अशोक वाजपेयी – जीवन परिचय, रचनाएँ, कवितायेँ एवं भाषा शैली

“अशोक वाजपेयी” का जीवन परिचय, साहित्यिक परिचय, कवि परिचय एवं भाषा शैली और उनकी प्रमुख रचनाएँ एवं कृतियाँ। “अशोक वाजपेयी” का जीवन परिचय एवं साहित्यिक परिचय नीचे दिया गया है।

ASHOK VAJPEYI

जीवन परिचय

अशोक वाजपेयी का जन्म 16 जनवरी, सन् 1941 को दुर्ग (मध्य प्रदेश) में हुआ था। इन्होंने सागर विश्वविद्यालय से बी० ए० तदन्तर सेंट स्टीवेंस कॉलेज, दिल्ली से अंग्रेजी साहित्य में एम0 ए0 उत्तीर्ण किया। लोक सेवक के रूप में इन्होंने कला के उत्थान में अभूतपूर्व योगदान दिया है।

रचनाएँ

अशोक वाजपेयी की अब तक स्वलिखित और सम्पादित 33 कृतियाँ प्रकाशित हो चुकी हैं जिनमें शहर अब भी सम्भावना है (1966), एक पतंग अनन्त में (1984), अगर इतने से (1986), तत्पुरुष (1989), कहीं नहीं वहीं (1991), बहुरि अकेला (1992), थोड़ी-सी जगह (1994), घास में दुबका आकाश (1994), आविन्यो (1995), जो नहीं है (1996), अभी कुछ और (1998) और समग्र कविताओं का संचयन ‘तिनका-तिनका’ दो खण्डों में (1996) प्रकाशित कृतियाँ हैं। कविता के अलावा आलोचना की ‘फिलहाल’ (1979), कुछ पूर्वग्रह (1984), समय से बाहर (1994), सीढ़ियाँ शुरू हो गयी हैं (1996), कविता का गल्प (1996), कवि कह गया है (1998) कृतियाँ प्रकाशित हुई हैं।

सम्पादित कृतियाँ

तीसरा साक्ष्य (1979), साहित्य विनोद (1984), कला विनोद (1986), पुनर्वसु (1989), कविता का जनपद (1993) के अलावा गजानन माधव मुक्तिबोध, शमशेर और अज्ञेय की चुनी हुई कविताओं का सम्पादन। कुमार गन्धर्व, निर्मल वर्मा, जैनेन्द्र कुमार, हजारीप्रसाद द्विवेदी और अज्ञेय पर एकाग्र पुस्तकें सम्पादित हैं।

साहित्यिक पत्रकारिता

साहित्यिक पत्रकारिता के क्षेत्र में भी अशोक वाजपेयी का उल्लेखनीय योगदान है। समवेत (1958-59), पहचान (1970-74), पूर्वग्रह (1974-1990), बहुवचन (1990), कविता एशिया (1990) समास (1992) आदि इनके साहित्यिक पत्रकारिता की पहचान के स्तम्भ हैं। इसके अतिरिक्त ‘द बुक रिव्य’ समेत अनेक पत्रिकाओं के सलाहकार सम्पादक रहे।

सम्मान

साहित्य अकादमी 1994 और दयावती मोदी कवि शिखर सम्मान से अलंकृत।

अशोक वाजपेयी समग्र जीवन की उच्छल अनुगूंजों के कवि हैं। उन्हें समय-बिद्ध कवि कहने के बजाय कालबिद्ध कवि कहना ज्यादा उपयुक्त है। उनका समग्रबोध भौतिक, सामाजिक और साधारण जीवन की ही कथा है। अशोक वाजपेयी की काव्यानुभूति की बनावट में सच्ची, खरी और एक सजग आधुनिक भारतीय मनुष्य की संवेदना का योग है जिसमें परम्परा का पुनरीक्षण और आधुनिकता की खोज दोनों साथ-साथ है।

वशिष्ठ मुनि ओझा के अनुसार-

“आजादी के इन साठ वर्षों की कविता का इतिहास जब लिखा जायगा तो अशोक वाजपेयी उन थोड़े से हिन्दी कवियों में एक होंगे जिनकी कविता की रूह में भारतीयता की एक गहरी छाप मौजूद होगी, जहाँ आपको कविता की परम्परा का सूक्ष्म पुनरीक्षण, काव्यभाषा की परम्परा का अपने समय में अचूक प्रयोग, अपनी संस्कृति, कला और सभ्यता के प्रति एक सजग अनुराग और समर्पण की आस्था मौजूद मिलेगी।”

