हे प्रभो आनंद-दाता ज्ञान हमको दीजिए – Hey Prabhu Anand Data Gyan Humko Deejiye – हिन्दी प्रार्थना/कविता/गीत

Hey Prabhu Anand Data Gyan Humko Deejiye
हिन्दी प्रार्थना/कविता/गीत: हे प्रभु आनंद-दाता ज्ञान हमको दीजिए, शीघ्र सारे दुर्गुणों को दूर हमसे कीजिए।

‘हे प्रभु आनंद-दाता ज्ञान हमको दीजिए’ महाकवि पंडित रामनरेश त्रिपाठी द्वारा रचित के काव्य साहित्य की देन है। यह गीत रचना स्कूलों में प्रार्थना के रूप में गाया जाता है।

हे प्रभु आनंद दाता ज्ञान हमको दीजिए

हे प्रभु आनंद-दाता ज्ञान हमको दीजिए,
शीघ्र सारे दुर्गुणों को दूर हमसे कीजिए।
लीजिए हमको शरण में, हम सदाचारी बनें,
ब्रह्मचारी धर्म-रक्षक वीर व्रत धारी बनें।

हे प्रभु आनंद-दाता ज्ञान हमको दीजिए…॥

निंदा किसी की हम किसी से भूल कर भी न करें,
ईर्ष्या कभी भी हम किसी से भूल कर भी न करें।
सत्य बोलें, झूठ त्यागें, मेल आपस में करें,
दिव्या जीवन हो हमारा, यश तेरा गाया करें।

हे प्रभु आनंद-दाता ज्ञान हमको दीजिए…॥

जाए हमारी आयु हे प्रभु लोक के उपकार में,
हाथ डालें हम कभी न भूल कर अपकार में।
कीजिए हम पर कृपा ऐसी हे परमात्मा,
मोह मद मत्सर रहित होवे हमारी आत्मा।

हे प्रभु आनंद-दाता ज्ञान हमको दीजिए…॥

प्रेम से हम गुरु जनों की नित्य ही सेवा करें,
प्रेम से हम संस्कृति की नित्य ही सेवा करें।
योग विद्या ब्रह्म विद्या हो अधिक प्यारी हमें,
ब्रह्म निष्ठा प्राप्त कर के सर्व हितकारी बनें।

हे प्रभु आनंद-दाता ज्ञान हमको दीजिए…॥

हे प्रभु आनंद-दाता ज्ञान हमको दीजिए,
शीघ्र सारे दुर्गुणों को दूर हमसे कीजिए॥


Hey Prabhu Anand Data Gyan Humko Deejiye

He Prabho Ananda Data, Gyana Hamako Dijiye

Seegra Sare Durgunonko, Dura Hamase Kijiye

Lijiye Hamako Saraname, Ham Sadachari Bane

Brahmachari Dharma Rakshaka, Vira Vrata Dhari Bane

He Prabho Ananda Data, Gyana Hamako Dijiye

Prema Se Hama Guru Janon Ke, Nitya Hi Seva Kare

Satya Bole Jhuta Thyage, Mela Aapase Me Kare

He Prabho Ananda Data, Gyana Hamako Dijiye

Ninda Kissike Hama Kissise, Bhola Kara Bhi Na Kare

Divya Jivana Ho Hamara, Tere Vasa ·aaya Kare

He Prabho Ananda Data, Gyana Hamako Dijiye

अन्य हिन्दी प्रार्थना/कविता/गीत/वंदना: सुबह सवेरे लेकर तेरा नाम प्रभु, वह शक्ति हमें दो दया निधे, पूजनीय प्रभु हमारे भाव उज्वल कीजिये, तू ही राम है तू रहीम है, इतनी शक्ति हमें देना दाता, जयति जय जय माँ सरस्वती, तुम्हीं हो माता पिता तुम्हीं हो, दया कर दान विद्या का, मानवता के मन मन्दिर में, माँ शारदे कहाँ तू वीणा, हम होंगे कामयाब एक दिन, हमको मन की शक्ति देना, हर देश में तू हर भेष में तू, हे प्रभो आनंद-दाता ज्ञान हमको दीजिए, हे शारदे माँ, हे हंसवाहिनी ज्ञानदायिनी, ऐ मालिक तेरे बंदे हम, वर दे वीणावादिनी वर दे

You may like these posts

वर दे, वीणावादिनी वर दे – Var de veena vadini var de – प्रार्थना/कविता/गीत/सरस्वती वंदना

‘वीणा वादिनी वर दे‘ नामक प्रसिद्ध कविता सूर्य कान्त त्रिपाठी निराला जी द्वारा लिखित है। भारत के कई हिन्दी भाषी स्कूलों में इसे प्रार्थना के रूप में स्वीकार किया गया...Read more !

जयति जय जय माँ सरस्वती – Jayati jay jay Maa Saraswati – हिन्दी प्रार्थना/कविता/गीत/सरस्वती वंदना

जयति जय जय माँ सरस्वती जयति जय जय माँ सरस्वती, जयति वीणा धारिणी॥ जयति जय पद्मासन माता, जयति शुभ वरदायिनी। जयति जय जय माँ सरस्वती, जयति वीणा धारिणी॥ जगत का...Read more !

तू ही राम है तू रहीम है – प्रार्थना, tu hi ram hai tu rahim hai full prayer – हिन्दी प्रार्थना

प्रार्थना – तू ही राम है तू रहीम है तू ही राम है तू रहीम है , तू करीम, कृष्ण, खुदा हुआ, तू ही वाहे गुरु, तू ईशू मसीह, हर...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *