन् 1963 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

7. प्रेमचंद की पहली कहानी का नाम क्या है?

इनकी पहली कहानी “ममता” है तथा ‘प्रेमचंद’ नाम से उनकी पहली कहानी “बड़े घर की बेटी” है। जो ज़माना नामक पत्रिका में दिसम्बर 1910 के अंक में प्रकाशित हुई।

8. मुंशी प्रेमचंद की भाषा शैली कैसी थी?

मुंशी प्रेमचंद जी उर्दू से हिन्दी में आए थे; अत: उनकी भाषा में उर्दू की चुस्त लोकोक्तियों तथा मुहावरों के प्रयोग की प्रचुरता मिलती है। प्रेमचंद जी की भाषा सहज, सरल, व्यावहारिक, प्रवाहपूर्ण, मुहावरेदार एवं प्रभावशाली है तथा उसमें अद्भुत व्यंजना-शक्ति भी विद्यमान है। मुंशी प्रेमचंद जी की शैली आकर्षक है। इसमें मार्मिकता है। उनकी रचनाओं में चार प्रकार की शैलियाँ उपलब्ध होती है। वे इस प्रकार हैं- वर्णनात्मक, व्यंग्यात्मक, भावात्मक तथा विवेचनात्मक। चित्रात्मकता मुंशी प्रेमचंद की रचनाओं की विशेषता है।

अन्य महत्वपूर्ण जीवन परिचय– हिन्दी के अन्य जीवन परिचय देखने के लिए मुख्य प्रष्ठ ‘Jivan Parichay‘ पर जाएँ। जहां पर सभी जीवन परिचय एवं कवि परिचय तथा साहित्यिक परिचय आदि सभी दिये हुए हैं।

Related Posts

काका कालेलकर (Kaka Kalelkar) – जीवन परिचय, रचनाएँ और भाषा शैली

काका कालेलकर (Kaka Kalelkar) का जीवन परिचय, साहित्यिक परिचय, कवि परिचय एवं भाषा शैली और उनकी प्रमुख रचनाएँ एवं कृतियाँ। काका कालेलकर का जीवन परिचय एवं साहित्यिक परिचय नीचे दिया...Read more !

कबीर दास – जीवन परिचय, कृतियां और भाषा शैली

प्रश्न १. कबीरदास का जीवन-परिचय देते हुए उनकी प्रमुख कृतियों का उल्लेख कीजिए। Kabir Das कबीरदास का जन्म ऐसे समय में हुआ, जब समाज अनेक बराइयों से ग्रस्त था। छुआछूत,...Read more !

राजेन्‍द्र प्रसाद – जीवन-परिचय, रचनाएँ और भाषा-शैली

डॉ. राजेन्‍द्र प्रसाद जी का जीवन परिचय, साहित्यिक परिचय, कवि परिचय एवं भाषा शैली और उनकी प्रमुख रचनाएँ एवं कृतियाँ। राजेन्‍द्र प्रसाद का जीवन परिचय एवं साहित्यिक परिचय नीचे दिया...Read more !

विष्णु प्रभाकर (Vishnu Prabhakar) – जीवन परिचय, रचनाएँ और कृतियाँ

विष्णु प्रभाकर (Vishnu Prabhakar) का जीवन परिचय, साहित्यिक परिचय, कवि परिचय एवं भाषा शैली और उनकी प्रमुख रचनाएँ एवं कृतियाँ। Vishnu Prabhakar का जीवन परिचय एवं साहित्यिक परिचय नीचे दिया...Read more !

अशोक वाजपेयी – जीवन परिचय, रचनाएँ, कवितायेँ एवं भाषा शैली

“अशोक वाजपेयी” का जीवन परिचय, साहित्यिक परिचय, कवि परिचय एवं भाषा शैली और उनकी प्रमुख रचनाएँ एवं कृतियाँ। “अशोक वाजपेयी” का जीवन परिचय एवं साहित्यिक परिचय नीचे दिया गया है।...Read more !