अशोक वाजपेयी अपनी कविता में हमेशा विनम्र, प्रेम-पिपासु, उत्सुक, अन्वेषी मनुष्य लगते हैं, जिसे इस जीवन जगत् से गहरा प्रेम है। वे समकालीन काव्यशास्त्र की बनी-बनायी रूढ़ियों के प्रचलित रास्तों को छोड़कर अपनी राह पर चलनेवाले निर्भय कवि हैं।

1. युवा जंगल

एक युवा जंगल मुझे,
अपनी हरी उँगलियों से बुलाता है।
मेरी शिराओं में हरा रक्त बहने लगा है।
आँखों में हरी परछाइयाँ फिसलती हैं
कन्धों पर एक हरा आकाश ठहरा है
होंठ मेरे एक हरे गान में काँपते हैं-

मैं नहीं हूँ और कुछ
बस एक हरा पेड़ हूँ
-हरी पत्तियों की एक दीप्त रचना।

ओ जंगल युवा,
बुलाते हो
आता हूँ
एक हरे वसन्त में डूबा हुआ
आऽताऽ हूँ….।

2. भाषा एकमात्र अनन्त है

फूल झरता है
फूल शब्द नहीं!

बच्चा गेंद उछालता है,
सदियों के पार
लोकती है उसे एक बच्ची!

बूढ़ा गाता है एक पद्य,
दुहराता है दूसरा बूढ़ा,
भूगोल और इतिहास से परे
किसी दालान में बैठा हुआ!

न बच्चा रहेगा,
न बूढ़ा,
न गेंद, न फूल, न दालान
रहेंगे फिर भी शब्द

भाषा एकमात्र अनन्त है।

हिन्दी के अन्य जीवन परिचय

हिन्दी के अन्य जीवन परिचय देखने के लिए मुख्य प्रष्ठ ‘Jivan Parichay‘ पर जाएँ। जहां पर सभी जीवन परिचय एवं कवि परिचय तथा साहित्यिक परिचय आदि सभी दिये हुए हैं।

Related Posts

मैथिलीशरण गुप्त – जीवन परिचय और रचनाएँ

Q. मैथिलीशरण गुप्त का संक्षिप्त जीवन-परिचय देते हुए उनकी रचनाओं पर प्रकाश डालिए। राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त भारतीय संस्कृति के अमर गायक हैं। उनके व्यक्तित्व और कृतित्व में राष्ट्रीय एवं सांस्कृतिक...Read more !

प्रो. जी. सुन्दर रेड्डी – जीवन परिचय, कृतियां और भाषा शैली

प्रश्न प्रो. जी. सुन्दर रेड्डी की भाषा-शैली की विशेषताओं पर प्रकाश डालिए। अथवा प्रो. जी. सुन्दर रेड्डी का साहित्यिक परिचय देते हुए उनकी भाषा-शैली पर प्रकाश डालिए। Prof. G. Sundar...Read more !

सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ – जीवन परिचय, रचनाएँ, कविता और भाषा

सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’ (Suryakant Tripathi Nirala) हिंदी साहित्य के छायावाद के प्रमुख चार स्तम्भो में से एक थे। इसके अतिरिक्त वे एक लेखक, कहानीकार, कवि, उपन्यासकार, निबंधकार एवं सम्पादक भी...Read more !

डॉ० भगवतशरण उपाध्याय – जीवन परिचय, भाषा शैली और रचनाएँ

भगवतशरण उपाध्याय का जीवन परिचय, साहित्यिक परिचय, कवि परिचय एवं भाषा शैली और उनकी प्रमुख रचनाएँ एवं कृतियाँ। “डॉ० भगवतशरण उपाध्याय” का जीवन परिचय एवं साहित्यिक परिचय नीचे दिया गया...Read more !

रामनरेश त्रिपाठी – जीवन परिचय, रचनाएँ और भाषा शैली

रामनरेश त्रिपाठी का जीवन परिचय, साहित्यिक परिचय, कवि परिचय एवं भाषा शैली और उनकी प्रमुख रचनाएँ एवं कृतियाँ। “रामनरेश त्रिपाठी” का जीवन परिचय एवं साहित्यिक परिचय नीचे दिया गया है।...Read more !