प्रताप नारायण मिश्र – जीवन परिचय, रचनाएँ और भाषा शैली

प्रतापनारायण मिश्र (Pratap Narayan Mishra) का जीवन परिचय, साहित्यिक परिचय, कवि परिचय एवं भाषा शैली और उनकी प्रमुख रचनाएँ एवं कृतियाँ। “प्रतापनारायण मिश्र” का जीवन परिचय एवं साहित्यिक परिचय नीचे दिया गया है।

Pratap Narayan Mishra

Pratap Narayan Mishra Biography / Pratap Narayan Mishra Jeevan Parichay / Pratap Narayan Mishra Jivan Parichay / प्रताप नारायण मिश्र :

नाम प्रतापनारायण मिश्र
जन्म 24 सितंबर, 1856
जन्मस्थान बैजे गाँव, बेथर, उन्नाव, उ.प्र.
मृत्यु 6 जुलाई, 1894
मृत्युस्थान कानपुर, उत्तर प्रदेश
पेशा लेखक
पिता संकठा प्रसाद मिश्र
प्रमुख रचनाएँ बात, निबन्ध नवनीत, प्रताप-पीयूष, प्रताप-समीक्षा, गौ-संकट, हठी हम्मीर, भारत-दुर्दशा, कलि-कौतुक, कलि-प्रभाव, पंचामृत, इन्दिरा, नीतिरत्नावली
भाषा हिंदी, उर्दू, बँगला
शैली हास्य-व्यंग्य प्रधान शैली
साहित्य काल भातेन्दु युग
विधाएं निबंध, नाटक, कविता
साहित्य में स्थान भारतेंदु मंडल के प्रमुख लेखक
सम्पादन ब्राह्मण (मासिक पत्र)

आधुनिक हिन्दी-निर्माताओं की वृहत्त्रयी में भारतेन्दु हरिश्चन्द्र, बालकृष्ण भट्ट और प्रतापनारायण मिश्र की गणना होती है। प्रताप नारायण मिश्र जी को न तो भारतेन्दु जैसे साधन मिले थे और न ही भट्ट जी जैसी लम्बी आयु। मिश्र जी ने अपनी प्रतिभा एवं लगन के बल पर उस युग में अत्यन्त महत्त्वपूर्ण स्थान बनाया था।

जीवन-परिचय

प्रताप नारायण मिश्र जी का जन्म उन्नाव जिले के बैजे गाँव में सन् 1856 में हुआ था। इनके जन्म के कुछ दिनों बाद ही इनके ज्योतिषी पिता पं० संकटाप्रसाद मिश्र कानपुर आकर सपरिवार रहने लगे। यहीं पर इनकी शिक्षा-दीक्षा हुई। पिता इन्हें ज्योतिष पढ़ाकर अपने पैतृक व्यवसाय में लगाना चाहते थे, पर इनका स्वभाव मनमौजी था, जो ज्योतिष में नहीं रमा। ये कुछ समय तक अंग्रेजी स्कूल में भी पढे, किन्तु कोई भी अनुशासन और निष्ठा का कार्य, जिसमें विषय की नीरसता के साथ प्रतिबद्धता भी आवश्यक होती, इनके मनमौजी और फक्कड़ स्वभाव के विपरीत था; अतः ये यहाँ भी पढ़ न सके। घर में स्वाध्याय से ही इन्होंने संस्कृत, उर्दू, फारसी, अंग्रेजी और बँगला पर अच्छा अधिकार प्राप्त कर लिया। कानपुर में 38 वर्ष की अल्पायु में ही सन् 1894 में ये स्वर्ग सिधार गए।

साहित्यिक परिचय

प्रताप नारायण मिश्र जी के साहित्यिक जीवन का प्रारम्भ बड़ा ही दिलचस्प रहा। कानपुर उन दिनों लावनीबाजों का केन्द्र था और प्रताप नारायण मिश्र जी को लावनी अत्यन्त प्रिय थी। लावनीबाजों के सम्पर्क में आकर इन्होंने लावनियाँ और ख्याल लिखना शुरू कर दिया। यहीं से इनके कवि और लेखक जीवन का प्रारम्भ हुआ।

प्रताप नारायण मिश्र जी साहित्यकार होने के साथ सामाजिक जीवन से भी जुड़े थे। सामाजिक, राजनीतिक, धार्मिक संस्थाओं से इनका निकट का सम्पर्क था और देश में जो नवजागरण की लहर आ रही थी, उसके प्रति भी ये सचेत थे। वास्तव में नवजागरण का संदेश ही जीवन तक पहुँचाने के लिए इन्होंने साहित्य-सेवा का व्रत लिया और ‘ब्राह्मण’ पत्र के आजीवन संपादक रहे।

प्रताप नारायण मिश्र जी बहमुखी प्रतिभा और विविध रुचियों के धनी थे। कानपुर में इन्होंने नाटक सभा नाम की एक संस्था बनायी थी। उसके माध्यम से ये पारसी थियेटर के समानान्तर हिन्दी का अपना रंगमंच खड़ा करना चाहते थे। ये स्वयं भी भारतेन्दु जी की भाँति कुशल अभिनय करते थे।

प्रताप नारायण मिश्र जी भारतेन्दु जी के व्यक्तित्व से अत्यधिक प्रभावित थे तथा उन्हें अपना गुरु मानते थे। ये वाग्वैदग्ध्य के धनी थे और अपनी हाजिरजवाबी एवं विनोदी स्वभाव के लिए प्रसिद्ध थे।

रचनाएँ

  • निबन्ध : बात, निबन्ध नवनीत, प्रताप-पीयूष, प्रताप-समीक्षा
  • नाटक : गौ-संकट, हठी हम्मीर, भारत-दुर्दशा, कलि-कौतुक, कलि-प्रभाव
  • अनुवादित : पंचामृत, इन्दिरा, नीतिरत्नावली
  • कविता : प्रेम पुष्पावली, मन की लहर, कानपुर महात्म्य, ब्रैडला स्वागत, दंगल खंड, तृप्यन्ताम्, लोकोक्तिशतक, दीवो बरहमन (उर्दू)।

भाषा

हिन्दी के खड़ीबोली गद्य के निर्माताओं में प्रताप नारायण मिश्र जी का प्रमुख स्थान है। इनकी भाषा प्रवाहयुक्त, सुबोध एवं मुहावरेदार है। इन्होंने गंभीर और साधारण, दोनों प्रकार के विषयों पर रोचक निबन्ध लिखे हैं। ‘बात’, ‘बुढ़ापा’, ‘दाँत’, ‘भौं’, ‘रिश्वत’, ‘भुच्छ’, ‘धोखा’, ‘बन्दरों की सभा’ आदि साधारण विषयों के अतिरिक्त इन्होंने प्रचलित कहावतों पर भी निबन्ध लिखे हैं, जैसे ‘मरे को मारे शाहमदार’ तथा ‘समझदार की मौत’। इसके अतिरिक्त प्रताप नारायण मिश्र जी ने सामाजिक, राजनीतिक और साहित्यिक विषयों पर भी विचारपूर्ण गंभीर निबन्ध लिखे हैं। इनके निबन्धों में हास्य एवं व्यंग्य का पुट रहता है, जिसके कारण निबन्धों में चुटीलापन और जिन्दादिली दिखाई देती है।

शैली

प्रताप नारायण मिश्र जी की शैली हास्य-विनोदपूर्ण है। प्रतापनारायण प्रताप नारायण मिश्र की शैली के दो रूप पाए जाते हैं- विनोदात्मक हास्य-व्यंग्यमयी शैली तथा गम्भीर विवेचनात्मक शैली। गम्भीर विषयों के विवेचन में इन्होंने विवेचनात्मक शैली अपनायी है।

बात‘ प्रताप नारायण मिश्र जी की हास्य-व्यंग्य प्रधान शैली, जो इनकी प्रतिनिधि शैली कही जाती है, के अन्तर्गत आने वाले प्रसिद्ध निबन्धों में से एक है। लेखक ने इसमें बात के विषय में सभी ज्ञातव्य बातों का सहज समावेश किया है। लेखक की स्वच्छन्द कल्पना और शैली की रोचकता का समन्वित सौन्दर्य इस लेख की विशेषता है।

हिन्दी के अन्य जीवन परिचय

हिन्दी के अन्य जीवन परिचय देखने के लिए मुख्य प्रष्ठ ‘Jivan Parichay‘ पर जाएँ। जहां पर सभी जीवन परिचय एवं कवि परिचय तथा साहित्यिक परिचय आदि सभी दिये हुए हैं।

You may like these posts

मैथिलीशरण गुप्त – जीवन परिचय और रचनाएँ

Q. मैथिलीशरण गुप्त का संक्षिप्त जीवन-परिचय देते हुए उनकी रचनाओं पर प्रकाश डालिए। राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त भारतीय संस्कृति के अमर गायक हैं। उनके व्यक्तित्व और कृतित्व में राष्ट्रीय एवं सांस्कृतिक...Read more !

भारतेन्दु हरिश्चन्द्र – जीवन परिचय, कृतियां एवं भाषा शैली

Bhartendu Harishchandra भारतेन्दु बाबू हरिश्चन्द्र हिन्दी गद्य के ही नहीं अपितु आधुनिक काल के जनक कहे जाते हैं। बहुमुखी प्रतिभा के धनी भारतेन्दु जी ने साहित्य के विविध क्षेत्रों में...Read more !

मोक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या | Mokshagundam Visvesvaraya, Biography

सर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या (Mokshagundam Visvesvaraya) लोकप्रिय रूप से सर एमवी (Sir M V) के रूप में जाने जाते है; इनका जन्म 15 सितंबर 1861 को कर्नाटक में हुआ था। और 12...Read more !